Advertisement
Home नज़रिया सामान्य प्रौद्योगिकी के साथ एमएसएमई की कोशिश

प्रौद्योगिकी के साथ एमएसएमई की कोशिश

समीर साठे - JUN 24 , 2022
प्रौद्योगिकी के साथ एमएसएमई की कोशिश
प्रौद्योगिकी के साथ एमएसएमई की कोशिश
समीर साठे

प्रौद्योगिकी एक महान 'वस्तु' है (मनोवैज्ञानिक इस शब्द का उपयोग करते हैं) जो मनुष्यों में एक शून्य को भरती है। लगभग सभी ने इसे जाना-समझा और आजमाया है। एमएसएमई इससे अपने संबंधों को समझने के उत्साह और क्लेश के बीच में हैं।

प्रौद्योगिकी को आजमाते रहना क्यों अच्छा है?

प्रौद्योगिकी बुद्धिमान है, यह गणना करती है, यह तेज़ है, यह लगातार किसी भी इंसान से अधिक काम कर सकती है, यह सोचती है, यह भावनात्मक है (हां, मानव भावनाओं में कृत्रिम बुद्धिमत्ता के प्रवेश में जोरदार प्रगति के साथ), और यह मनुष्यों के लिए तथा उनके बदले में निर्णय लेती है। यह अस्थिर है और हर कुछ दिनों में बदलती है। इसके अलावा, इसमें किसी ऐसे व्यक्ति के लिए कुछ अप्रकट है जो तकनीक नहीं जानता है। कल की कल्पना के बारे में आज सोचना एक वास्तविकता है। लगभग एक समानांतर दुनिया है जिसमें मनुष्य रहते हैं। व्यक्ति इसके बारे में भी सपने देखता है।

कुछ ही समय में कोई प्रौद्योगिकी का उपयोग करना चाहता है, और कोई इससे बेहतर के लिए छुटकारा पाता है। तकनीक या प्रौद्योगिकी से व्यक्ति उतना ही जुड़ा हुआ है जितना हम अपने नातेदारों और रिश्तेदारों से जुड़े हैं। हम प्रौद्योगिकी पर बहुत अधिक या बहुत कम खर्च करने के बारे में भी चिंतित है, और अधिकांश (तथा बेशक एमएसएमई) इसके महत्व को लेकर पूरी तरह से शिक्षित नहीं हैं क्योंकि यह विभिन्न आकारों और रूपों में मिलता है और इसके मूल्य को मानकीकृत करना मुश्किल है।

इसके फायदे हैं। हमारे शोध से संकेत मिलता है कि प्रौद्योगिकी को शुरू में ही अपनाने वाले देर से अपनाने वालों की तुलना में 1.5 गुना तेजी से और नहीं अपनाने वालों के मुकाबले 2/3X तेजी से बढ़ते हैं। अपनाने वालों की उनके द्वारा बेचे जाने वाले उत्पादों/सेवाओं के लिए लागत-से-सेवा में 20-40% का अंतर होगा।

एमएसएमई के साथ अफेयर कौन चाहता है?

टैली, माइक्रोसॉफ्ट, गूगल, एसएपी, डेल, इंटेल, अमैजन, जियो आदि की बदौलत एमएसएमई के लिए प्रौद्योगिकी को अपनाने का पर्याप्त आकर्षण था। एडब्ल्यूएस और गोडैडी जैसी संस्थाओं की बदौलत एमएसएमई डिजिटल रूप और व्यक्तित्व के साथ प्रौद्योगिकी का उपयोग करना सीख रहे हैं। ज़ोहो जैसी संस्थाएं एसएमई पर केंद्रित अपने पूरे सुइट पर ध्यान लगा रही हैं। ज़िनोव, डीएंडबी, बिग4 और कुछ अन्य बुटीक कंसल्टिंग फर्में उपयोगकर्ताओं को जागरूक, कनेक्टेड, सक्षम, व्यस्त और शिक्षित कर रहे हैं कि क्या करना है और क्या नहीं और क्यों। इसी तरह जब एमएसएमई के, के लिए और को सूचना की शक्ति को निखारने की बात हो तो प्रौद्योगिकी के उपयोग के प्रति जागरूक किया जा रहा है।

जीएसटी, आधार, यूपीआई परियोजनाओं का ही प्रभाव है कि एमएसएमई ने कानूनन द्वारा पारदर्शी होना सीखना शुरू कर दिया है। खरीद के सरकारी पोर्टलों के कारण एमएसएमई के पास इसके साथ डिजिटल रूप से लेन-देन करने का मौका है।

