Home दुनिया अंतरराष्ट्रीय नासा से लेकर यूएई तक ने इसरो को सराहा, कहा- चंद्रयान 2 ने हमें भी प्रेरणा दी

नासा से लेकर यूएई तक ने इसरो को सराहा, कहा- चंद्रयान 2 ने हमें भी प्रेरणा दी

आउटलुक टीम - SEP 08 , 2019
नासा से लेकर यूएई तक ने इसरो को सराहा, कहा- चंद्रयान 2 ने हमें भी प्रेरणा दी
नासा से लेकर यूएई तक ने इसरो को सराहा, कहा- चंद्रयान 2 ने हमें भी प्रेरणा दी
आउटलुक टीम

भारत का महत्वाकांक्षी चंद्रयान-2 मिशन भले ही अपनी मंजिल से दूर रह गया हो, लेकिन इसकी तकनीकी दक्षता की तारीफ पूरी दुनिया ने की है। अंतरिक्ष अनुसंधान एजेंसी नासा ने तो भविष्य में साथ मिलकर काम करने तक की इच्छा जताई है। वहीं संयुक्त अरब अमीरात की अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा है कि चांद पर उतरने जा रहे चंद्रयान 2 से संपर्क भले टूट गया हो लेकिन इसरो को हमारा पूर्ण समर्थन है। भारत ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में खुद को एक रणनीतिक खिलाड़ी के तौर पर साबित किया है और इसके विकास और उपलब्धियों में भागीदार है।

नासा ने ट्वीट कर कहा, 'अंतरिक्ष शोध का एक कठिन क्षेत्र है। चांद के दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रयान-2 मिशन की लैंडिंग कराने के इसरो की कोशिश की हम प्रशंसा करते हैं। आपने हमें अपनी यात्रा से प्रेरित किया है और उम्मीद करते हैं कि भविष्य में हमें सौरमंडल पर मिलकर काम करने का अवसर मिलेगा।'

यूनाइटेड अरब अमीरात की स्पेस एजेंसी ने क्या कहा?

यूनाइटेड अरब अमीरात की स्पेस एजेंसी ने ट्वीट कर कहा, चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम, जिसे चांद पर लैंड करना था, से संपर्क टूटने के बाद हम इसरो को अपनी पूरी मदद का आश्वासन देते हैं। भारत ने खुद को स्पेस सेक्टर की अहम ताकत साबित किया है और इसके विकास एवं उपलब्धि में भागीदार है।'

ऑस्ट्रेलियाई स्पेस एजेंसी ने क्या कहा?

वहीं ऑस्ट्रेलियाई स्पेस एजेंसी ने ट्वीट किया, 'लैंडर विक्रम, चंद्रमा पर अपने मिशन को साकार करने में कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर था। इसरो हम आपके प्रयासों और अंतरिक्ष में यात्रा जारी रखने की आपकी प्रतिबद्धता की सराहना करते हैं।'

चंद्रयान 2 मिशन 95 फीसदी रहा कामयाब

इसरो प्रमुख के सिवन ने चंद्रयान-2 मिशन को 95 प्रतिशत सफल बताया है। सिवन ने ये भी कहा कि विक्रम लैंडर से संपर्क की कोशिश जारी है।

इसरो प्रमुख के सिवन ने चंद्रयान 2 मिशन को 95 फीसदी कामयाब बताया। उन्होंने कहा कि विक्रम लैंडर से दोबारा संपर्क बनाने के लिए प्रयास जारी हैं। हम अगले 14 दिन तक इसके लिए प्रयास करते रहेंगे। उन्होंने कहा कि आखिरी चरण ठीक से पूरा नहीं किया जा सका, उसी चरण में हमने विक्रम से संपर्क खो दिया। के सिवन ने कहा कि चंद्रयान 2 का ऑर्बिटर 7.5 साल तक काम कर सकता है। साथ ही उन्होंने कहा कि गगनयान समेत इसरो के सभी मिशन तय समय पर पूरे होंगे।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से