Home नज़रिया सामान्य कोरोना महामारी के बाद क्या धर्म सामाजिक दूरी की वजह से और अधिक व्यक्तिगत हो जाएगा?

कोरोना महामारी के बाद क्या धर्म सामाजिक दूरी की वजह से और अधिक व्यक्तिगत हो जाएगा?

प्रियदर्शनी सेन - JUL 23 , 2020
कोरोना महामारी के बाद क्या धर्म सामाजिक दूरी की वजह से और अधिक व्यक्तिगत हो जाएगा?
एक ईसाई महिला जेरूसलम में चर्च ऑफ द होली सेपुलचर के बंद दरवाजे पर खड़ी हुई
AP
प्रियदर्शनी सेन

जर्मन समाजशास्त्री हंस जोस ने हाल ही में सामाजिक विचार के धार्मिक और धर्मनिरपेक्ष गतिशीलता के बारे में बातचीत के दौरान कहा था कि संकट के समय में भी एकजुटता की भावना होती है। लेकिन सामाजिक दूरी और सेल्फ आइसोलेशन ने कोरोना वायरस में इसे अलग कर दिया है। धर्म की सामुदायिक प्रथाओं पर महामारी का क्या प्रभाव हो सकता है?

क्या कोविड महामारी के बाद धर्म अधिक व्यक्तिगत हो जाएगा? क्या महामारी धर्म की नींव को हिला देगा,  जिससे लोगों का विश्वास पीछे हट जाएंगा या धार्मिकता को न दिखाई देने वाली ऊंचाइयों पर ले जाएगा?

जीवन, मृत्यु, युद्ध और शांति के बारे में नए विचारों को बढ़ावा देने के साथ पारंपरिक धर्म ने लोगों को दुनिया को समझने और इस ऐतिहासिक समुदाय का हिस्सा बनने में सक्षम बनाया है। लेकिन चौदहवीं शताब्दी के बुबोनिक प्लेग के बाद, यूरोप में चर्च के प्रति अविश्वास बढ़ गया क्योंकि प्रार्थनाओं की दलीलों ने बीमारी के प्रसार को रोकने में कोई योगदान नहीं दिया।  

कोरोनो वायरस महामारी के साथ हम देख रहे हैं कि लोग पूजा की जगहों से मुड़ रहे रहे हैं क्योंकि उनके विश्वास के तौर-तरीकों में बदलाव हो रहा है। कुछ धार्मिक समारोहों को महामारी के प्रसार के कारण के रूप में लक्षित किया गया है। अन्य लोगों को सामाजिक दूरी के प्रोटोकॉल का स्पष्ट उल्लंघन करने को लेकर किया गया है। इस भ्रम में फंसकर आस्तिक समुदाय के धार्मिक जीवन के लिए केंद्रीय धारणा के साथ संघर्ष कर रहा है।

मार्च के बाद से देश में सभी तरह के त्योहारों को या तो रद्द कर दिया गया है या मौन रूप से मनाया जा रहा है। महाराष्ट्र में गुड़ी पड़वा को रद्द कर दिया गया। बैंगलोर के करगा उत्सव को 150 वर्षों में पहली बार बंद किया गया और ईस्टर और ईद-उल-फितर के त्यौहारों को बढ़ाया गया।

सोमवार को सऊदी अरब ने कहा कि पवित्र शहर मक्का में हज यात्रा के लिए 2.5 मिलियन की बजाय सिर्फ 1,000 मुस्लिम तीर्थयात्रियों को अनुमति दी जाएगी। गणेश चतुर्थी और दुर्गा पूजा उत्सवों पर अनिश्चिता बनी हुई है। अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने सुबह और शाम की प्रार्थनाओं को वर्जुअसल दर्शन की घोषणा की है ।हालांकि इसके माध्यम से कोरोनो वायरस के प्रसार से निपटने में सरकार समर्थ हो सकती है। लेकिन, धार्मिक जीवन की कमजोरियां इसकी वजह से फैल गई हैं।

पुजारी और धार्मिक सामुदायिक इस भावना को बढ़ाने के लिए नई तकनीक और सोशल मीडिया प्लेटफार्मों की ओर बढ़ रहे हैं। ये वर्चुअल प्लेटफ़ॉर्म समुदायों को एक साथ मज़बूती से पकड़ सकता हैं। लेकिन यह विश्वास के रूप में वर्जुअल धर्म को सैद्धांतिक रूप से गले लगाने का एक अलग तरह का मामला है। डिजिटल माध्यम धर्म की गतिशीलता का पुनरुत्थान करता है। संवादात्मक प्लेटफार्मों पर अनुष्ठान में भाग लेने से समूह-पूजा का गहन भावनात्मक अनुभव प्रभावित होता है।

