Home नज़रिया
नज़रिया

जो जीता वही सिकंदर, "आपरेशन कमल" इस बार फेल

आखिरकार जोड़-तोड़ की राजनीति हारी और लोकतांत्रिक मूल्यों की जीत हुई। एक बार फिर साबित हो गया कि देश में...

मुंबई जिंदादिल है तो क्या इसे मार ही डालोगे?

एक मिनट के लिए भूल जाइये कि आज मुंबई के किसी रेलवे स्टेशन पर भगदड़ मची थी। अपनी जिंदादिली पर गर्व करने...

सोसायटी और समाज के बीच ऊंची होती दीवार

महागुन सोसायटी में जो कुछ घटित हुआ उसने गेटेड सोसायटी और उनके बाहर बसी झुग्गी बस्तियों के बीच बढ़ते अलगाव और...

किसान हित के प्रतीक पुरुष

प्रसिद्ध अमेरिकी राजनीतिशास्त्री पॉल आर. ब्रास ने चरण सिंह को केंद्र में रखकर उत्तर भारतीय राजनीति पर लिखा

अनिल माधव दवे: बिना कुछ कहे गुजर गया 'नर्मदा समग्र' का यात्री

अनिल माधव दवे देश के पर्यावरण मंत्री बनने से पहले पर्यावरण के समर्पित कार्यकर्ता थे। सैकड़ों-हजारों वर्षों से...

अंंतरिक्ष कूटनीति की धूम, लेकिन सफेद हाथी न बन जाए दक्षिण एशिया उपग्रह

दक्षिण एशिया के सात देशों ने भारत की ओर से अपने पड़ोसियों के लिए उपहार के तौर पर छोड़े गए 450 करोड़ रूपये के संचार...

हिंदू बांग्लादेशी को नागरिकता: कुछ उलझे सवाल

बांग्लादेश से आए हिंदू शरणार्थियों को नागरिकता देने की राह आसान नहीं है। इसके लिए असम समझौते में संशोधन करना...

‘बाबरी से जुड़े मौजूदा नेता तो उसके मलबे की पैदाइश हैं’

बाबरी मस्जिद-रामजन्मभूमि के सबसे उम्रदराज मुद्दई हाशिम अंसारी बेहद संजीदा व्यक्ति थे। वह ताउम्र सियासत से दूर...

कॉमन सिविल कोडः अनुचित तरीके से तलाक पर हो 10 साल की सजा

यह समझना कि कॉमन सिविल कोड आ जाएगा तो क्या मुस्लिम औरतों में सुधार आ जाएगा, यह गलत बात है। अभी औरतों की स्थिति बहुत...

चंद्रास्वामी के बिना अधूरी राव-गाथा

नरसिंह राव भारत के सर्वाधिक विवादास्पद प्रधानमंत्री होने के साथ आजादी के बाद आर्थिक क्रांति के जनक माने जाते...