Home » दुनिया » दक्षिण एशिया » चीन गुर्राया, अरुणाचल का नाम बदलना हमारा कानूनी अधिकार

चीन गुर्राया, अरुणाचल का नाम बदलना हमारा कानूनी अधिकार

APR 21 , 2017

बता दें कि इस महीने दलाई लामा के अरुणाचल प्रदेश दौरे पर आपत्ति जताते हुए चीन के नागिरक मामलों के मंत्रालय ने इस क्षेत्र के छह इलाकों के चीनी नाम रखने का ऐलान किया है। साथ ही चीन की सरकारी मीडिया ने चेताया है कि अगर भारत दलाई लामा कार्ड खेलना जारी रखता है तो उसे इसकी बहुत भारी कीमत चुकानी होगी। चीन का कहना है कि जातीय मोमबा और तिब्बती चीनियों द्वारा प्रासंगिक नामों का इस्तेमाल किया जाता रहा है जो कि यहां पीढि़यों से रहते हैं। यह एक तथ्य है जिसे बदला नहीं जा सकता है। इन नामों को मानकीकृत करना और उनका प्रसार करना हमारे कानूनी अधिकार है।

भारत ने अरूणाचल प्रदेश के छह इलाकों को चीनी नाम देने की आलोचना करते हुए कहा था कि पड़ोसियों के शहरों को गढ़े हुए नाम देने से अवैध दावे वैध नहीं हो जाते हैं। चीन के इस दावे पर शहरी विकास मंत्री वैंकेया नायडू ने साफ शब्दों में दोहराया कि अरुणाचल भारत का अभिन्न हिस्सा है और चीन के पास भारतीय इलाकों के नाम बदलने का अधिकार नहीं है। उन्होंने पूछा कि क्या कोई पड़ोसी आपका नाम बदलने का अधिकार रखता है।

इससे पहले चीन ने भारत को चेताया था कि अरुणाचल में दलाई लामा का आना दोनों देशों के बीच रिश्तों को नुकसान पहुंचा सकता है। चीन ने 81 साल के तिब्बती नेता को एक खतरनाक अलगाववादी बताया है जो तिब्बत को चीन से दूर करना चाहता है। वहीं भारत लगाताकर कहता आया आया है कि दलाई लामा के इस दौरे का उद्देश्य धार्मिक एकता था और इसका कोई राजनीतिक मतलब न निकाला जाए। भारत ने जोर देते हुए यह भी कहा कि चीन का भारत के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने का कोई अधिकार नहीं है।

Advertisement

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.