Home दुनिया अंतरराष्ट्रीय यूएन में बोला भारत- कोरोना महामारी भी कुछ देशों को सीमा पार आतंकवाद का समर्थन करने से नहीं रोक पाई

यूएन में बोला भारत- कोरोना महामारी भी कुछ देशों को सीमा पार आतंकवाद का समर्थन करने से नहीं रोक पाई

आउटलुक टीम - NOV 18 , 2020
यूएन में बोला भारत- कोरोना महामारी भी कुछ देशों को सीमा पार आतंकवाद का समर्थन करने से नहीं रोक पाई
संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टी एस तिरुमूर्ति
आउटलुक टीम

भारत ने पाकिस्तान की ओर इशारा करते हुए मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस महामारी भी कुछ देशों को सीमा पार आतंकवाद का समर्थन करने से रोक नहीं पाई। इसके साथ ही भारत ने इस बात पर जोर दिया कि संयुक्त राष्ट्र को आतंकवाद पर ‘निर्णायक तरीके’से बोलना चाहिए।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टी एस तिरुमूर्ति ने कहा, ‘‘भारत, दुनिया में सभी तरह के यहूदी विरोध, धार्मिक आधार पर हर तरह के भेदभाव का विरोध करता है। हम जानते हैं कि ऐसे देश है जो इस महामारी का लाभ दुनिया के अन्य हिस्सों में धर्म के आधार पर विभाजनकारी घृणा फैलाने में कर रहे हैं।’’

उन्होंने बिना किसी देश का नाम लिए कहा, ‘‘कोविड-19 महामारी भी उन्हें निर्दोष लोगों की हत्या के लिए सीमा पार आतंकवाद का समर्थन करने और धार्मिक घृणा फैलाने से नहीं रोक सकी।’’ तिरुमूर्ति ‘वर्ल्ड जूइश कांग्रेस’ द्वारा आयोजित एक आनलाइन उच्च-स्तरीय कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

तिरुमूर्ति ने कहा कि भारत उन देशों को यहूदी विरोधी भावना और नफरत फैलाने से रोकने और दुनिया को धर्म के आधार पर विभाजित करने से रोकने के लिए कहता है।

उन्होंने कहा,  "हम उन्हें अपने समाजों के भीतर सद्भाव को बढ़ावा देने, संप्रदायिक हिंसा को रोकने और अल्पसंख्यकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अंदर की ओर देखने के लिए कहते हैं। हमारा मानना है कि संयुक्त राष्ट्र के लिए निर्णायक रूप से बात करना और धर्मों के एक समूह के साथ पक्ष नहीं लेना महत्वपूर्ण है। "  उसने कहा।

उन्होंने कहा कि भारत एक ऐसा देश है जो दुनिया के सभी प्रमुख धर्मों का घर है और एक ऐसा राष्ट्र है जिसने कई धर्मों को जन्म दिया है - उनमें से सबसे प्रमुख हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म, सिख धर्म और जैन धर्म हैं।

संयुक्त राष्ट्र में भारत ने यूहूदी समुदाय को भारत का अभिन्न हिस्सा बताया। टीएस तिरुमूर्ति ने कहा कि भारत के पास यहूदी-विरोधी होने का कोई निशान नहीं है और भारत में यहुदी समुदाय 2,000 से अधिक वर्षों से संपन्न है। उन्होंने कहा कि यहूदी समुदाय भारत के बहुलवादी ताने-बाने का एक अभिन्न हिस्सा है और इसने इस देश को किसी अन्य समुदाय जितना समृद्ध किया है।

भारतीय राजनयिक ने कहा, "भारतीय सभ्यता नामक इस नदी में, हमारी लोकतांत्रिक संरचना, बहुलवाद, सद्भाव और पारस्परिक स्वीकृति के ढांचे में हर विश्वास और हर संप्रदाय को गले लगाया जाता है।" 

उन्होंने कहा कि कई जाने-माने यहूदी-भारतीय हैं, जिन्होंने खुद को जीवन के सभी क्षेत्रों में प्रतिष्ठित किया है, जिसमें जनरल जे एफ आर जैकब भी शामिल हैं, जो भारत में एक राष्ट्रीय नायक हैं जिन्होंने 1971 में बांग्लादेश मुक्ति युद्ध में भारत की जीत के दौरान भारतीय सेना की पूर्वी कमान का नेतृत्व किया था।