Home दुनिया अमेरिका कश्मीर को ट्रंप ने बताया द्विपक्षीय मसला, मध्यस्थता से इनकार: भारतीय राजदूत

कश्मीर को ट्रंप ने बताया द्विपक्षीय मसला, मध्यस्थता से इनकार: भारतीय राजदूत

आउटलुक टीम - AUG 13 , 2019
कश्मीर को ट्रंप ने बताया द्विपक्षीय मसला, मध्यस्थता से इनकार: भारतीय राजदूत
कश्मीर को ट्रंप ने बताया द्विपक्षीय मसला, मध्यस्थता से इनकार: भारतीय राजदूत
आउटलुक टीम

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने स्पष्ट कर दिया है कि कश्मीर पर उनकी ओर से मध्यस्थता की कोई पेशकश नहीं है। यह जानकारी भारतीय राजदूत ने दी है।

राजदूत हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा कि कश्मीर पर अमेरिका की दशकों पुरानी नीति मध्यस्थता की नहीं रही है, बल्कि उनकी नीति भारत और पाकिस्तान को द्विपक्षीय मतभेदों को सुलझाने के लिए प्रोत्साहित करना है।

श्रृंगला ने  समाचार चैनल फॉक्स न्यूज को बताया,  "राष्ट्रपति ट्रंप ने यह स्पष्ट कर दिया है कि जम्मू-कश्मीर में मध्यस्थता करने की उनकी पेशकश भारत और पाकिस्तान दोनों के स्वीकार करने पर निर्भर है। चूंकि भारत ने मध्यस्थता की पेशकश को स्वीकार नहीं किया है, इसलिए उन्होंने स्पष्ट कर दिया है कि यह अब मेज पर नहीं है।"

उन्होंने कहा कि भारत ने अमेरिका को यह स्पष्ट कर दिया है कि इस मुद्दे पर कोई भी चर्चा केवल पाकिस्तान के साथ और केवल द्विपक्षीय रूप से होगी, जो लंबे समय से भारत की घोषित स्थिति है।

 अमेरिका की दशकों पुरानी नीति के संदर्भ में एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, "यह संयुक्त राज्य की दीर्घकालिक नीति है।"

 श्रृंगला ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस भी इस मुद्दे पर बहुत स्पष्ट थे। इस मुद्दे को भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय रूप से हल करना होगा।

विदेश विभाग के प्रवक्ता मॉर्गन ऑर्टागस ने पिछले हफ्ते कहा था कि कश्मीर पर उसकी नीति में कोई बदलाव नहीं हुआ है क्योंकि उसने भारत और पाकिस्तान को संयम बनाए रखने और अपने मतभेदों को सुलझाने के लिए सीधे बातचीत करने का आह्वान किया है।

प्रतिबंधों में दी जा रही है ढील 

  उन्होंने कहा, 'कश्मीर में प्रतिबंधों में ढील दी जा रही है। ईद का त्योहार मनाने के लिए हजारों की संख्या में लोग उमड़े। वे मस्जिद गए, उन्होंने प्रार्थना की, दुकानें खुली हैं। यहां तक कि कई शहरों में ट्रैफिक जाम भी है। और हम प्रतिबंधों पर लगातार ढील दे रहे हैं।

22 जुलाई को ट्रंप के इस बयान ने मचाई थी खलबली

 22 जुलाई को, व्हाइट हाउस में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ मीडिया के सामने राष्ट्रपति ट्रंप ने यह कहकर भारत को चौंका दिया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कश्मीर मुद्दे पर उनकी मध्यस्थता की मांग की है।  

भारत ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी द्वारा अमेरिकी राष्ट्रपति से ऐसा कोई अनुरोध नहीं किया गया है और सभी मुद्दों को इस्लामाबाद के साथ द्विपक्षीय रूप से हल करना होगा।

एक सप्ताह बाद, ट्रंप ने कहा कि कश्मीर मुद्दे को हल करने के लिए भारत और पाकिस्तान पर निर्भर था, लेकिन वह मदद करने के लिए तैयार था अगर दो दक्षिण एशियाई पड़ोसी चाहते थे कि वह इस मुद्दे को हल करने में मदद करे।

एजेंसी इनपुट

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से