Home दुनिया कोरोना के 'ओमिक्रोन' वेरिएंट से पूरी दुनिया में अलर्ट, जानें किन-किन देशों ने लगाए प्रतिबंध

कोरोना के 'ओमिक्रोन' वेरिएंट से पूरी दुनिया में अलर्ट, जानें किन-किन देशों ने लगाए प्रतिबंध

आउटलुक टीम - NOV 29 , 2021
कोरोना के 'ओमिक्रोन' वेरिएंट से पूरी दुनिया में अलर्ट, जानें किन-किन देशों ने लगाए प्रतिबंध
प्रतीकात्मक तस्वीर
एपी
आउटलुक टीम

कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के मामले रविवार को दुनिया के कई देशों में पाया गए हैं। नए वेरिएंट के वजह से सरकारें अपनी सीमाओं को बंद करने लगी हैं, भले ही वैज्ञानिकों ने आगाह करते हुए कहा हो कि यह स्पष्ट नहीं है कि वायरस का नया वेरिएंट अन्य वेरिएंट की तुलना में अधिक खतरनाक है।

सार्स_कोव-2 के नए वेरिएंट को दक्षिण अफ्रीका के शोधकर्ताओं द्वारा कुछ दिन पहले पहचाना गया था और इसके बारे में अभी तक जानकारी नहीं है कि यह अधिक संक्रामक है और गंभीर बीमारी पैदा करता है या टीका लगने के बाद लोगों की सुरक्षित रहने की संभावना कितनी है।

लेकिन कई देश उद्दिग्नता में आकर इसके ऊपर निर्णय लेना शुरू कर चुके हैं, जो इस महामारी को और बढ़ाने का काम करेगी, जिससे अभी तक 5 मिलियन से ज्यादा लोगों की मृत्यु हो चुकी है। 

इज़राइल ने अपने यहां बाहरी लोगों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है और मोरक्को का कहना है कि सोमवार से शुरू होने वाली सभी उड़ानों को वो दो सप्ताह के लिए निलंबित कर देगा। वेरिएंट के प्रसार को धीमा करने के लिए दुनिया भर के अन्य देशों द्वारा लगाए गए यात्रा प्रतिबंधों की बढ़ती रफ्तार में ये दोनों सबसे उग्र निर्णय हैं।

वैज्ञानिकों ने इसकी उपस्थिति की पुष्टि हांगकांग, यूरोप, उत्तरी अमेरिका तक में भी की है।

नीदरलैंड ने रविवार को 13 ओमिक्रोन के मामलों की सूचना दी, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया में भी इसके दो मामले पाए गए हैं और कई अन्य देशों में भी इस वेरिएंट का पता लगाया जा चुका है- इसलिए सीमा पार आवाजाही रोकने से कुछ ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी सीमाओं को खुला रखने के लिए कहा है।

इस बीच, संयुक्त राज्य अमेरिका में राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान के निदेशक डॉ. फ्रांसिस कॉलिन्स ने इस बात पर जोर दिया कि अभी तक कोई डेटा नहीं है जो बताता है कि नया संस्करण पिछले कोविड-19 वेरिएंट की तुलना में अधिक गंभीर बीमारी का कारण बनता है।

कोलिन्स ने सीएनएन के शो "स्टेट ऑफ द यूनियन" पर कहा, "मुझे लगता है कि यह अधिक संक्रामक है जब आप देखते हैं कि यह दक्षिण अफ्रीका के कई जिलों में कितनी तेजी से फैल गया है। इसके विशेष रूप से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलने की संभावना है। हम जो नहीं जानते हैं वह यह है कि क्या यह हो सकता है कि यह डेल्टा वेरिएंट के साथ प्रतिस्पर्धा करे।"

कोलिन्स ने कई विशेषज्ञों को यह कहते हुए जोर दिया कि न्यूज को अब इस वेरिएंट के खिलाफ अपना प्रयोग बढ़ा कर लोगों को इसके प्रति जागरूक करना चाहिए। लोगों को टीकाकरण, बूस्टर शॉट्स और मास्क पहनने जैसे उपायो के बारे में बताया जाए।

कोलिन्स ने अमेरिका के बारे में कहा, "मुझे पता है, अमेरिका, आप वास्तव में उन चीजों को सुनकर थक गए हैं, लेकिन वायरस हमसे नहीं थक रहा है।"

डच पब्लिक हेल्थ अथॉरिटी ने पुष्टि की है कि शुक्रवार को दक्षिण अफ्रीका से आने वाले 13 लोग अब तक परीक्षण में ओमिक्रोन पॉजिटिव पाए गए हैं। ये लोग उन 61 लोगों शामिल थे, जिन्होंने फ्लाइट बंद होने से पहले एम्स्टर्डम के शिफोल हवाई अड्डे की आखिरी दो उड़ानों में ट्रेवल किया था। उन्हें तुरंत एक होटल में आइसोलेट कर दिया गया है।

कनाडा के स्वास्थ्य मंत्री का कहना है कि देश में ओमिक्रोन के पहले दो मामले ओन्टारियो से सामने आए हैं। ये दोनों ने हाल ही में नाइजीरिया की यात्रा की थी।

ऑस्ट्रेलिया में अधिकारियों ने कहा कि अफ्रीका से सिडनी में आने वाले दो यात्री देश में परीक्षण के बाद ओमिक्रोन वेरिएंट से पॉजिटिव पाए गए हैं। अब ऑस्ट्रेलिया में नौ अफ्रीकी देशों से आने पर होटल में एक हफ़्ते का क्वॉरंटाइन जरूरी होगा। जर्मनी के दो राज्यों में भी नए वेरिएंट के तीन केस पाए गए हैं। ये सभी लोग इसी सप्ताह कहीं न कहीं से आए थे।