भारत में 100 से अधिक टेक स्टार्टअप कंपनियों ने कृषि, खाद्य, शिक्षा, भुगतान, वित्तीय सेवाओं, विपणन, बिक्री, वितरण, आपूर्ति श्रृंखला, उत्पादन, मानव संसाधन आदि के लिए तकनीक पेश किए हैं। कई सौ डिजिटल रणनीति, विपणन, प्रौद्योगिकी परामर्श और निष्पादन फर्मों की बदौलत एमएसएमई को डिजिटल होने और लागत कम करने तथा बिक्री में सुधार करने के बारे में सलाह देने के इच्छुक हैं।

अलीबाबा, ट्रेड इंडिया, ग्लोबललिंकर, पावर2एसएमई, https://www.solvezy.com/ecommerce/ , एचडीएफसी बैंक के स्मार्ट बाय, एसबीआई के योनो, सरकार के भारत, ऑपरचुनिटी नेटवर्क और कई अन्य बी2बी और बी2सी प्लेटफॉर्म एमएसएमई को बाजार पहुंच के लिए डिजिटल होने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं।

फ्लेक्सिंगईट और ऐसे कई अन्य कई गिग व सलाहकार प्लैटफॉर्मों की बदौलत कई एमएसएमई ने डिजिटल प्लेटफॉर्म का उपयोग करके सलाह लेना शुरू कर दिया है। यह युवा कार्यबल का ही कमाल है जो प्रौद्योगिकी पर तेजी से प्रशिक्षित किया जा रहा है ताकि सोचने, लेन-देन करने और प्रौद्योगिकी का उपयोग करने तेजी से सक्षम हो रहे हैं।

खैर, महामारी के लिए धन्यवाद, एमएसएमई ने क्षमता और आवश्यकता के अनुसार प्रौद्योगिकी का उपयोग उसे जानना आजमाना-जानना शुरू कर दिया है।

प्रौद्योगिकी मामलों में रहस्य, संबंध और धन के मुद्दे

हमारा अनुभव बताता है कि डाटा पारदर्शिता आज भी एमएसएमई का सबसे बड़ा डर है, भले ही बाजार में इसे अपनाने के रुझान कुछ और हो। हमारा अनुमान है कि अधिकांश डाटा जो हम एमएसएमई से सीखते हैं वह 70-90% सटीक है क्योंकि इनमें से लाखों एमएसएमई आज भी कराधान से बचने के लिए डाटा के 2-3 सेट बनाए रखते हैं। जीएसटीएन से पहले यह फैक्टर 30-40% गुना ज्यादा था, जो एक डरावनी स्थिति थी। वैसे तो प्रौद्योगिकी को कोई भी अपना सकता है, किए बेहतर डाटा सटीकता और निरंतरता के लिए एमएसएमई के व्यवहार में बदलाव इसे सही अर्थों में प्रभावी बना देगा। जैसा कि ज्यादातर मामलों में, जो प्रकट होता है वह वास्तविकता से भिन्न होता है।

दूसरे, डाटा को नियंत्रित करने के लिए प्रबंधन क्षमता के संबंध में मुद्दे हैं, डैशबोर्ड से व्यावसायिक खुफिया जानकारी है कि प्रौद्योगिकी एमएसएमई को उत्पादन करने में मदद करती है। यह दो प्रेमियों की तरह एक महान मिलन स्थल है और फिर दोनों का यह पता लगाना कि वे उस बैठक से वास्तव में क्या प्राप्त कर चुके हैं! जिस तरह से उद्यमी प्रौद्योगिकी से संबंधित हैं, उसे इस बात की महत्वपूर्ण समझ की आवश्यकता है कि प्रौद्योगिकी के आउटपुट से क्या बनाया जाए।

तीसरा, अक्सर एमएसएमई को नहीं पता होता है कि इस मामले में कितना खर्च करना है। मूल रूप से, वे इसे खर्च के रूप में सोचते हैं, जबकि तकनीकी प्रदाता इसे अपने दीर्घकालिक प्रभाव और वास्तविकता के कारण एक निवेश के रूप में बेचते हैं। प्रौद्योगिकी का उपयोग करने के बाद एमएसएमई समझते है, यह दोनों के बीच कहीं है। जीवन में अधिकांश महान चीजों की तरह, मूल्य टैग लगाना और उनके मूल्य को परिभाषित करना मुश्किल है। यह मामला भी अलग नहीं है।

(लेखक वाधवानी फाउंडेशन में वाधवानी एडवांटेज के कार्यकारी वाइस प्रेसिडेंट हैं।)

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से

Advertisement
Advertisement