Home दुनिया सामान्य पाक पीएम इमरान खान का आरोप; भारत में अल्पसंख्यकों को चरमपंथी समूह बना रहे हैं निशाना, यह क्षेत्रीय शांति के लिए खतरा

पाक पीएम इमरान खान का आरोप; भारत में अल्पसंख्यकों को चरमपंथी समूह बना रहे हैं निशाना, यह क्षेत्रीय शांति के लिए खतरा

आउटलुक टीम - JAN 10 , 2022
पाक पीएम इमरान खान का आरोप; भारत में अल्पसंख्यकों को चरमपंथी समूह बना रहे हैं निशाना, यह क्षेत्रीय शांति के लिए खतरा
पाक पीएम इमरान खान का आरोप; भारत में अल्पसंख्यकों को चरमपंथी समूह बना रहे हैं निशाना, यह क्षेत्रीय शांति के लिए खतरा
FILE PHOTO
आउटलुक टीम

पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान ने सोमवार को आरोप लगाया कि भारत में अल्पसंख्यकों को चरमपंथी समूहों द्वारा निशाना बनाया जा रहा है और चेतावनी दी कि इस तरह का एजेंडा क्षेत्रीय शांति के लिए "एक वास्तविक और वर्तमान खतरा है"।

दिसंबर में उत्तराखंड के हरिद्वार में आयोजित एक कार्यक्रम में मुसलमानों के खिलाफ कथित भड़काऊ और भड़काऊ भाषणों के मद्देनजर खान ने यह आरोप ट्विटर पर लगाए। इमरान खान ने अपने ट्वीट में अंतरराष्‍ट्रीय समुदाय से इस ध्‍यान देने और मोदी सरकार के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। पाकिस्‍तानी पीएम ने कहा, 'बीजेपी मोदी सरकार की कट्टरपंथी विचारधारा के तहत भारत में सभी धार्मिक अल्‍पसंख्‍यकों को हिंदूवादी गुटों द्वारा निशाना बनाया गया है। मोदी सरकार का कट्टरपंथी अजेंडा वास्‍तविक है और हमारे क्षेत्र की शांति के लिए खतरा पैदा कर दिया है।'

पिछले महीने, पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने भारत के प्रभारी डी'एफ़ेयर्स को तलब किया और हरिद्वार सम्मेलन में किए गए कथित घृणास्पद भाषणों पर अपनी चिंता व्यक्त की। पाकिस्तान ने भारतीय पक्ष को बताया कि कथित घृणास्पद भाषणों को नागरिक समाज और देश के लोगों के एक वर्ग द्वारा गंभीर चिंता के साथ देखा गया था।

17-20 दिसंबर तक हरिद्वार में धर्म संसद का आयोजन जूना अखाड़े के यति नरसिम्हनन्द गिरि द्वारा किया गया था, जो पहले से ही नफरत भरे भाषण देने और मुसलमानों के खिलाफ हिंसा भड़काने के आरोप में पुलिस की गिरफ्त में हैं। इस कार्यक्रम में, कई वक्ताओं ने कथित तौर पर भड़काऊ और भड़काऊ भाषण दिए, जिसमें अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों की हत्या का आह्वान किया था।

मामले में 15 लोगों के खिलाफ दो प्राथमिकी दर्ज की गई हैं, जिनमें वसीम रिजवी भी शामिल है, जिन्होंने हाल ही में हिंदू धर्म अपनाने के बाद अपना नाम बदलकर जितेंद्र नारायण त्यागी कर लिया था और गाजियाबाद के डासना मंदिर के मुख्य पुजारी सांसद यति नरसिम्हनंद के आयोजक थे। मामले की जांच के लिए पांच सदस्यीय विशेष जांच दल का गठन किया गया है।

भारत का सर्वोच्च न्यायालय सोमवार को एक जनहित याचिका (पीआईएल) पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया, जिसमें हालिया सम्मेलन के दौरान अभद्र भाषा बोलने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई थी। प्रधान न्यायाधीश एन वी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल की इस दलील पर गौर किया कि प्राथमिकी दर्ज होने के बावजूद भड़काऊ भाषण देने वालों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से