इज़राइल ने भी विदेशी नागरिकों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है और सभी इजराइली नागरिक जो बाहर से आ रहे हैं उनके लिए क्वॉरंटाइन अनिर्वाय कर दिया है।

जापानी प्रधानमंत्री फ्यूमियो किशिदा ने सोमवार को कहा कि जापान भी सीमा नियंत्रण को बढ़ाने पर विचार कर रहा है। किशिदा ने संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने दक्षिण अफ्रीका और आठ अन्य आस-पास के देशों के यात्रियों के लिए मौजूदा 10-दिवसीय आवश्यक क्वॉरंटाइन के अलावा और भी कई नए उपायों की घोषणा करने की योजना बनाई है। यहां अभी भी विदेशी पर्यटकों पर प्रतिबंध लगा हुआ है।

मोरक्को के विदेश मंत्रालय से आ रही खबरों के अनुसार उत्तरी अफ्रीकी देश से आने वाली सभी हवाई यात्रा को निलंबित कर दिया जाएगा। विदेश मंत्रालय ने ट्वीट कर बताया, "महामारी के खिलाफ लड़ाई में मोरक्को द्वारा प्राप्त उपलब्धियों को फिर से संरक्षित किया जाएगा। इससे ही नागरिकों की भलाई सुनिश्चित होगी।" मोरक्को अफ्रीका में टीकाकरणों में सबसे आगे रहा है। इसने महामारी के कारण 2020 में कई महीनों के लिए अपनी सीमाओं को बंद कर दिया था।

अमेरिका ने सोमवार से दक्षिण अफ्रीका और सात अन्य दक्षिण अफ्रीकी देशों से यात्रा पर प्रतिबंध लगाने की योजना बनाई है। संयुक्त राज्य अमेरिका के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ, डॉ. एंथनी फौसी ने एबीसी के "दिस वीक" कार्यक्रम पर प्रतिबंध के बारे में कहा, "यह प्रतिबंध हमें वक्त देगा, जिससे हम अपनी तैयारियों को बढ़ा सकेंगे।"

कई देशों में इस तरह के प्रतिबंध लगाए जा रहे हैं, जो डब्ल्यूएचओ की सलाह के खिलाफ है। डब्ल्यूएचओ ने वेरिएंट का पूरी तरह से अध्ययन करने से पहले किसी भी अतिरंजना (ओवर रिएक्शन) के खिलाफ चेतावनी दी है।

व्हाइट हाउस के एक बयान के अनुसार, फौसी का मानना है कि ट्रांसमिसिबिलिटी, गंभीरता और ओमिक्रोन की अन्य विशेषताओं के बारे में अधिक निश्चित जानकारी प्राप्त करने में लगभग दो सप्ताह लगेंगे।

दक्षिण अफ्रीका की सरकार ने यात्रा प्रतिबंधों पर गुस्से में प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि यह दक्षिण अफ्रीका को इसकी उन्नत जीनोमिक सिक्वेंसिंग और नए वेरिएंट को तेजी से पता लगाने की क्षमता के लिए दंडित करने के समान है।

डब्ल्यूएचओ ने एक बयान जारी किया है कि वह अफ्रीकी देशों के साथ खड़ा है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार यात्रा प्रतिबंध कोविड -19 के प्रसार को थोड़ा कम करने में भूमिका निभा सकते हैं, लेकिन जीवन और आजीविका पर भारी बोझ भी डाल सकते हैं। डब्ल्यूएचओ ने कहा, "अगर प्रतिबंध लगाए जाते हैं तो उसमें हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए, बल्कि उसका कोई वैज्ञानिक आधार होना चाहिए।

यूरोप भी अपने अधिकारियों को सतर्क कर दिया है। जाहिर हो कि यूरोप पहले से ओमिक्रोन के बढ़ते मामलों से संघर्ष कर रहा है।

यूके में शनिवार को दो ओमिक्रोन मामलों का पता लगने के बाद मास्क पहनने और अंतरराष्ट्रीय आगमन पर परीक्षण के नियमों को कड़ा कर दिया है। लेकिन, ब्रिटिश स्वास्थ्य सचिव साजिद जाविद ने कहा कि सरकार घर से काम बहाल करने या अधिक गंभीर सोशल डिस्टेंसिंग के उपायों के बारे में नहीं सोच रही है।

उन्होंने स्काई न्यूज को बताया, "उस प्रकार के उपायों की आर्थिक, सामाजिक रूप से बहुत भारी कीमत होती है और इससे मानसिक स्वास्थ पर भी असर पड़ता है।"

स्पेन ने घोषणा की है कि वह 1 दिसंबर से बिना टीकाकरण वाले ब्रितानी विजिटर्स को स्वीकार नहीं करेगा। इटली पिछले दो हफ्तों में विदेशों से आने वाले एयरलाइन यात्रियों की सूची देख रहा है। फ्रांस टीकाकरण और बूस्टर शॉट्स को आगे बढ़ा रहा है। 

हांगकांग में महामारी पर सरकारी सलाहकार और एक श्वसन (रेस्पिरेटरी) चिकित्सा विशेषज्ञ डेविड हुई उस रणनीति से सहमत थे। उन्होंने कहा कि जो दो लोग ओमिक्रोन वेरिएंट से पॉजिटिव हुए हैं उन्हें फाइजर वैक्सीन मिली थी और गले में खराश जैसे बहुत हल्के लक्षण सामने आए थे। उन्होंने कहा, "टीकों को काम करना चाहिए लेकिन प्रभावशीलता में कुछ कमी आएगी।"

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से