Home दुनिया अंतरराष्ट्रीय अगले सप्ताह एक ही जगह पर मौजूद रहेंगे पीएम मोदी-इमरान खान, हो सकती है मुलाकात

अगले सप्ताह एक ही जगह पर मौजूद रहेंगे पीएम मोदी-इमरान खान, हो सकती है मुलाकात

आउटलुक टीम - JUN 03 , 2019
अगले सप्ताह एक ही जगह पर मौजूद रहेंगे पीएम मोदी-इमरान खान, हो सकती है मुलाकात
अगले सप्ताह एक ही जगह पर मौजूद रहेंगे पीएम मोदी-इमरान खान, हो सकती है मुलाकात
File Photo
आउटलुक टीम

अगले सप्ताह पीएम मोदी-इमरान खान एक ही जगह पर होंगे मौजूद, हो सकती है मुलाकात

बीती 30 तारीख को नरेंद्र मोदी के दोबारा प्रधानमंत्री पद ग्रहण करने के शपथ ग्रहण समारोह में पड़ोसी देश पाकिस्तान के पीएम इमरान खान को भले ही आमंत्रित नहीं किया गया हो, लेकिन इन दोनों नेताओं के बीच जल्द मुलाकात की संभावना बनी हुई है। माना जा रहा है कि दोनों ही नेता जून महीने में होने वाली शंघाई सहयोग संगठन (SCO) की बैठक में हिस्सा लेंगे और इसी दौरान इनकी मुलाकात हो सकती है।

माना जा रहा है कि यह मुलाकात शपथ ग्रहण के दो हफ्ते बाद ही यानी 13-14 जून, 2019 को किर्गिज गणराज्य की राजधानी बिशकेक में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक में संभव हो सकती है। एससीओ की बैठक में पीएम मोदी चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ भी मुलाकात करेंगे। हालांकि, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से मुलाकात को लेकर संशय बना हुआ है। हालांकि अभी तक दोनों देशों की तरफ से आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है लेकिन पिछले सप्ताह बिस्केक में समिट से पहले हुई बैठक में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी से मुलाकात ने इसकी पृष्ठभूमि तैयार कर दी है।

2015 में पीएम मोदी और नवाज शरीफ की हुई थी अनौपचारिक मुलाकात

एससीओ की वर्ष 2015 की ऐसी ही शीर्ष स्तरीय बैठक में मोदी और पाकिस्तान के तत्कालीन पीएम नवाज शरीफ की अनौपचारिक मुलाकात हुई थी। और इसने रिश्तों को आगे बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई थी। मोदी और शरीफ की मुलाकात के कुछ ही हफ्ते बाद बैंकाक में दोनो देशों के विदेश सचिवों और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों (एनएसए) की बैठक हुई और द्विपक्षीय वार्ता का दौर शुरू करने पर सहमति बनी।

जब शरीफ के जन्मदिन मोदी ने की थी पाकिस्तान की यात्रा

इसके बाद पीएम मोदी ने नवाज शरीफ के जन्मदिन के अवसर पर लाहौर (पाकिस्तान) की यात्रा भी की। लेकिन पठानकोट में हुए आतंकी हमले ने रिश्तों में सुधार की गाड़ी को पटरी से उतार दिया। उसके बाद रिश्ते बद से बदतर होते चले गए।

इस वजह से दोनों नेताओं के मुलाकात होने की है उम्मीद

एससीओ में दोनों प्रधानमंत्रियों की मुलाकात की उम्मीद इस बात से भी बनी है कि ठीक एक हफ्ते पहले बिशकेक में ही एससीओ के विदेश मंत्रियों की बैठक में सुषमा स्वराज और पाक के विदेश मंत्री शाह मेहमूद कुरैशी की मुलाकात हुई। इसके बारे में भारत ने कहा कि यह आधिकारिक मुलाकात नहीं थी बल्कि सारे सदस्य देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक में हुई सामान्य शिष्टाचार मुलाकात थी, लेकिन पाकिस्तान की तरफ से ऐसा दिखाया गया कि मुलाकात औपचारिक से आगे की थी और इसमें द्विपक्षीय रिश्तों पर बात भी हुई।

द्विपक्षीय वार्ता शुरू होने के आसार

पाकिस्तान पहले भी कई बार कह चुका है कि भारत में आम चुनाव के बाद द्विपक्षीय वार्ता शुरू होने के आसार हैं। इमरान खान ने तो यहां तक कहा था कि मोदी के दोबारा पीएम बनने से रिश्तों में सुधार की ज्यादा गुंजाइश है।

पिछले वर्ष एससीओ के पूर्णकालिक सदस्य बने हैं भारत-पाक

बता दें कि भारत और पाकिस्तान पिछले वर्ष ही एससीओ के पूर्णकालिक सदस्य बने हैं। इसकी परिकल्पना चीन और रूस ने की थी। इन चारों देशों के अलावा उजबेकिस्तिान, ताजिकिस्तान, किर्गिजस्तान, कजाखस्तान इसके पूर्ण कालिक सदस्य हैं। ईरान, मंगोलिया, अफगानिस्तान और बेलारुस आब्जर्बर देश हैं जिन्हें पूर्णकालिक सदस्य बनाया जा सकता है।

अर्मेनिया, नेपाल, श्रीलंका, तुर्की, कंबोडिया, अजरबेजान को वार्ता साझेदार के तौर पर रखा गया है। अपनी रणनीतिक व ऊर्जा जरूरतों को देखते हुए भारत इस संगठन को तवज्जो देने लगा है। भारत मध्य एशियाई देशों के बाजार में भी बड़ी हिस्सेदारी चाहता है। बिशकेक में होने वाली शीर्ष नेताओं की बैठक में मोदी की मुलाकात चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग और रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन से होने के आसार हैं।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से