Home दुनिया सामान्य पाक के पहले सिख पुलिस अफसर ने वहां की सरकार पर लगाया घर से निकालने और हाथापाई का आरोप

पाक के पहले सिख पुलिस अफसर ने वहां की सरकार पर लगाया घर से निकालने और हाथापाई का आरोप

आउटलुक टीम - JUL 11 , 2018
पाक के पहले सिख पुलिस अफसर ने वहां की सरकार पर लगाया घर से निकालने और हाथापाई का आरोप
पाक के पहले सिख पुलिस अफसर ने वहां की सरकार पर लगाया घर से निकालने और हाथापाई का
ANI

पाकिस्तान में सिख समुदाय के साथ हो रहे कथित अत्याचारों से जुड़ा एक मामला सामने आया है। इस बात की जानकारी हाल ही में सोशल मीडिया वायरल हो रहे एक वीडियो से सामने आई है। जिसमें पाकिस्तान में रह रहे पहले सिख पुलिस अफसर गुलाब सिंह ने वहां की सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है।

गुलाब सिंह ने कहा कि पाकिस्तान की सरकार मजबूर करके सिखों को देश से बाहर निकालना चाहती है। सिख पुलिस अफसर ने अपने साथ बदसलूकी का आरोप लगाया है। उन्होंने दावा किया गया है कि उन्हें लाहौर स्थित उनके घर से जबरदस्ती निकाला गया। यहीं नहीं उसके परिवार को भी घर से बाहर निकाला गया।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बातचीत के दौरान सिख पुलिस अफसर गुलाब सिंह ने कहा, 1947 से मेरा परिवार पाकिस्तान में रहता आ रहा है। दंगा होने के बावजूद हमने पाकिस्तान नहीं छोड़ा। लेकिन, अब हमारे साथ जबरदस्ती कर हमें देश छोड़ने पर मजबूर किया जा रहा है। मेरे घर को सील कर दिया गया है और मेरे सारे सामान यहां तक कि मेरी चप्पल भी उसके अंदर बंद है। हालत ये है कि मेरे सिर पर बंधी ये पगड़ी भी पुरानी है जिसे हमने लपेट रखा है। मुझे परेशान किया गया, पीटा गया और मेरे विश्वास का अपमान किया गया'।

गुलाब सिंह का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है, जिसमें वो कह रहे हैं कि वह गुलाब सिंह पाकिस्तान के पहले सिख पुलिस अफसर हैं। मैं यहां ट्रैफिक वार्डन हूं।

यहां देखें वीडियो-

#39;s Dera Chahal, says, 'my faith was disrespected, If they wanted me to evict the house then they could have simply sent me a notice' pic.twitter.com/OWH7Rmjn5z

— ANI (@ANI) July 10, 2018

वीडियो मैसेज में गुलाब सिंह ने कहा, 'उन्होंने मेरी पगड़ी निकाल फेंकी, मुझे बालों से खींचा, मुझे घसीटा और पत्नी और तीन बच्चों के साथ हमारे घर से बाहर निकाल दिया और अब हम सड़क पर बैठे हैं।' उन्होंने कहा, मेरे साथ चोर-डाकुओं की तरह व्यवहार किया जा रहा है। उन्होंने इसके लिए एडिशनल सेक्रेटरी तारिक वजरी पर आरोप लगाया है। उनका आरोप है कि उन्हें लाहौर स्थित उनके घर से जबरदस्ती निकाला गया’।

गौरतलब है कि डेरा चहल गांव, लाहौर शहर से करीब 28 किलोमीटर दूर है। गुलाब सिंह ने आरोप लगाया कि ईटीपीबी सचिव तारिक वाजिर ने कथित रूप से उन्हें मारा। 240 केनल जमीन में फैले डेरा चहल में एक गुरुद्वारा भी है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से