Home नज़रिया सामान्य बॉलीवुड की बड़ी हस्तियां आखिर नागरिकता कानून और एनआरसी पर खामोश क्यों?

बॉलीवुड की बड़ी हस्तियां आखिर नागरिकता कानून और एनआरसी पर खामोश क्यों?

विद्योत्तमा शर्मा - DEC 22 , 2019
बॉलीवुड की बड़ी हस्तियां आखिर नागरिकता कानून और एनआरसी पर खामोश क्यों?
बॉलीवुड की बड़ी हस्तियां आखिर नागरिकता कानून और एनआरसी पर खामोश क्यों
विद्योत्तमा शर्मा

जब फरहान अख्तर, सुशांत सिंह, स्वरा भास्कर, राहुल बोस, जावेद जाफरी, सईद मिर्ज़ा, सुहासिनी मुले और हुमा कुरैशी गुरुवार को मुंबई के क्रांति मैदान में नागरिकता संशोधन अधिनियम और एनआरसी के विरोध में शामिल हुए, तो उन्होंने राष्ट्र को विभाजित करने वाले इन फैसलों के खिलाफ आवाज उठाने से आगे बढ़कर काम किया। उन्होंने 'रोल मॉडल' शब्द को फिर से परिभाषित किया।

करीब 25,000 से अधिक लोगों की भीड़ में सभी बाधाओं को झेलते हुए और आम जनता के साथ खड़े होकर सिनेमा उद्योग की हस्तियां आइकन की तरह नहीं बल्कि आम जनता की तरह मौजूद थीं। वे अमिताभ बच्चन, शाहरुख खान, आमिर खान और सलमान खान और निश्चित ही अक्षय कुमार जैसे नहीं थे। वे राष्ट्र के मूलभूत स्वरूप वाले डीएनए को बचाने के प्रयास में लोगों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े थे।

वैसे वे बॉलीवुड में अपेक्षाकृत ’छोटे नाम’ थे, लेकिन वे ऐसे नाम थे जिन्होंने अपनी अंतरात्मा की आवाज सुनकर राष्ट्र के धर्मनिरपेक्ष स्वरूप को बचाने के लिए आए थे।

आश्चर्यजनक रूप से आम नागरिकों के लिए समर्थन अप्रत्याशित वर्ग से आया था। कुछ घंटों में ही यह स्पष्ट हो गया कि लोग दशकों से गलत रोल मॉडल की ओर भाग रहे थे। मैदान में में असली रोल मॉडल वे थे जो अगर जरूरत पड़ी तो गोली खाने के लिए तैयार थे।

सरकार और दक्षिणपंथी मिलिंद देवड़ा, एकनाथ गायकवाड़, नसीम खान, राज बब्बर और हुसैन दलवाई की मौजूदगी को 'राजनीतिक अवसरवाद' कह सकते थे, लेकिन यह उन अभिनेताओं और फिल्म निर्माताओं का कोई अवसरवाद नहीं था। वे जानते थे कि उन्होंने अपनी दिल की बात कहने के लिए निशाना बनाया जा सकता है।

लोकप्रिय क्राइम शो, सावधान इंडिया के जाने-माने कलाकार सुशांत सिंह पहले ही शो से बाहर हो चुके है। लेकिन, वे सभी आए क्योंकि उनका दिल, उनकी राष्ट्रीयता, उनकी देशभक्ति ऐसा करना सही मान रही थी। सरकार को इसे बड़ा प्रमाण और क्या चाहिए।

ऐसे लोग भी हैं जो सोशल मीडिया पर ट्रोल झेल रहे हैं फिर भी उन्होंने कदम आगे बढ़ाए। अनुराग कश्यप पिछले कुछ समय से सामाजिक मुद्दों पर आवाज उठा रे हैं। अगर उनका ट्वीट, "बहुत हो गया.. अब और चुप नहीं रह सकता।" यह सरकार स्पष्ट रूप से फासीवादी है .. और इससे मुझे उन आवाजों को देखने के लिए गुस्सा आता है जो वास्तव में एक अंतर को शांत कर सकती हैं ..” उन्हें अपने ट्वीट के लिए ट्रोलिंग झेलनी पड़ी। लेकिन उन्होंने आवाज उठाकर समर्थकों और प्रशंसकों को भी जीता है । आपको ऐसा कुछ लिखने के लिए दृढ़ विश्वास की आवश्यकता होती है।

युवा अभिनेता विक्की कौशल, जिनके आगे पूरा करियर है, ने ट्वीट किया: “जो हो रहा है वह ठीक नहीं है। जिस तरह से यह हो रहा है वह ठीक नहीं है। लोगों को शांति से अपनी राय देने का पूरा अधिकार है।” और राजकुमार राव ने सोशल मीडिया पर स्पष्ट रूप से अपने विचार व्यक्त किए, जब उन्होंने कहा: “मैं पुलिस द्वारा छात्रों के साथ हिंसा की कड़ी निंदा करता हूं। लोकतंत्र में नागरिकों को शांतिपूर्वक विरोध करने का अधिकार है।”

