Home दुनिया अमेरिका अमेरिकी संसद परिसर में ट्रंप समर्थकों का हिंसक प्रदर्शन, चार की मौत, वाशिंगटन में 15 दिन की पब्लिक इमरजेंसी

अमेरिकी संसद परिसर में ट्रंप समर्थकों का हिंसक प्रदर्शन, चार की मौत, वाशिंगटन में 15 दिन की पब्लिक इमरजेंसी

आउटलुक टीम - JAN 07 , 2021
अमेरिकी संसद परिसर में ट्रंप समर्थकों का हिंसक प्रदर्शन, चार की मौत, वाशिंगटन में 15 दिन की पब्लिक इमरजेंसी
अमेरिकी संसद परिसर में ट्रंप समर्थकों का हिंसक प्रदर्शन
आउटलुक टीम

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपनी हार मानने के लिए तैयार नहीं है, इस बीच ट्रंप के समर्थकों ने अमेरिकी संसद को बंधक बना लिया। इस दौरान ट्रंप समर्थकों और सुरक्षाकर्मियों के बीच झड़प हो गई। समर्थकों को रोकने और सांसदों को बचाने के लिए सुरक्षाकर्मयिों को बंदूक निकालनी पड़ी। जहां एक प्रदर्शनकारी की गोली लगने से मौत हो गई है। जबकि तीन अन्य ने मेडिकल इमरजेंसी की वजह से दम तोड़ा है। हिंसा को देखते हुए वाशिंगटन में 15 दिन की पब्लिक इमरजेंसी की घोषणा की गई है। घटना को लेकर जो बाइडेन, उपराष्ट्रपति माइक पेंस और कई अमेरिकी नेताओं ने ट्रंप की तीखी आलोचना की है। वहीं ट्विटर और फेसबुक ने ट्रंप के अकाउंट को क्रमशः 12 और 24 घण्टे के लिए ब्लॉक कर दिया है। इस बीच वाशिंगटन में पुलिस ने चुनाव प्रदर्शन में 13 लोगों को गिरफ्तार कर पांच हथियार जब्त किए है। वाशिंगटन मेट्रोपॉलिटन पुलिस विभाग के प्रमुख रॉबर्ट कॉन्टे ने बुधवार को संवाददाताओं में कहा, “हमें पांच हथियार बरामद हुए है और करीब 13 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।” कॉन्टे ने कहा कि सभी गिरफ्तार किए गए लोग वाशिंगटन के निकटतम उपनगरों और प्रांतों से यहां पहुंचे थे।

अमेरिका में कैपिटोल परिसर के बाहर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थकों और पुलिस के बीच हिंसक झड़प हुई, जिसके बाद एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गई। घटना के बाद परिसर को ‘‘लॉक्ड डाउन'' (प्रवेश एवं निकास बंद) कर दिया गया। कैपिटोल के भीतर यह घोषणा की गई कि ‘‘बाहरी सुरक्षा खतरे'' के कारण कोई व्यक्ति कैपिटोल परिसर से बाहर या उसके भीतर नहीं जा सकता। गौरतलब है कि जब नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन की जीत को प्रमाणित करने के लिए सांसद संसद के संयुक्त सत्र के लिए कैपिटोल के भीतर बैठे थे, तभी यूएस (अमेरिका) कैपिटोल पुलिस ने इसके भीतर सुरक्षा के उल्लंघन का ऐलान किया।

प्रदर्शनकारियों ने कैपिटोल की सीढ़ियों के नीचे लगे अवरोधक तोड़ दिए। कैपिटोल पुलिस के अनुसार इलाके में एक संदिग्ध पैकेट भी मिला है। दरअसल, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने संसद का संयुक्त सत्र शुरू होने से ठीक पहले कहा कि वह चुनाव में हार को स्वीकार नहीं करेंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि इसमें धांधली हुई है और यह धांधली उनके डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी जो बाइडन के लिए की गई, जो नवनिर्वाचित राष्ट्रपति हैं। ट्रंप ने वाशिंगटन डीसी में अपने हजारों समर्थकों को संबोधित करते हुए कहा , ‘‘जब धांधली हुई हो तब आपको अपनी हार स्वीकार नहीं करनी चाहिए। '' ट्रंप ने एक घंटे से अधिक के अपने भाषण में दावा किया कि उन्होंने इस चुनाव में शानदार जीत हासिल की है।

कांग्रेस के संयुक्त सत्र में एलेक्टोरल वोट्स की गिनती शुरू हो रही है जिसकी अध्यक्षता उप राष्ट्रपति माइक पेंस कर रहे हैं। उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने संविधान का हवाला देते हुए वोट काउंटिंग में दखल देने से मना किया है राष्ट्रपति ने अपने उप राष्ट्रपति पर इसके लिए बहुत दबाव बनाया था।वोटोें की गिनती के बाद जो जीतेगा उसके नाम का अधिकारिक ऐलान किया जाएगा चुनाव नतीजों में बाइडन का जीतना सुनिश्चित हो चुका है। लेकिन क्यूंकि लगभग एक दर्जन सांसदों ने कहा है कि वह विरोध करेंगे इसलिए वह लोग लिखित में अपना विरोध देंगे। गौरतलब है कि ट्रम्प व्हाइट हाउस न छोड़ने की धमकी भी दे चुके हैं। 20 जनवरी को बाइडन की शपथ होगी और ट्रम्प को व्हाइट हाउस छोड़ना होगा नहीं तो फिर नए राष्ट्रपति बायडन को आदेश देना पड़ेगा और ट्रम्प से व्हाइट हाउस ख़ाली कराने की नौबत आ जाएगी।

विलमिन्गटन से बोलते हुए बाइडन ने कहा, ''लोकतंत्र अप्रत्याशित रूप से ख़तरे में है। मैं राष्ट्रपति ट्रंप से अपील कर रहा हूं कि वो नेशनल टीवी पर जाएं और अपनी शपथ का पालन करते हुए संविधान की रक्षा करें और कैपिटल को कब्जे से मुक्त कराएं। कैपिटल में घुसकर खिड़कियाँ तोड़ना, फ्लोर पर कब्जा कर लेना और उथल-पुथल मचाना विरोध नहीं फसाद है।''

अमेरिकी उप-राष्ट्रपति माइक पेंस ने कहा है कि ‘यह अमेरिकी इतिहास में एक काला दिन है।’ उन्होंने कैपिटल हिंसा की निंदा की है और इसमें हुई मौत पर अफ़सोस ज़ाहिर किया है।ट्विटर पर माइक पेंस ने लिखा है कि “हम उन लोगों के आभारी रहेंगे जिन्होंने इस ऐतिहासिक जगह को बचाने के लिए अपनी जगह नहीं छोड़ी।”

वहीं ट्विटर ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का ट्वीटर खाता नीतियों के उल्लंघन को लेकर 12 घंटों के लिए बंद कर दिया है। ट्विटर ने बुधवार को यहां जारी एक बयान में कहा कि अगर श्री ट्रम्प हमारी सिविक इंटीग्रिटी या हिंसक को लेकर उसकी नीतियों का भविष्य में उल्लंघन करते है तो उनके निजी खाते को स्थायी रूप से निलंबित कर दिया जाएगा। कंपनी ने कहा कि श्री ट्रम्प द्वारा हाल में पोस्ट किए गए तीन ट्वीट्स को आज हटा दिया गया है क्योंकि उन्होंने कैपिटल हिल पर हिंसक स्थिति के बीच हिंसक खतरों का उल्लंघन किया है। परिणामस्वरूप उसका खाता 12 घंटे के लिए बंद हो जाएगा।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से