Home नज़रिया
नज़रिया

खाकी-स्वच्छता की भी दरकार

हाल की कुछ घटनाओं से देश के पुलिसिया तंत्र को लेकर नए सवाल खड़े हो गए हैं। अगर समय रहते इन सवालों के जवाब...

बहुत देर कर दी हुजूर!

केंद्र सरकार ने हाल में एक अच्छा फैसला किया लेकिन असल में यह अब से चार साल पहले लिया गया होता तो ज्यादा...

तेल में फिसलती सरकार

इन दिनों देश में कई महत्वपूर्ण मसलों पर बहस चल रही है। उम्मीद है, यह हमारे लोकतंत्र और नागरिक...

एम्सटर्डम में आतंकी हमला; यूरोप के जागने का समय

शांतनु मुखर्जी 31 अगस्त के दिन भीड़भाड़ वाले स्टेशनों में शामिल एम्सटर्डम रेलवे स्टेशन पर उस समय...

आपदा में तो एकजुटता दिखे

केरल में सौ साल बाद रिकॉर्डतोड़ बारिश भारी तबाही और संकट ले आई है, उससे निपटने में राज्य सरकार, सेना,...

हिसाब देने की घड़ी

"प्रधानमंत्री को इस बार लाल किले की प्राचीर से अपनी तमाम उपलब्धियों, नीतियों, कार्यक्रमों और न्यू...

दशक गंवाने का खतरा

यही सब चलता रहा तो यकीनन हम एक पूरा दशक गंवा बैठेंगे। आर्थिक दुर्दशा बढ़ रही है। मॉब लिंचिंग कानून का...

फ्रांस जीता, संरक्षणवादी यूरोप नहीं

फुटबॉल के महासमर में फ्रांस की जीत के क्या मायने हैं? यह वह फ्रांस है जिसके वर्ल्ड कप की 23 सदस्यीय टीम...

कश्मीर में एनएसजी क्यों जरूरी?

पीडीपी-भाजपा गठबंधन टूटा और जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन लगा तो केंद्र और राज्य में घाटी में...

इस नफरत से तो तौबा!

“ सरकार में बैठे व्यक्ति ऐसे कदम उठाते हैं तो यह लोकतांत्रिक देश की कानून-व्यवस्था के लिए चिंता का...

प्रधानमंत्री की सुरक्षा ऐसे होगी और चुस्त

आजकल एक खबर सुर्खियों में है कि प्रधानमंत्री को कुछ खास तत्वों से जान का खतरा है। इस खबर ने सरकार खासकर...

इसकी टोपी उसके सिर

केंद्र सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रह्मण्यन की विदाई हो गई है और अगले कुछ दिनों में वे...

इमरजेंसी के दौरान इस नेता ने कोड वर्ड में लिखा, 'पोपट के पिता को तुम्हारा पत्र मिला'

इस 25-26 जून को आपातकाल की के 43 साल पूरे हो रहे हैं। वाकई आपातकाल और उस अवधि में हुए दमन-उत्पीड़न और असहमति...

धुंधले रास्तों की ओर मुड़ता कश्मीर

राइजिंग कश्मीर के संपादक और मानवाधिकार कार्यकर्ता शुजात बुखारी की हत्या राज्य में पीडीपी-भाजपा...