Home नज़रिया
नज़रिया

साख संदिग्ध, भ्रामक संदेश

“नीति आयोग की दखल से सीएसओ पर भी सवाल, दुनिया चीन की तरह हमारे आंकड़ों पर भी करेगी संदेह” किसी भी देश...

केवल कोरी बातें, समाधान दूर

“बचाव के नाम पर हम जो उपाय अपना रहे हैं वे वायु प्रदूषण की समस्या से निपटने में ज्यादा असरकारी...

बेरोजगारी, धीमी रफ्तार, एनपीए बड़ी चुनौती

“बैंक और एनबीएफसी क्षेत्र बड़े संकट में, अर्थव्यवस्‍था के कई बुनियादी क्षेत्रों को फौरी मदद की...

एमएसपी इजाफे पर टेढ़ी नजर

“डब्ल्यूटीओ के सदस्य देश खासकर अमेरिका ने हाल में भारत में न्यूनतम समर्थन मूल्य में इजाफे और बाजार...

संस्कृति, समाज, राजनीति, अपराध

आज भारतीय समाज गैर-मामूली संकटों से घिरा है और इससे उबरने के लिए उसे जिस राजनीतिक या सामाजिक नेतृत्व की...

छोटे-छोटे फासिस्ट

बहुत कुछ खत्म हो चुका है, लेखक मर चुका है, यथार्थ मर चुका है, मीडिया मर चुका है, विचार मर चुका है, भाषा मर...

हम कौन थे, क्या हो गए हैं?

यह प्रश्न भारतवर्ष की दासता के युग में राष्‍ट्रकवि मैथिलीशरण गुप्‍त ने उठाया था। अपने अतीत और...

राजनीति का उत्तर राजनीति नहीं है

अवधी का एक मुहावरा है, ‘नौ दिन चले अढ़ाई कोस।’ मतलब यह है कि नौ दिन की यात्रा करने के बाद अढ़ाई कोस तक...

मौजूदा दौर में लोग सब देख रहे हैं

आजादी के बाद से देश में काफी विकास हुआ है। देश के सामाजिक, राजनीतिक और साहित्यिक क्षेत्र में बहुत कुछ...

आज की चुनौतियां

आज हमारे सामने कौन-सी चुनौतियां हैं? और क्या इन चुनौतियों का कोई इतिहास है? क्या देश, समाज की चुनौतियां...

इस अकाल वेला में

"साहित्य, संस्कृति, समाज और राजनीति के समक्ष आज की चुनौतियां" बात नब्बे के दशक के आखिरी वर्षों और...

आसिया बीबी और कट्टरपंथ की जकड़ में पाकिस्तान

पाकिस्तान में सुप्रीम कोर्ट के असाधारण फैसले में ईसाई महिला आसिया बीबी को ईशनिंदा के आरोपों से बरी कर...

स्वायत्त संस्थाएं और लोकतंत्र

किसी भी लोकतांत्रिक व्यवस्था में न्यायपालिका और स्वायत्त संस्थाओं को मजबूत स्तंभ की तरह देखा जाता...

कसौटी पर शुचिता

आखिरकार केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर का इस्तीफा हो ही गया। अकबर पर संपादक रहते हुए उनके मातहत...