Home दुनिया अमेरिका भारतवंशी नीरा टंडन को बजट प्रमुख बनाना चाहते हैं बाइडन, लेकिन इस ट्वीट के कारण हो रहा है उनका विरोध

भारतवंशी नीरा टंडन को बजट प्रमुख बनाना चाहते हैं बाइडन, लेकिन इस ट्वीट के कारण हो रहा है उनका विरोध

आउटलुक टीम - FEB 20 , 2021
भारतवंशी नीरा टंडन को बजट प्रमुख बनाना चाहते हैं बाइडन, लेकिन इस ट्वीट के कारण हो रहा है उनका विरोध
भारतवंशी नीरा टंडन को बजट प्रमुख बनाना चाहते हैं बाइडन, जानिए- नीरा के किस ट्वीट के कारण हो रहा है उनका विरोध
Twitter
आउटलुक टीम

भारतवंशी अमेरिकी नीरा टंडन को राष्ट्रपति जो बाइडन बजट विभाग का प्रमुख बनाना चाहते हैं, लेकिन नीरा के पुराने ट्वीट उनके लिए मुसीबत बन गए हैं। रिपब्लिकन के साथ कुछ डेमोक्रेट सांसद भी उनकी नियुक्ति के खिलाफ हैं। ये सांसद 50 साल की नीरा को बजट डायरेक्टर बनाने के प्रस्ताव के विरोध में वोट दे सकते हैं। नीरा की नियुक्ति पर बुधवार को वोटिंग होनी है। बाइडन को भरोसा है कि नीरा के नाम पर सीनेट की सहमति मिल जाएगी। अगर नीरा के नाम पर सहमति नहीं बनती है तो बाइडन की तरफ से प्रस्तावित ऐसा पहला नाम होगा।

नीरा को एक रिपब्लिकन सांसद की जरूरत

डेमोक्रेट सीनेटर जो मंचिन ने कहा है कि वे नीरा के खिलाफ वोटिंग करेंगे। अमेरिकी सीनेट में डेमोक्रेट और रिपब्लिकन, दोनों दलों के 50-50 सांसद हैं। टाइ होने की स्थिति में उपराष्ट्रपति कमला हैरिस निर्णायक वोट दे सकती हैं। लेकिन अब मंचिन के विरोध में हो जाने से नीरा के नाम पर मंजूरी के लिए बाइडन को कम से कम एक रिपब्लिकन सांसद के समर्थन की जरूरत पड़ेगी। अभी तक किसी भी रिपब्लिकन सीनेटर ने नीरा के पक्ष में वोट देने की बात नहीं की है।

रिपब्लिकन सांसद की तुलना वैंपायर से कर दी

नीरा के इस विरोध का कारण उनके पुराने ट्वीट हैं। इन ट्वीट्स में उन्होंने सीनेट के माइनॉरिटी लीडर मिच मैकॉनल को मॉस्को-विच कह दिया और सीनेटर टॉम कॉटन को फ्रॉड बता दिया था। सीनेटर टेड क्रूज की तुलना वैंपायर से करते हुए यहां तक कह दिया कि वैंपायर का दिल भी टेड क्रूज से ज्यादा बड़ा होगा। उन्होंने बजट कमेटी के प्रमुख सीनेटर बर्नी सैंडर्स को भी नहीं बख्शा। हालांकि इन आलोचनाओं के बाद नीरा ने पुराने ट्वीट डिलीट कर दिए हैं, और माफी भी मांगी है। कुछ सीनेटर्स ने इस बात पर भी आपत्ति जताई है कि नीरा पहले जिस संगठन (सेंटर फॉर अमेरिकन प्रोग्रेस) के लिए काम करती थीं, उसने 2014 से अमेरिकी कंपनियों से 3.8 करोड़ डॉलर का डोनेशन लिया है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से