Home नज़रिया श्रीदेवी और माधुरी दीक्षित सहित सरोज खान ने अपनी धुनों से कई अभिनेता-अभिनेत्री को स्टार बनाया

श्रीदेवी और माधुरी दीक्षित सहित सरोज खान ने अपनी धुनों से कई अभिनेता-अभिनेत्री को स्टार बनाया

गिरिधर झा - JUL 03 , 2020
श्रीदेवी और माधुरी दीक्षित सहित सरोज खान ने अपनी धुनों से कई अभिनेता-अभिनेत्री को स्टार बनाया
श्रीदेवी और माधुरी दीक्षित सहित सरोज खान ने अपनी धुनों से कई अभिनेता-अभिनेत्री को स्टार्स बनाया
File Photo
गिरिधर झा

सरोज खान जो नब्ज-पांव की प्रतिभा की धनी थी। जिन्होंने बॉलीवुड सितारों की पीढ़ियों को बनाया, जिसमें वो भी शामिल रहीं जिन्हें नृत्य नहीं आता था। वो बॉलीवुड की पहली महिला कोरियोग्राफर थीं जिनके धुनों पर इन सितारों ने नृत्य किया। अत्यधिक प्रतिस्पर्धी क्षेत्र में, जहां पुरुष हावी होते हैं, उसे तोड़ वो शिखर पर पहुंची। एक लंबे और शानदार करियर के बाद मुंबई में 71 साल की उम्र में सरोज खान का निधन हो गया, जिन्होंने अपने समय की दो सबसे बड़ी महिला सुपरस्टार्स की किस्मत को आकार देने में एक बड़ी भूमिका निभाई।

श्रीदेवी और माधुरी दीक्षित की कुछ सबसे बड़ी संगीत हिट फिल्मों की कोरियोग्राफी कर सरोज खान ने 1980-90 के दशक में उनके करियर को एक शिखर दिया। 1986 में आई फिल्म नगीना का गाना मैं तेरी दुश्मन, 1987 में आई फिल्म मिस्टर इंडिया के गाने हवा हवाई और काटे नहीं कटते दिन ये रात जैसी हिट फिल्मों में श्रीदेवी के लिए उनकी कोरियोग्राफी ने उन्हें एक नई पहचान दी। इसी तरह से 1989 में आई फिल्म चांदनी में (चांदनी ओ मेरी चांदनी), चालबाज (1989)  में (ना जाने कहां से आई है) लम्हें (1991) में मोरनी जैसे गानों ने दोनों, अभिनेत्री और कोरियोग्राफर सरोज खान को अपने-अपने क्षेत्र स्थापित किया।

तीन राष्ट्रीय पुरस्कारों की विजेता निर्मला नागपाल ने माधुरी दीक्षित के बॉलीवुड में आने के साथ ही श्रीदेवी के समतुल्य अपना दबदबा कायम रखा। जिसमें 1989 में आई फिल्म तेजाब का गाना एक दो तीन, बेटा (1992) का गाना धक-धक करने लगा, 1993 में आई फिल्म खलनायक का गाना चोली के पीछे क्या है, और 1994 की फिल्म हम आपके हैं कौन का गाना दीदी तेरा देवर दीवाना जैसी सुपर हिट फिल्में शामिल हैं। नए दौर में संजय लीला भंसाली की फिल्म देवदास (2002) में डोला फिर डोला और हाल ही में कलंक (2019) में तबाह हो हाय में शानदार अभिनय जारी रहा।

लेकिन यह केवल श्रीदेवी और माधुरी दीक्षित नहीं थीं जिनके साथ उन्होंने उत्कृष्ट अभिनय किया। एक स्वतंत्र कोरियोग्राफर के रूप में लगभग चार दशक के करियर में सरोज ने सभी प्रमुख अभिनेताओं के साथ काम किया। अमिताभ बच्चन से लेकर गोविंदा और शाहरुख खान से लेकर शाहिद कपूर तक काम किया। 1960 के दशक में बैकग्राउंड डांसर के रूप में इंडस्ट्री में शामिल होने के बाद गीता मेरा नाम (1974) में उन्हें बड़ा मौका मिला और उन्होंने इस इंडस्ट्री का ध्यान आकर्षित किया। उनके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

हालाँकि, उस समय एक महिला कोरियोग्राफर के लिए इंडस्ट्री में पैठ बनाना कठिन समय था क्योंकि अधिकांश पुरुष अभिनेता सिर्फ पुरुष नृत्य निर्देशकों के साथ काम करना पसंद करते थे। इस तथ्य पर भी ध्यान दिया जाता है कि उस दौर के अधिकांश लोकप्रिय अभिनेता जितेंद्र और ऋषि कपूर को छोड़कर बाकि नृत्य करने वाले स्टार्स नहीं थे। राज कुमार, मनोज कुमार, धर्मेंद्र, राजेश खन्ना, शत्रुघ्न सिन्हा और उस समय के कई अन्य बड़े अभिनेता मुश्किल से नृत्य कर पाते थे। हालाँकि, बॉलीवुड में मिथुन चक्रवर्ती और गोविंदा जैसे अस्सी के दशक में नाचने वाले सितारों के साथ स्थिति बदल गई। 80 के दशक के लगभग डेढ़ दशक के बाद डार (1993), बाजीगर (1993), मोहरा (1994) दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे (1995), ताल (1999) और हम दिल दे चुके सनम (1999) जैसी फिल्मों के साथ बॉलीवुड में एक महिला कोरियोग्राफर ही दिखती थी।

इस वक्त तक कोरियोग्राफी में सरोज खान शीर्ष पर थी फिर भी उन्हें नब्बे के दशक में फराह खान जैसे नए-युग के नृत्य निर्देशकों के उभरने से चुनौती का सामना करना पड़ा। फराह खान ने जो जीता वही सिकंदर (1992) में पहला नशा और शियामक डावर में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। सरोज खान, जिनकी ताकत शास्त्रीय भारतीय नृत्य में थी, जल्द ही नए दौर के दूसरे नृत्य निर्देशक उनसे आगे निकल गए। हालाँकि, संजय लीला भंसाली और सुभाष घई जैसे बड़े फिल्म निर्माताओं ने अभी भी उन पर विश्वास जताया और उन्होंने जब वी मेट (2007) जैसी फिल्मों में काम करना जारी रखा। उन्हें प्यार से स्टार्स मास्टरजी बुलाते थे। फिल्म के सेट पर उनके द्वारा सिखाई गई नृत्यों को टॉप स्टार नहीं छोड़ते थे। हेमा मालिनी, श्रीदेवी, माधुरी दीक्षित या मीनाक्षी शेषाद्रि जैसी अभिनेत्रियां अपने आप में प्रशिक्षित डांसर थीं जिन्होंने अपने काम को आसान बना लिया था लेकिन यह सरोज खान की खासियत थी कि उन्होंने सनी देओल जैसे एक्टर को भी डांस करा दिया, जिनकी डांस को लेकर सीमाएं हम सभी को पता है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से