आवाज उठाने में वे अकेले नहीं थे। आयुष्मान खुराना ने ट्वीट किया: “छात्रों के साथ जो कुछ भी किया, उसे लेकर गहराई से परेशान हूं और मैं इसकी कड़ी निंदा करता हूं। हम सभी को अपनी अभिव्यक्ति के मौलिक अधिकार का विरोध करने का अधिकार है।” फिल्म निर्माता अलंकृता श्रीवास्तव भी इसमें शामिल हुईं, "मैंने जामिया में अध्ययन किया। यह वह जगह है जहां मैंने एक फिल्म निर्माता बनने के लिए प्रशिक्षण लिया है। यह हर स्तर पर गलत और क्रूर है। मैं जामिया के बहादुरों के साथ एकजुटता से खड़ी हूं। मैं उन छात्रों के लिए प्रार्थना कर रही हूं, जो मेरे लिए प्रार्थना कर रहे हैं।"

लेकिन सहस्त्राब्दी के नायक अमिताभ बच्चन ने एक भी शब्द नहीं बोला। सत्यमेव जयते कार्यक्रम के प्रस्तोता आमिर खान ने भी राय नहीं दी। सलमान खान अपनी चुप्पी के लिए विशिष्ट रहे। एनजीओ मीर फाउंडेशन के संस्थापक शाहरुख खान ने अपने विचारों को खुद तक सीमित रखा। खैर, अक्षय कुमार से तो वैसे भी भाजपा सरकार के खिलाफ कुछ भी कहने की उम्मीद नहीं थी।

फिल्मी सितारों की एक-दो हस्तियां अपनी आवाज उठाने से पीछे नहीं रह सकीं। ऋतिक रोशन ने ट्वीट किया, “एक अभिभावक और भारत के नागरिक के रूप में, मुझे हमारे देश के विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों में अशांति से गहरा दुख है। मैं आशा करता हूं और शांति जल्द से जल्द कायम होगी। शिक्षक अपने छात्रों से सीखते हैं। मैं दुनिया के सबसे युवा लोकतंत्र को सलाम करता हूं।"

प्रियंका चोपड़ा ने भी अस्पष्ट शब्दों में अपनी राय व्यक्त की जब उन्होंने लिखा: “हर बच्चे के लिए शिक्षा हमारा सपना है। शिक्षा वह है जिससे स्वतंत्र रूप से सोचना के लिए सशक्तिकरण होता है। हमने आवाज उठाने के लिए उन्हें शिक्षित किया। लोकतंत्र में शांति से आवाज उठानी चाहिए। हिंसा फैलाना गलत है। हर आवाज मायने रखती है। और प्रत्येक आवाज भारत को बदलने की दिशा में काम करेगी।

लेकिन ये बॉलीवुड के ’बड़े’ नामों की दुर्लभ आवाजें थीं। आश्चर्य है कि ये सितारे कहते हैं कि जनता सबसे ऊपर है, और जनता ही भगवान है? यह वही जनता थी, वही ईश्वर, जो भारत के सामाजिक ताने-बाने को सुरक्षित रखने के लिए सड़कों पर संघर्ष कर रही है। ये जनता फिल्मी हस्तियों का अनुसरण करती है। आज जनता सड़क पर है। आप लोग कहाँ थे?

फिल्मों में अकेले ही 20 गुंडों की पिटाई करना कोई वास्तविक वीरता नहीं है जब आपने वास्तविक जीवन में सामाजिक मुद्दों के लिए आवाज नहीं उठाई। यह कोई मायने नहीं रखता है कि आप फिल्मों में राष्ट्रीयता पर लंबे भाषण देते हैं, जब विश्वविद्यालयों में हिंसा आपको आक्रोशित नहीं करती है। आपको वास्तविक जीवन में साहस दिखाने की आवश्यकता है। आपने नहीं चुना। आप कोई हीरो नहीं हैं। आप कोई रोल मॉडल नहीं हैं। आप कोई आइकॉन नहीं हैं।

ऐसा कभी-कभी होता है कि सरकार के खिलाफ आवाज उठाने वाले सितारों को किसी न किसी बहाने से निशाना बनाया जाता रहा है। उद्योगपति राहुल बजाज ने भी हाल ही में गृह मंत्री अमित शाह से एक पुरस्कार समारोह में कहा था कि कई उद्योगपति अपनी राय रखने से डरते हैं। उन्होंने कहा था कि वर्तमान शासन ने भय और अनिश्चितता का माहौल बनाया है, और लोग सरकार की आलोचना करने से डरते हैं और लोगों को यह भरोसा नहीं है कि सरकार आलोचना को सहज भाव से लेगी। क्या यह कारण हो सकता है कि ’सितारे’ आवाज उठाने से बच रहे हैं?

 

अभिनेत्री और फिल्म निर्माता कंगना रणौत ऐसा नहीं सोचती हैं। हाल ही में एक साक्षात्कार में, उन्होंने फिल्म उद्योग के लोगों को कायर कहा था। उन्होंने कहा था कि फिल्म उद्योग के जो लोग बेवजह डरते हैं, वे बिना रीढ़ के हैं। उन्हें आइकन मानने की जरूरत नहीं है।

सुशांत सिंह, अनुराग कश्यप, हुमा कुरैशी और स्वरा भास्कर जैसे अभिनेताओं और निर्देशकों की नई पौध उभर रही है जो राष्ट्र के मुद्दों के लिए खड़े होते हैं। खान और कुमार और कपूर और बच्चन अपनी अंतरात्मा की आवाज के साथ रह सकते हैं। वास्तविक हीरो राष्ट्र के लिए बेहतर हैं।

(मुंबई की लेखिका कंटेंट क्रिएटर्स की एडिटर-इन-चीफ हैं। लेख में विचार उनके निजी हैं)

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से