Home दुनिया सामान्य कोरोना के दस्तावेज हुए लीक, चीन ने दुनियाभर को किया गुमराह

कोरोना के दस्तावेज हुए लीक, चीन ने दुनियाभर को किया गुमराह

आउटलुक टीम - DEC 02 , 2020
कोरोना के दस्तावेज  हुए लीक, चीन ने दुनियाभर को किया गुमराह
कोरोना के दस्तावेज हुए लीक, चीन ने दुनियाभर को किया गुमराह
PTI
आउटलुक टीम

कारोना वायरस को लेकर चीन के सबसे बड़े झूठ का खुलासा हुआ है। चीन ने वुहान के कोविद -19 के प्रकोप के शुरुआती चरणों में जानबूझकर दुनिया को गुमराह किया, सबूतों को दबाया, और महामारी को गलत बताया। सीएनएन के हुबेई प्रांतीय सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन से 117 पेजों के गोपनीय दस्तावेज हाथ लगे हैं। लीक हुए इन दस्तावेजों से पता चलता है कि चीन ने शुरुआत में कोरोना वायरस को लेकर दुनिया भर को गुमराह किया। इनमें कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आने से लेकर प्रांत में महामारी फैलने तक की जानकारी है। लीक हुई “द वुहान फाइल्स" में सबूतों को नष्ट करने का खुलासा किया गया है।

दस्तावेजों के मुताबिक, इस साल 10 फरवरी तक चीन में कोरोना संक्रमण के कुल 5918 मामले थे। जबकि संक्रमण के मामलों की संख्या उस समय चार गुना अधिक थी। हालांकि, आधिकारिक तौर पर एक ही तारीख को घोषित किए गए पुष्टि किए गए मामले वास्तविक संख्या के आधे से कम थी,  शुरुआती दौर में ही संख्याओं के साथ छेड़छाड़ की गई थी।

फाइलें यह भी बताती हैं कि इन्फ्लूएंजा का एक बड़ा प्रकोप हुबेई में दिसंबर की शुरुआत में हुआ था और इसका खुलासा नहीं किया गया। यह अक्टूबर 2019 और अप्रैल 2020 के बीच फैले कोरोनावायरस के प्रबंधन के बारे में विस्तार से बताता है। यह अहम समय था जब वायरस ने वैश्विक महामारी में बदल दिया।

रिपोर्ट को छह विशेषज्ञों द्वारा सत्यापित किया गया है और यह हुबेई प्रांतीय सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के आंतरिक दस्तावेजों पर आधारित है। व्हिसलब्लोअर ने चीनी स्वास्थ्य सेवा प्रणाली में काम किया था।

निष्कर्षों से यह भी पता चलता है कि मरीजों की जांच में चीन को औसतन 23 दिन कैसे लगे। जांच में देरी का  मतलब है कि 10 जनवरी तक पुष्टि किए गए मामलों की भयावहता का एहसास नहीं हुआ, जिसके पहले कई नकारात्मक परिणाम प्राप्त हुए। आंतरिक ऑडिट बताता है कि चीन की शुरुआती चेतावनियों को नजरअंदाज करने से उसक नेतृत्व की मंशा का पता चलता है।

चीन में वुहान के हुबेई प्रांत में दिसंबर 2019 के अंत में कोरोनोवायरस के मामले पहली बार सामने आए थे। जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय के कोरोनोवाल संसाधन केंद्र के अनुसार, वायरस ने 63.2 मिलियन से अधिक लोगों को संक्रमित किया और वैश्विक रूप से 1.45 मिलियन लोगों की मृत्यु हुई।

रिपोर्ट में चीन पर वैश्विक अटकलें शामिल हैं जो जानबूझकर कोरोनोवायरस प्रकोप से संबंधित सबूतों को दबा रही हैं। वायरस की उत्पत्ति, हालांकि काफी हद तक अपुष्ट है, माना जाता है कि वुहान विवादास्पद बाजार हैं जो घर और जानवरों को बेचते हैं। बाजार में एक आम आदमी को संक्रमण हुआ था, लेकिन 20 जनवरी तक संक्रामक होने से इनकार नहीं किया गया था।

हाल ही में, चीनी वैज्ञानिकों ने दावा किया कि वायरस की संभावना 2019 की गर्मियों में भारत से उत्पन्न हुई है। अधिकारियों ने पहले भी अमेरिका और अन्य यूरोपीय देशों को दोषी ठहराया है।

चीन ने संयुक्त राज्य अमेरिका और अन्य देशों द्वारा किसी भी गलतफहमी या सबूतों के उल्लंघन के खिलाफ सभी आरोपों का मुखर रूप से खंडन किया है। प्रकोप की शुरुआत के बाद से वह पारदर्शी है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से