Advertisement
Home दुनिया पाकिस्तानी पीएम शहबाज शरीफ की बढ़ी मुश्किलें, 16 अरब रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग मामलें में कोर्ट ने किया तलब

पाकिस्तानी पीएम शहबाज शरीफ की बढ़ी मुश्किलें, 16 अरब रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग मामलें में कोर्ट ने किया तलब

आउटलुक टीम - JUL 30 , 2022
पाकिस्तानी पीएम शहबाज शरीफ की बढ़ी मुश्किलें, 16 अरब रुपये के  मनी लॉन्ड्रिंग मामलें में कोर्ट ने किया तलब
पाकिस्तानी पीएम शहबाज शरीफ की बढ़ी मुश्किलें, 16 अरब रुपये के मनी लॉन्ड्रिंग मामलें में कोर्ट ने किया तलब
ANI
आउटलुक टीम

पाकिस्तान की एक विशेष अदालत ने शनिवार को प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ और उनके बेटे हमजा शहबाज को 16 अरब रुपये के धनशोधन मामले में आरोप तय करने के लिए सात सितंबर को तलब किया।

70 वर्षीय शहबाज और उनके बेटों हमजा और सुलेमान को संघीय जांच एजेंसी (एफआईए) ने नवंबर 2020 में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम और एंटी मनी लॉन्ड्रिंग अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत बुक किया था।

मामले की सुनवाई लाहौर की एक विशेष अदालत कर रही है, जिसने पहले ही पिता और पुत्र दोनों को गिरफ्तारी से पहले जमानत दे दी थी। शहबाज और हमजा दोनों सुनवाई के दौरान अनुपस्थित रहे क्योंकि उनके वकीलों ने उनकी ओर से एकमुश्त छूट का अनुरोध किया था।

शहबाज के वकील अमजद परवेज ने अदालत को बताया कि उन्हें यात्रा न करने की सलाह दी गई थी क्योंकि उनकी तबीयत ठीक नहीं थी।  हमजा के वकील राव औरंगजेब ने कहा कि उनके मुवक्किल को पीठ में तेज दर्द है और उन्हें आराम की जरूरत है। एफआईए के अभियोजक फारूक बाजवा ने छूट पर आपत्ति नहीं जताई, जो अदालत ने दी थी।

अभियोजक ने अदालत को बताया कि उन्होंने प्रधानमंत्री शहबाज के दूसरे बेटे सुलेमान शहबाज के 19 बैंक खातों का रिकॉर्ड हासिल कर लिया है, जबकि सात अन्य का रिकॉर्ड अभी प्राप्त नहीं हुआ है। दलीलें सुनने के बाद, अदालत ने मामले को 7 सितंबर तक के लिए स्थगित कर दिया जब उसने आरोप तय करने के लिए शहबाज और हमजा को तलब किया।

शहबाज और हमजा पर पहले 14 मई को अभियोग चलाया जाना था, लेकिन प्रधानमंत्री के देश से बाहर होने के कारण इसे टाल दिया गया। अदालत को सौंपी गई एफआईए रिपोर्ट के अनुसार, जांच दल ने "शहबाज परिवार के 28 बेनामी खातों का पता लगाया है, जिसके माध्यम से 2008-18 के दौरान 16.3 अरब रुपये की मनी लॉन्ड्रिंग की गई थी। एफआईए ने 17,000 क्रेडिट लेनदेन के मनी ट्रेल की जांच की।"

बेनामी लेन-देन किसी व्यक्ति द्वारा अपने नाम का उपयोग किए बिना या किसी अन्य व्यक्ति के नाम का उपयोग करके किए गए किसी भी लेनदेन को संदर्भित करता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि राशि को "छिपे हुए खातों" में रखा गया था और "व्यक्तिगत क्षमता में शहबाज को दिया गया था।"

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से

Advertisement
Advertisement