Home नज़रिया
नज़रिया

चूक, नाकामियां और सबक

जम्मू-श्रीनगर हाइवे पर चौदह फरवरी को विस्फोटकों से लदे वाहन के जरिए किए गए कायराना हमले के हमारी सीमा...

संवैधानिक दायित्व से दूर

देश के सर्वोच्च न्यायालय के हाल में लगातार कई मामलों में रवैए से गहरी आशंका होती है कि वह सरकार के आगे...

आंकड़े झूठ नहीं बोलते, गंभीर है नौकरियों का संकट

सरकारी दावों के उलट मैं कुछ महीनों से लिख रहा हूं कि ऐसे बहुत से आंकड़े उपलब्ध हैं, जो बताते हैं कि...

पाकिस्तानी विदेश मंत्री की कश्मीर पर बेलगाम बयानबाजी और इमरान खान की चुप्पी

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने एक संप्रभु देश के खिलाफ निंदा अभियान चलाने में कोई कसर...

अंतरिम के बहाने चुनावी आकांक्षाओं का बजट

यह गजब का संयोग है कि आम चुनाव के पहले तीन-चार महीने का लेखानुदान या अंतरिम बजट पेश करना ‘कार्यवाहक’...

चुनाव: जिताऊ उम्मीदवार माने खूब खर्चो

जैसे-जैसे 2019 के लोकसभा चुनाव नजदीक आ रहे हैं, देश में चुनावी चर्चा गरम हो रही है। जब चुनाव की चर्चा होती...

नागरिकता विधेयक 2019: असंवैधानिक, गैर-जरूरी और नितांत अभारतीय

नागरिकता किसी व्यक्ति का किसी राजनैतिक समुदाय के साथ संबंधों का ही नाम है। यह ऐसे समुदायों की पूर्ण और...

बस मोदी विरोध कहां जीतेगा

“मोदी सरकार के सत्ता में आने के पहले दिन से ही विरोधी दलों की खेमेबंदी शुरू हो गई” अगला लोकसभा चुनाव...

गठजोड़ों के गणित

“इस बार चुनाव तय करेंगे कि निर्णायक, मजबूत नेतृत्व चाहिए या साझा संतुलित नेतृत्व” नरेंद्र मोदी ने...

हसीना की जीत से उम्मीदें बढ़ीं

बांग्लादेश के लिए 30 दिसंबर 2018 ऐतिहासिक दिन था। प्रधानमंत्री शेख हसीना ने 11वें संसदीय चुनाव में एकतरफा...

गलत नीतियों से बढ़ा संकट

''आज के दौर में कर्जमाफी राजनैतिक नहीं बल्कि जरूरत भरा कदम, तभी मिलेगी किसानों को राहत” देश इस समय...

पुलिस राज की धमक तो नहीं

“सरकार की नई अधिसूचना पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों की ताकझांक पर अंकुश के मामले में मौन” जॉर्ज ऑरवेल...

साख संदिग्ध, भ्रामक संदेश

“नीति आयोग की दखल से सीएसओ पर भी सवाल, दुनिया चीन की तरह हमारे आंकड़ों पर भी करेगी संदेह” किसी भी देश...

केवल कोरी बातें, समाधान दूर

“बचाव के नाम पर हम जो उपाय अपना रहे हैं वे वायु प्रदूषण की समस्या से निपटने में ज्यादा असरकारी...