सामाजिक संपर्क न केवल सामुदायिक संबंधों को पालता है ,बल्कि पूजा स्थलों, फूलों और मिठाई बेचने वालों से लेकर प्रार्थना के सामानों, पर्चों और पुजारियों के आस-पास बनाए गए पारिस्थितिक तंत्र के लिए भी उपयुक्त होता हैं। अब इनका भविष्य अनिश्चितता में डूबा हुआ है।

इन बाधाओं के बावजूद कुछ आस्थावान लोग अपने समुदायों को बनाए रखने के लिए भौतिक परिदृश्य में नए अवसरों को ढूंढ रहे हैं। वे अपने समूहों से परे आध्यात्मिक देखभाल प्रदान कर रहे हैं। गरीबों को भोजन करा रहे हैं और कमजोर लोगों को बुनियादी सुविधाएं प्रदान कर रहे हैं।

हालाँकि, सामाजिक स्तर पर व्यवधान दिखाने की कोशिशों ने विश्वासपात्रों के बीच जुड़ाव और प्रतिबद्धता के अधिक से अधिक स्तर को एकत्रित किया है। हालाँकि, इसमें भी चुनौतियां भरे पड़े हैं।

एक प्रारंभिक बिंदु के रूप में आस्थावान लोगों को सांप्रदायिक प्रथाओं के लिए विश्वासियों की जरूरतों का संज्ञान होना चाहिए।  जैसे कि समुदाय में उपस्थित होने के बिना अनुष्ठानों में शारीरिक भागीदारी। उन्हें पूरी तरह से प्रौद्योगिकी पर भरोसा किए बिना धर्म के सांप्रदायिक आयाम का अभ्यास करने पर गैर-पारंपरिक विचारों के साथ आने की जरूरत है। समुदाय के सदस्यों और प्रथाओं को बलि का बकरा बनाने के लिए उन्हें पहले से ही सोशल मीडिया के माध्यम से इसकी रक्षा करने की आवश्यकता है।

यहां तक कि अगर वे नई रेखा को तोड़ते हैं तो धर्म के सार के रूप में व्यक्तिगत भक्ति में बदलाव की कामना नहीं की जा सकती। धर्मग्रंथों और प्राचीन धार्मिक ग्रंथ सामूहिक उपासना के आह्वान पर धर्मपरायणता, आज्ञाकारिता और सच्चाई जैसे शब्दों से भरे हुए हैं।

हम पहले से ही अधिक लोगों को ध्यान, योग और मठ साधना की ओर देखते रहे हैं। कुछ लोग बुद्धिमत्तापूर्ण सोच, मनमौजी प्रथा और चिंतन के बौद्ध विचारों को अपना रहे हैं।  

महामारी ने ऑनलाइन धार्मिक सेवाओं में नई धारा पैदा की है। स्टार्टअप अब पूजा के स्थानों के साथ अपने अनुष्ठानों को वर्जुअल वास्तविकता प्लेटफार्मों पर प्रसारित करने के लिए सहयोग कर रहे हैं, जिससे भक्त अपने घरों से दिव्य दर्शन कर सकें। इस धार्मिक इन्नोवेशन के साथ केरल में एक पुजारी ने वायरस को दूर करने के लिए कोरोना देवी की मूर्ति को अपने घर के पास लाल तंबू वाले एक अस्थायी मंदिर में स्थापित किया है। उनका कहना है कि यह मंदिर श्रद्धालुओं को आकर्षित करने के लिए नहीं बल्कि हिंदू धर्म में उनके व्यक्तिगत विश्वास का सम्मान करता है।

यदि धर्म सही में अधिक वैयक्तिकृत हो गया, तो क्या यह कोविड की दुनिया में विकसित होने के लिए और अधिक समन्वयवादी परंपराओं की अनुमति देने के लिए विरोधी और अंतर-धार्मिक प्रतिद्वंद्विता को कम करेगा? यह देखा जाना चाहिए कि धार्मिक प्रतिष्ठान और राज्य जैसे अन्य संस्थान पवित्र क्षेत्र को आकार देने के लिए क्या रणनीति अपनाएंगे, क्योंकि व्यक्तिगत प्रथाओं का विकास जारी है।

(लेखिका दिल्ली में स्वतंत्र पत्रकार हैं। वो भारत और यूएस को लेकर लिखती हैं।)

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से