Home » दुनिया » अंतरराष्ट्रीय » ऑस्ट्रेलिया में अडानी के खिलाफ क्यों प्रदर्शन कर रहे हैं लोग?

ऑस्ट्रेलिया में अडानी के खिलाफ क्यों प्रदर्शन कर रहे हैं लोग?

OCT 08 , 2017

जानी-मानी औद्योगिक कंपनी अडानी समूह के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया में जमकर प्रदर्शन हो रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया के विभिन्न इलाकों में लोग अडानी के खिलाफ जहां नारेबाजी कर रहे हैं वहीं मानव शृंखला बनाकर भी वे विरोध जता रहे हैं।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक रविवार को सिडनी, ब्रिस्बेन, मेलबर्न, गोल्ड कोस्ट और पोर्ट क्वांसलैंड के पोर्ट डगलस में रैलियां आयोजित की गईं जहां बड़ी तादात में प्रदर्शनकारियों का हुजूम सड़कों पर दिखाई दिया।  

क्या है वजह?

Advertisement

दरअसल लोगों का यह गुस्सा भारतीय खनन कंपनी अदानी के प्रस्तावित 16.5 अरब डॉलर का कारमाइकल कोयला खदान परियोजना को लेकर उमड़ रहा है। अडानी समूह ऑस्ट्रेलिया में कोयला खदान शुरू करना चाहता है। लेकिन पर्यावरण और आर्थिक कारणों की वजह से यह योजना कई सालों से लटकी हुई है। पर्यावरण समूहों का मानना है कि क्वींसलैंड में कोयला खदान शुरू होने से ग्लोबल वॉर्मिंग का खखतरा पैदा जाएगा और जिससे ग्रेट बैरियर रीफ को भी क्षति पहुंच सकती है।

'स्टॉप अडानी'

सिडनी स्टॉप अडानी से जुड़े इसाक एस्तिल का कहना है, "यह दक्षिणी गोलार्ध में सबसे बड़ा कोयला खदान होगा जिसका असर यहां के मौसम पर पड़ेगा। यह एक अंतरराष्ट्रीय मुद्दा है और यही वजह है कि हम दुनिया भर के लोगों की ओर देख रहे हैं और ऑस्ट्रेलिया में 'स्टॉप अडानी' कहने के लिए हजारों की तादात में लोग आ रहे हैं।"

वहीं इस प्रदर्शन के आयोजक ब्लेयर पेलीस ने बताया कि सिडनी के बोंडी तट पर एक हजार से भी अधिक लोग इकट्ठा हुए और उन्होंने 'स्टॉप अडानी' लिखी हुई मानव श्रृंखला बनाई।

इस अभियान में जहां लोग सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं वहीं सोशल मीडिया पर भी स्टॉप अडानी लिखकर अपनी प्रतिक्रिया जाहिर कर रहे हैं। 


क्या कहता है अडानी समूह?

दूसरी तरफ, अडानी समूह का कहना है कि इस योजना के जरिए कई लोगों को नौकरियां मिलेंगी। साथ इस परियोजना को लोगों का समर्थन भी प्राप्त है। अडानी ऑस्ट्रेलिया के सीईओ जयकमान जनकरराज ने कहा कि कंपनी ऑस्ट्रेलिया में नौकरियों का निर्माण करने के लिए प्रतिबद्ध है और ऑस्ट्रेलिया में स्थानीय में परियोजना के लिए बड़ा समर्थन रहा है। उन्होंने बताया कि कुछ ही सप्ताह में प्रारंभिक काम शुरू हो जाएगा। वहीं मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अडानी ने इस योजना के लिए रेल लिंक शुरू करने के मकसद से उत्तरी ऑस्ट्रेलिया इंफ्रास्ट्रकचर फेसिलिटी (एनएआईएफ) से 70 करोड़ डॉलर से अधिक का ऋण लेने का प्रस्ताव रखा हुआ है। हालांकि अडानी समूह के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जयकुमार जनकराज ने कहा कि अगर कॉमर्शियल बैंक पूरा कर्ज उठा लेते हैं तो उन्हें एनएआईएफ से पैसा नहीं लेना पड़ेगा।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.