Home दुनिया सामान्य अफगानिस्तान के पूर्व उप-राष्ट्रपति अमरूल्लाह सालेह के बड़े भाई की हत्या, तालिबान ने दरिंदगी के बाद मौत के घाट उतारा- रिपोर्ट्स

अफगानिस्तान के पूर्व उप-राष्ट्रपति अमरूल्लाह सालेह के बड़े भाई की हत्या, तालिबान ने दरिंदगी के बाद मौत के घाट उतारा- रिपोर्ट्स

आउटलुक टीम - SEP 10 , 2021
अफगानिस्तान के पूर्व उप-राष्ट्रपति अमरूल्लाह सालेह के बड़े भाई की हत्या, तालिबान ने दरिंदगी के बाद मौत के घाट उतारा- रिपोर्ट्स
अफगानिस्तान के पूर्व उप-राष्ट्रपति अमरूल्लाह सालेह के बड़े भाई की हत्या, तालिबान ने दरिंदगी के बाद मौत के घाट उतारा- रिपोर्ट्स
FILE PHOTO
आउटलुक टीम

रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि खबर है कि लड़ाई के दौरान अफगानिस्तान के पूर्व उप-राष्ट्रपति अमरूल्ला सालेह के बड़े भाई की तालिबान ने हत्या कर दी है। तालिबानी लड़ाकों ने पंजशीर में बीती रात रोहुल्लाह सालेह की बर्बरता से हत्या कर दी। जबकि, अमरुल्लाह के बारे में बताया जा रहा है कि वह इस वक्त ताजिकिस्तान में हैं। पंजशीर वही इलाका है, जहां पर अभी तालिबान का राष्ट्रीय प्रतिरोध मोर्चा और नॉर्दर्न अलायंस के साथ संघर्ष चल रहा है।
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गुरुवार रात तालिबान और नॉदर्न अलायंस के बीच हिंसक झड़प हुई थी। इसी घटना में सालेह के बड़े भाई को मार गिराया गया। ऐसी रिपोर्ट्स आ रही हैं कि तालिबान के लड़ाकों ने रोहुल्लाह सालेह को काफी टॉर्चर किया था। हालांकि, अब तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।
बता दें कि इससे पहले तालिबान ने पंजशीर पर पूरी तरह से अपना कब्जा होने का दावा किया था लेकिन नेशनल रेसिस्टेंस फ्रंट ने तालिबान के इस दावे को खारिज किया था.।स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि तालिबान के एक लड़ाके की उसी जगह की एक तस्वीर सामने आई है, जहां से सालेह ने एक वीडियो साझा किया था। रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि तालिबान ने सालेह के घर पर कब्जा कर लिया है हालांकि, अब तक तालिबान की ओर से भी अमरुल्ला सालेह के भाई रोहिल्ला सालेह की मौत को लेकर कोई पुष्टि नहीं कही गई है।
वहीं, कुछ रिपोर्ट्स में कहा गया है कि तालिबान के खिलाफ विरोधी गुट के नेता अहमद मसूद और अमरूल्ला सालेह तालिबान के कब्जे के बाद पंजशीर से ताजिकिस्तान भाग चुके हैं हालांकि, अफगानिस्तान सरकार के ताजिकिस्तान में अपदस्थ राजदूत ने इस दावे को खारिज करते हुए कहा कि वे देश छोड़कर नहीं भागे हैं।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से