Home दुनिया अंतरराष्ट्रीय देखिए- नासा के पर्सिवियरेंस रोवर ने दी मंगल ग्रह से लैंडिंग की कुछ आश्चर्यजनक तस्वीरें

देखिए- नासा के पर्सिवियरेंस रोवर ने दी मंगल ग्रह से लैंडिंग की कुछ आश्चर्यजनक तस्वीरें

आउटलुक टीम - FEB 20 , 2021
देखिए- नासा के पर्सिवियरेंस रोवर ने दी मंगल ग्रह से लैंडिंग की कुछ आश्चर्यजनक तस्वीरें
नासा के पर्सिवियरेंस रोवर ने दी मंगल ग्रह से लैंडिंग की कुछ आश्चर्यजनक तस्वीरें
AP Photo
आउटलुक टीम

नासा की बरसों की महनत सफल हो गई है। शुक्रवार को नासा के पर्सिवियरेंस रोवर की मदद से मंगल ग्रह की पहली कुछ तस्वीरें ली गई है। मंगल में सफलतापूर्वक लॉच होने के बाद रोवर ने 24 घंटे से कम समय में यह फोटो खिंची है। विज्ञानिकों ने जीवन की खोज करने के लिए रोवर को मंगल ग्रह भेजा है।

नासा ने अंतरिक्षयान में रिकॉर्ड करने के लिए 25 कैमरों और दो माइक्रोफोनों लगाए थे, जिनमें से कई को गुरुवार को चालू किया गया था। जिसमें नासा के वैज्ञानिकों द्वारा रोवर को जमीन से महज 6 1/2 फीट (2मीटर) की दूरी पर दिखाया गया। जिसे ओवरहेड स्काई क्रेन से जुड़े केबलों द्वारा लाल धूल पर उतारा गया।

(नासा द्वारा दी गई यह तस्वीर गुरुवार को 18 फरवरी 2021 को लैंडिंग के बाद ली गई है। यह रोवर द्वारा ली गई पहली रंगीन तस्वीर है)

एक सम्मेलन में उड़ान प्रणाली के इंजीनियर हारून स्टीहुरा ने बताया कि यह एक ऐसी चीज है जिसे हमने पहले कभी नहीं देखा है। यह आश्चर्यजनक था। वहीं मिशन प्रबंधक पॉलीन ह्वांग ने कहा कि कई थम्बनेल इमेज को देख कर पूरी टीम खुश हो गई है.

वैज्ञानिक केटी स्टैक मॉर्गन बताते हैं कि रोवर से ली गई इतनी स्पष्ट है मानों लग रहा हो की यह एनीमेशन है, लेकिन यह वास्तवक थी। अधिकारियों के अनुसार केवल 1 डिग्री झुकाव और अपेक्षाकृत छोटी चट्टानों के साथ रोवर को सुरक्षित सतह पर उतारा गया। अभी भी सिस्टम की जांच की जा रही है। एक सप्ताह बाद रोवर की ड्राइविंग शुरू होगी।

नासा द्वारा रोवर की लॉन्चिंग जुलाई 2020 में की गई थी। जिसका उद्देश्य मंगल ग्रह पर जीवन की खोज करना और अंतरिक्ष से जुड़े कई जवाब हासिल करना है।

(नासा द्वारा प्रदान की गई यह तस्वीर रोवर पर छह पहियों में से एक दिखाती है, जो गुरुवार 18 फरवरी, 2021 को मंगल ग्रह पर उतरा)

आप इस तस्वीर में रोवर के एक पहिए और छेदों से भरी एक चट्टान देख सकते हैं। वैज्ञानिक इन तस्वीरों में दिख रही चट्टानों को देख यह जानने को उत्सुक हैं कि क्या ये चट्टानें ज्वालामुखी या अवसादी है।