Home दुनिया अंतरराष्ट्रीय किसे लगनी चाहिए कोविड वैक्सीन की तीसरी डोज? डब्ल्यूएचओ ने की अहम सिफारिश

किसे लगनी चाहिए कोविड वैक्सीन की तीसरी डोज? डब्ल्यूएचओ ने की अहम सिफारिश

आउटलुक टीम - OCT 12 , 2021
किसे लगनी चाहिए कोविड वैक्सीन की तीसरी डोज? डब्ल्यूएचओ ने की अहम सिफारिश
प्रतीकात्मक
आउटलुक टीम

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के विशेषज्ञों ने सिफारिश की है कि मध्यम और गंभीर रूप से कमजोर प्रतिरक्षा वाले लोगों को कोविड -19 बूस्टर शॉट्स की पेशकश की जानी चाहिए।

पिछले हफ्ते चार दिनों की बातचीत के बाद डब्ल्यूएचओ के स्ट्रेटेजिक एडवाइजरी ग्रुप ऑफ एक्सपर्ट्स ऑन इम्यूनाइजेशन (सेज) ने सोमवार को सिफारिश की कि ऐसे लोगों को डब्ल्यूएचओ की इमरजेंसी यूज लिस्ट (यूईएल) पर वैक्सीन की तीसरी खुराक मिलनी चाहिए क्योंकि ऐसे लोग उच्च जोखिमों में रहते हैं।

सितंबर के अंत से, कई कोविड -19 टीकों को डब्ल्यूएचओ यूईएल द्वारा प्रमाणित किया गया है, जिनमें फाइजर-बायोएनटेक, जेनसेन, मॉडर्न, सिनोफार्म, सिनोवैक, एस्ट्राजेनेका और कोविशील्ड शामिल हैं।

सेज ने कहा कि उसने भारत के भारत बायोटेक द्वारा बनाए गए कोवैक्सीन की भी समीक्षा की है, और डब्ल्यूएचओ यूईएल द्वारा वैक्सीन को मंजूरी मिलने के बाद एक नीतिगत सिफारिश जारी की जाएगी।


डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञों ने कहा कि चीनी सिनोवैक और सिनोफार्म निष्क्रिय वायरस टीकों की तीसरी खुराक 60 से अधिक उम्र वालों को दी जानी चाहिए।

सेज ने कहा, "इस सिफारिश को लागू करते समय, देशों को शुरू में उस आबादी में दो-खुराक कवरेज को अधिकतम करने का लक्ष्य रखना चाहिए, और उसके बाद सबसे पुराने आयु समूहों में शुरू होने वाली तीसरी खुराक का प्रबंधन करना चाहिए।"

डब्ल्यूएचओ ने पहले कोविड -19 बूस्टर खुराक पर वैश्विक स्थगन का आह्वान किया था, जिसका लक्ष्य विश्व स्तर पर टीकों के अधिक समान वितरण के लिए हर देश को अपनी आबादी का कम से कम 40 प्रतिशत टीकाकरण करने में सक्षम बनाना था।

पिछले हफ्ते, संगठन ने 2021 के अंत तक हर देश की 40 प्रतिशत आबादी को कोविड-19 के खिलाफ और 2022 के मध्य तक 70 प्रतिशत को टीका लगाने की पहल की घोषणा की। यह अभियान कम आय वाले देशों, विशेष रूप से अफ्रीका में वैक्सीन वितरण को प्राथमिकता देगा।



अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से