Home रूबरू मोदी तानाशाह शासक हैं

मोदी तानाशाह शासक हैं

आकांक्षा पारे काशि‍व - MAY 06 , 2016
मोदी तानाशाह शासक हैं
मोदी तानाशाह शासक हैं

सिंहस्थ की व्यवस्था को लेकर संतुष्ट हैं?

सब मिला कर संतुष्टि ही हैं। अब इतनी बड़ी संख्या में लोग आएं तो थोड़ी दिक्कत तो होती ही है। शौचालय, पानी की समस्या हो ही जाती है।

सिंहस्थ की व्यवस्था के लिए आप शिवराज को कितने नंबर देंगे?

मैं तो पूरे नंबर दूंगा। जो उनकी श्रद्धा है, आस्था है सिंहस्थ और साधुओं के प्रति वह बहुत है। वह खुद भागदौड़ कर रहे हैं। यह बहुत अच्छा है।

संन्यासी होने की क्या प्रक्रिया है। जाति देखी जाती है?

आस्था देखी जाती है जाति नहीं।

नित्यानंद जैसे लोग साधुओं की छवियों को धूमिल नहीं करते?

नित्यानंद पर जो आरोप लगे उन्हें न्यायालय ने खारिज कर दिया। जब न्यायालय में ही यह मामला नहीं तो हम उन पर आरोप क्यों लगाएं? आरोप लगाना अलग है, आरोप सिद्ध हो जाना अलग।

नरेंद्र मोदी से आपकी क्या अपेक्षा है?

राम मंदिर बन जाए इससे ज्यादा हमारी उनसे कोई अपेक्षा नहीं है।

क्या वह यह कर पाएंगे?

मुझे तो मुश्किल लग रहा है।

तो क्या आप लोग फिर आंदोलन करेंगे?

अब आंदोलन करके तो हम थक गए हैं। यह आम सहमति से बन सकता है। मुझे तो लगता है भारतीय जनता पार्टी इस मुद्दे को खत्म करना नहीं चाहती है।

आपको लगता है कि नरेंद्र मोदी हिंदू धर्म की रक्षा के लिए काम कर रहे हैं?

हमें तो कोई परिवर्तन नहीं दिख रहा उनके आने के बाद। जैसा कांग्रेस के वक्त था वैसा ही अब भी है। महंगाई उतनी ही है।

लेकिन उन्होंने विदेश में देश की अलग छवि बनाई है?

अब घर में खाने को रोटी न मिले और विदेश जाएं तो क्या फायदा। 

 

आप मोदी को कैसा शासक मानते हैं?

तानाशाह। मोदी तानाशाह शासक हैं। अपने आगे किसी की सुनते नहीं है। वह मन की बात सुनने नहीं आते। सरकार को दो साल हो गए, एक भी काम बताइए जो हुआ हो?

भारतीय जनता पार्टी दोबारा सत्ता में आएगी?

राम मंदिर न बना तो अब 50 साल नहीं आएगी। राम मंदिर बना देंगे तो 50 साल रहेंगे।

मंदिर से बड़ा मुद्दा विकास नहीं है?

विकास हर आदमी चाहता है। लेकिन मोदी को वोट विकास के नाम पर नहीं, मंदिर के नाम पर ही मिला है। गोधरा कांड के बाद उनकी छवि जो हिंदूवादी बनी थी, उसी छवि को वोट मिला है। अगर विकास के नाम पर ही वोट मिलना होता तो समाजवादी पार्टी ने भी खूब विकास किया है।

सिंहस्थ के बाद भी क्या मोदी की सरकार दोबारा नहीं आएगी?

इसमें मोदी का क्या योगदान है। सिंहस्थ के लिए शिवराज ने मेहनत की है। शिवराज के नेतृत्व में यदि यहां चुनाव लड़ा जाएगा तो भाजपा कभी नहीं हारेगी।

आप अखिलेश-शिवराज में से किसे बेहतर मुख्यमंत्री मानते हैं?

दोनों को।

किसी एक को चुनना हो तो?

अखिलेश यादव।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से