Home नज़रिया
नज़रिया

राष्ट्रीय शिक्षा नीति: विचारों और सुझावों के समागम का फल

राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 कार्यान्वित होने के प्रक्रिया में है। अनेक विश्वविद्यालयों एवं राज्य...

किसानों के मन की बात भी सुनिए

कड़ाके की ठंड में हम अपने घरों में रजाइयों में दुबके हैं और देश के अन्नदाता किसान खुले आसमान में सड़कों...

प्रथम दृष्टि : वोटकटवा का वजूद

हाल के वर्षों में हर चुनावी दंगल में वोटकटवा का जिक्र होता रहा है। मुकाबला भले ही दो दलों या दो...

बेकार और अप्रासंगिक कानूनों का समापन जरूरी

26 नवंबर का दिन भारत के लिए काफी महत्वपूर्ण है। वर्ष 1949 में आज ही के दिन संविधान सभा ने देश के संविधान को...

बिहार: चौंकाऊ नतीजे, बेमन का राज

“नई फिजा तैयार करके 'मैन ऑफ द मैच' तो तेजस्वी ही, चुनावी प्रबंधन के सहारे भाजपा अब नीतीश का बड़ा...

बिहार: जीत की विडंबना और आगे के संदेश

“बिहार विधानसभा चुनावों में एनडीए को मिली जीत बताती है कि असली मुद्दों को चालाकी से हटा दिया...

भारतीय सेंटीमेंट्स और अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाता ओडीओपी

भारत ने विकासक्रम में अपनी संस्कृति और अध्यात्म की वृहत परम्परा का विकास तो किया ही साथ ज्ञान, विज्ञान,...

संपादक की कलम से: टीके का इंतजार

“जानकार लोग हमें बता रहे हैं कि इस भयावह महामारी से छुटकारे का टीका आने वाले महीनों में जरूर ईजाद कर...

मुद्दों को मुंह चिढ़ाते नतीजे

बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजों पर हमें आश्चर्य होना चाहिए। इसलिए नहीं कि एग्जिट पोल के नतीजे देखकर...

लोकतंत्र की बाजीगरी

यह एक अजब ही संयोग है कि दुनिया के सबसे पुराने गणतंत्र की धरती, बिहार, के विधानसभा चुनाव और दुनिया के...

संपादक की कलम से: अगर अर्नब बुरा है, तो राज्य की बदले की कार्रवाई और बदतर

मैं अर्नब गोस्वामी का कोई प्रशंसक नहीं हूं। महाराष्ट्र पुलिस ने दो साल पहले आत्महत्या के एक मामले में...

बिहार का सच

“बिहार के मतदाताओं से ऐसी अपेक्षा तो की ही जा सकती है कि वे वैसे उम्मीदवारों को जरूर धूल चटाएं जो...

टीबी बीमारी को रोकने के लिए तंबाकू को करें नियंत्रित

इस साल की शुरुआत से ही कोविड 19 ने पूरी दुनिया को अभूतपूर्व रूप से प्रभावित किया है। यह हमारे...

दो नेता, दोनों लाए बदलाव

“लालू और नीतीश चाहे साथ रहे या अलग, दोनों राज्य में अहम, अब दोनों के सामने चुनौतियां” बिहार विधानसभा...