Home दुनिया अंतरराष्ट्रीय यूएन में पाक पर भारत का पलटवार- 'अवैध कब्जे वाले इलाके तुरंत करें खाली'

यूएन में पाक पर भारत का पलटवार- 'अवैध कब्जे वाले इलाके तुरंत करें खाली'

आउटलुक टीम - NOV 17 , 2021
यूएन में पाक पर भारत का पलटवार- 'अवैध कब्जे वाले इलाके तुरंत करें खाली'
डॉक्टर काजल भट्ट
आउटलुक टीम

भारत ने संयुक्त राष्ट्र में मंगलवार को कहा कि वह पाकिस्तान से प्रायोजित सीमा पार आतंकवाद के खिलाफ दृढ़ और निर्णायक कार्रवाई करना जारी रखेगा। भारतीय प्रतिनिधि ने यह भी कहा कि किसी भी सार्थक वार्ता के लिए अनुकूल माहौल बनाने की जिम्मेदारी पाकिस्तान की है जो केवल आतंक, शत्रुता और हिंसा से मुक्त माहौल में आयोजित की जा सकती है। पाकिस्तान द्वारा यूएनएससी में कश्मीर का मुद्दा उठाए जाने के बाद भारत ने उसपर भी पलटवार किया।


यूएनएससी में पाकिस्तान की ओर से एक बार फिर कश्मीर का मुद्दा उठाए जाने के बाद भारत ने पड़ोसी देश पर करारा जवाब दिया। यूएन की इस सिक्योरिटी काउंसिल में भारत का प्रतिनिधित्व कर रहीं भारत के परमानेंट यूएन मिशन की काउंसलर/लीगल एडवाइज़र डॉक्टर काजल भट्ट ने इस मुद्दे को फिर से उठाने के लिए पाकिस्तान की कड़ी आलोचना की। डॉक्टर भट्ट ने अपने संबोधन के दौरान कहा कि यूएन के सदस्य इस बात को जानते हैं कि आतंकवादियों को खुलेआम समर्थन देने, उनको मदद देने और उनको शरण देने का पाकिस्तान का 'पुराना इतिहास और नीति' रही है।

पाकिस्तान की ओर से प्रतिनिधित्व कर रहे मुनीर अकरम की ओर से इस मुद्दे को उठाए जाने के बाद इस खुली बहस में काजल भट्ट ने कहा कि 'केंद्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख का हमेशा से भारत के अखंड हिस्सा थे, और रहेंगे। इसमें वो हिस्सा भी आता है, जिसपर पाकिस्तान ने अवैध रूप से कब्जा किया हुआ है। हम आह्वान करते हैं कि पाकिस्तान अवैध कब्जों के क्षेत्रों को फौरन खाली कर दे।'

काजल भट ने कहा, ‘‘भारत, पाकिस्तान समेत सभी पड़ोसी देशों के साथ सामान्य संबंध चाहता है और यदि कोई लंबित मुद्दा है तो उसे शिमला समझौते और लाहौर घोषणा के अनुसार द्विपक्षीय और शांतिपूर्ण तरीके से निपटाने के लिए प्रतिबद्ध है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि, कोई भी सार्थक बातचीत आतंक, शत्रुता और हिंसा से मुक्त माहौल में ही हो सकती है। इस प्रकार के अनुकूल माहौल बनाने की जिम्मेदारी पाकिस्तान पर है। तब तक भारत सीमा पार से प्रायोजित आतंकवाद का जवाब देने के लिए दृढ़ और निर्णायक कदम उठाता रहेगा।’’



अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से