Home दुनिया अमेरिका क्लाइमेट चेंज पर बोले ट्रंप, अमेरिका सबसे स्वच्छ देश, भारत इतना प्रदूषित कि सांस भी नहीं ले सकते

क्लाइमेट चेंज पर बोले ट्रंप, अमेरिका सबसे स्वच्छ देश, भारत इतना प्रदूषित कि सांस भी नहीं ले सकते

आउटलुक टीम - JUN 06 , 2019
क्लाइमेट चेंज पर बोले ट्रंप, अमेरिका सबसे स्वच्छ देश, भारत इतना प्रदूषित कि सांस भी नहीं ले सकते
ट्रंप ने भारत पर फोड़ा क्लाइमेट चेंज का ठीकरा, कहा- भारत, चीन, रुस को नहीं अपनी जिम्मेदारी का एहसास
File Photo
आउटलुक टीम

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने जलवायु परिवर्तन (क्लाइमेट चेंज) का ठीकरा भारत, चीन और रूस पर फोड़ा है। ब्रिटेन दौरे के आखिरी दिन ट्रंप ने दावा किया कि अमेरिका स्‍वच्‍छतम जलवायु वाले देशों में से एक है। साथ ही ट्रंप ने कहा कि चीन, रुस, भारत जैसे देशों में अच्छी हवा नहीं है ना ही अच्छा पानी है ये काफी प्रदूषित देश हैं।  दरअसल, ट्रंप ने पर्यावरण संबंधी ये टिप्पणी अपने तीन दिवसीय ब्रिटेन दौरे के आखिरी दिन एक साक्षात्कार में अमेरिका को सबसे स्वच्छ देश बताया।

इंटरव्‍यू में ब्रिटिश राजपरिवार के सदस्‍य प्रिंस चार्ल्‍स से मुलाकात के बारे में पूछे गए सवाल पर ट्रंप ने कहा कि इन तीन देशों में हवा और पानी ‘अच्‍छा’ नहीं है और दुनिया के वातावरण के प्रति अपनी जिम्‍मेदारी उन्‍होंने नहीं निभाई है। ट्रंप ने इस दौरान 2017 में पेरिस जलवायु समझौते से पीछे हटते हुए भारत और अन्य देशों को दोषी ठहराया और तब के विवाद को दोहराया।

ट्रंप ने जलवायु परिवर्तन पर प्रिंस चार्ल्स के साथ मंगलवार को एक विस्तृत चर्चा की, जिसमें उन्होंने कहा कि चार्ल्स ने इस मुद्दे पर बेहद गंभीरता से बात की और मैं उनकी इस गंभीरता का मुरीद हो गया। इसके साथ ही ट्रंप ने कहा कि प्रिंस चार्ल्स को उन्होंने भी क्लाइमेट चेंज विषय पर कुछ सुझाव दिए।

प्रिंस चार्ल्स ऐसा विश्व चाहते हैं जो भावी पीढियों के लिए अच्छा हो

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को कहा कि वह जलवायु परिवर्तन से लड़ने को लेकर प्रिंस चार्ल्स के जज्बे से आश्चर्यचकित हैं। ट्रंप, प्रिंस चार्ल्स की इस बात से भी खासा प्रभावित हैं कि वह ऐसा विश्व चाहते हैं जो ‘भावी पीढियों के लिए अच्छा हो।’ ट्रंप ने 2016 में राष्ट्रपति बनने के बाद से पर्यावरण संबंधी नियमों को वापस लिया है और वह अमेरिका को पेरिस जलवायु संधि से भी बाहर कर चुके हैं।

चार्ल्स ने जलवायु परिवर्तन विषय पर अच्छी तरह से बातचीत की

हालांकि ट्रंप ने कहा कि वह पर्यावरण के हितों के प्रति कटिबद्धता को लेकर प्रिंस चार्ल्स से प्रभावित हैं। कहा कि महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के बेटे चार्ल्स ने जलवायु परिवर्तन विषय पर अच्छी तरह से बातचीत की। ट्रंप ने कहा, ‘हम 15 मिनट बातचीत करने वाले थे। लेकिन यह बातचीत डेढ घंटे चली। और ज्यादातर समय वह ही बोले। वह जलवायु परिवर्तन विषय पर संजीदा हैं और मुझे लगता है कि यह बहुत अच्छी बात है, मतलब यह कि मैं यह चाहता हूं, मुझे यह पसंद है।’

वर्तमान में अमेरिका सबसे स्वच्छ क्लाइमेट वाला देश है

उन्होंने आगे कहा कि अमेरिका वर्तमान में सबसे स्वच्छ क्लाइमेट वाला देश है जो हर मानकों पर खरा उतरता है और ये और भी बेहतर हो रहा है। हम स्वच्छ और बेहतर पानी के लिए प्रयासरत हैं। इसके अलावा ट्रंप ने कहा कि चीन, रुस, भारत जैसे देशों में अच्छी हवा नहीं है ना ही अच्छा पानी है ये काफी प्रदूषित देश हैं। अगर आप इनमें से किसी शहर में जाते हैं तो आप ढंग से सांस भी नहीं ले पाते हैं। उन्हें अपनी जिम्मेदारी का एहसास नहीं है। ब्रिटेन दौरे पर ट्रंप ने क्वीन एलिजाबेथ, फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों, जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल, कनाडा प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रुडो जैसे ग्लोबल लीडर से मुलाकात की।

तीन दिवसीय ब्रिटेन की राजकीय यात्रा पर थे ट्रंप

राष्ट्रपति ट्रंप ब्रिटेन की तीन दिवसीय राजकीय यात्रा पर आए थे। किसी भी अमेरिकी राष्ट्रपति की यह ब्रिटेन की तीसरी यात्रा रही। इससे पहले वर्ष 2003 में जॉर्ज डब्ल्यू बुश और 2011 में बराक ओबामा भी यहां आए थे।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से