Home नज़रिया
नज़रिया

सर्वधर्म-समभाव पर खतरा

“यूरोप के विपरीत भारतीय सेकुलरिज्म की विशिष्टता सर्वधर्म-समभाव की है” सर्वे भवन्तु सुखिनःसर्वे...

अस्तित्व बचाने के लिए संघर्ष कर रहा है आइएसआइएस

अपनी खोई हुई स्थिति को फिर से पाने के लिए आइएसआइएस ने हाल ही में अपनी महिला टुकड़ी का इस्तेमाल करते हुए...

पाकिस्तान को एफएटीएफ का तगड़ा झटका

बीते 20 फरवरी को पेरिस में हुई फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की बैठक में पाकिस्तान को तगड़ा...

कैद और बंदी की सियासत

पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती को छह महीने तक बिना किसी आरोप के नजरबंद रखने के बाद...

प्रतिगामी शक्तियों का प्रभुत्व

लगभग हर रोज ऐसी खबरें पढ़ने और सुनने को मिल रही हैं कि विश्वास ही नहीं होता कि हम इक्कीसवीं शताब्दी के...

दिल्ली में ‘बड़बोली’, ‘गोली’ हारी मगर भाजपा विरोधी दलों के लिए भी बड़ा सबक

दिल्ली के लोगों ने सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (आप) को फिर लगभग वही जनादेश सुना दिया, जो पांच साल पहले...

गांधी की विरासत हाशिए पर?

  हिंदुत्ववादी नाथूराम गोडसे ने 30 जनवरी को महात्मा गांधी की हत्या की थी और इस दिन को राष्ट्रीय शहीद...

छूट मुक्त नई सरल टैक्स व्यवस्था

बजट हमेशा आम लोगों, और खासकर महिलाओं के लिए नया उत्साह लेकर आता है। उन्हें हमेशा नई कर रियायतों की...

गणतंत्र दिवस विशेषः सड़क पर उतरे इस लोकतंत्र को पहचानें हम

ताकि संविधान और देश के मौलिक विचारों और लोगों के बुनियादी अधिकारों पर आघात के प्रति सचेत रहें अगर कोई...

संविधान की अंतरात्मा और शिक्षा

अगर संविधान पर ढंग से अमल होता तो सबको समान शिक्षा मिलती और गैर-बराबरी नहीं रहती, लेकिन सरकारों ने इसकी...

मौलिक अधिकार लगाते हैं राज्य की शक्तियों पर अंकुश

इन अहम अधिकारों के साथ ही हर इंसान संसार में आता है, सबसे अहम है कि इन्हें कोई छीन नहीं सकता किसी भी देश...

भारत-विचार की रक्षा करें

  भारत पर अपशकुनी बादल घुमड़ रहे हैं, विभाजनकारी और नफरत के साए लंबे हो रहे हैं, सभ्य समाज खतरे में है,...

कोई लौटा दे मेरे....

  पांच जनवरी की शाम को जेएनयू में जो हुआ, वह अप्रत्याशित था। डंडे, स्टील रॉड और पत्थरों से लैस एबीवीपी...

नागरिकता कानून जरूरी, लेकिन एनआरसी कैसे

“मुसलमानों को भारत की तासीर से जोड़ने की पुरजोर कोशिश से ही अखंड भारत का सपना पूरा हो...