Home दुनिया अंतरराष्ट्रीय रूस के नजदीक दो समुद्री जहाजों में आग से 10 लोगों की मौत, 15 भारतीय थे क्रू का हिस्सा

रूस के नजदीक दो समुद्री जहाजों में आग से 10 लोगों की मौत, 15 भारतीय थे क्रू का हिस्सा

आउटलुक टीम - JAN 22 , 2019
रूस के नजदीक दो समुद्री जहाजों में आग से 10 लोगों की मौत, 15 भारतीय थे क्रू का हिस्सा
रूस के नजदीक दो समुद्री जहाजों में आग
twitter
आउटलुक टीम

क्रीमिया को रूस से अलग करने वाले समुद्री इलाके कर्च में दो जहाजों में आग लगने से 10 लोगों की मौत हो गई और 9 लोग लापता हो गए। रूसी गोताखोर लापता लोगों की तलाश में जुटे हुए हैं। तंजानिया का झंडा लगे दोनों जहाजों पर 15 भारतीय के अलावा टर्की और लीबिया के नागरिक शामिल थे।

बताया जा रहा है कि गैस ट्रांसफर करते वक्त ये हादसा हुआ। हादसा रूस की समुद्री सीमा में सोमवार को हुआ है। एक जहाज में लिक्विवाइड नेचुरल गैस (एलएनजी) थी, जबकि दूसरा टैंकर था। इस घटना में अब तक 10 लोगों की मौत हो चुकी है।

एक जहाज पर 7 तोदूसरे पर 8 भारतीय थे

रूस की न्यूज एजेंसी तास का कहना है कि एक जहाज कैंडी में चालक दल के 17 सदस्य सवार थे। इनमें 9 तुर्की और 8 भारतीय मूल के लोग थे। दूसरे जहाज मेस्ट्रो में 15 क्रू मेंबर थे। इसमें तुर्की और भारत के 7-7 लोग थे। एक इंटर्न लीबिया से था।

तेज धमाके के बाद जहाजों में फैली आग

रशियन टेलीविजन नेटवर्क के हवाले से एजेंसी ने बताया कि ईंधन की अदला-बदली के दौरान तेज धमाका हुआ और आग दोनों जहाजों में फैल गई। करीब 35 लोग अपनी जान बचाने के लिए समुद्र में कूद गए। अब तक 12 लोगों का समंदर से बचाया जा चुका है। नौ नाविकों को कुछ पता नहीं चल पा रहा है। मौसम के हालात भी यहां पर राहत और बचाव कार्य में बाधा डाल रहे हैं।

रूस-यूक्रेन दोनों के लिए अहम है कर्च स्ट्रेट

रणनीतिक तौर पर कर्च स्ट्रेट रूस, यूक्रेन दोनों के लिए महत्वपूर्ण है। रूस से क्रीमिया जाने के लिए भी इस रास्ते का इस्तेमाल होता है। रूस ने कर्च स्ट्रेट पर एक ब्रिज बनाया था, जिसे पिछले साल मई में शुरू किया गया था।

कर्च स्ट्रेट बहुत ही महत्वपूर्ण समुद्री रास्ता है, जो रूस और यूक्रेन दोनों के लिए खासा महत्व रखता है। यह कर्च स्ट्रेट यूक्रेन की अर्थव्यवस्था में बड़ा रोल निभाता है। साथ ही, रूस के लिए क्रीमिया में जाने का भी यह सबसे महत्वपूर्ण जरिया है। रूस ने कर्च स्ट्रेट पर पुल बनाया है, जिसे पिछले साल ही मई महीने में खोला गया था।

विदेश मंत्रालय का बयान

भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि वह रूसी एजेंसियों के साथ संपर्क में है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि मॉस्को में हमारा दूतावास संबंधित एजेंसियों के संपर्क में है, जिनसे इस हादसे में भारतीयों को पहुंचे नुकसान के बारे में जानकारी ली जा रही है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से