Home नज़रिया
नज़रिया

डीएम होने के मायने

“प्रशासनिक सेवा में ग्रामीण परिवेश या साधारण परिवारों से आने वालों की संख्या बढ़ना सुखद संकेत...

'गुंजन सक्सेना' को बनाने वाले फिल्म मेकर्स, क्रिएटिव फ्रीडम के नाम पर आप झूठ नहीं बेच सकते हैं

डिस्क्लेमर: प्रिय गुंजन, हमने एक साथ प्रशिक्षण लिया है। हमने एक-दूसरे को सबसे खराब परिस्थितियों में...

पर्यावरण पर नई दृष्टि जरूरी

“बहुविषयक पढ़ाई पर्यावरण समझ विकसित करने में मददगार, मगर प्रयोगधर्मी शिक्षा भी अनिवार्य” कई...

धर्म की राजनीति का अंत हो

"मंदिर-मस्जिद की दीवारों को तोड़ आर्थिक उन्नति के नए संकल्प का सूत्रपात ही अयोध्या का बड़ा सबक" वह जून...

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को लेकर बुनियादी सवाल, हायर एजुकेशन को फंड कैसे मिलेगा?

देश में अगले 50 वर्षों में किस तरह की शिक्षा होनी चाहिए, इसको लेकर राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) ने...

दिल्ली दंगा: क्या दिल्ली पुलिस जांच को 'विशेष दिशा’ में ले जाना चाहती है?

चीन के विपरीत भारत की सफल सरकारें बहुत कुछ पाने में सफल रही हैं। 1984 के दिल्ली दंगों और गुजरात में 2002 की...

कोरोना महामारी के बाद क्या धर्म सामाजिक दूरी की वजह से और अधिक व्यक्तिगत हो जाएगा?

जर्मन समाजशास्त्री हंस जोस ने हाल ही में सामाजिक विचार के धार्मिक और धर्मनिरपेक्ष गतिशीलता के बारे...

बैंकों के राष्ट्रीयकरण के 51 वर्षों के बाद सरकार का यूटर्न?

19 जुलाई 1969 को तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी ने देश के 14 प्रमुख बैंकों का पहली बार...

विश्व जनसंख्या दिवस: सोशल डिस्टेंसिंग के साथ भारत में जीना असंभव

कोरोना काल में पूरी दुनिया को समझ आ चुका है कि अब हमें कोरोना के साथ ही जीना होगा। फेस मास्क,...

श्रीदेवी और माधुरी दीक्षित सहित सरोज खान ने अपनी धुनों से कई अभिनेता-अभिनेत्री को स्टार बनाया

सरोज खान जो नब्ज-पांव की प्रतिभा की धनी थी। जिन्होंने बॉलीवुड सितारों की पीढ़ियों को बनाया, जिसमें...

विकास और सुधार का उद्देश्य चीन पर हमारी निर्भरता को दूर करेगा

केवल भारत में ही नहीं, बल्कि पूरे विश्व में चीन विरोधी भावना बहुत अधिक है और कुछ समय से बनी हुई है। मैं...

चीन की रणनीति समझिए

भारत का फोकस पारंपरिक युद्ध की तैयारियों पर, जबकि चीन की तकनीकी युद्ध की तैयारियां बड़ी यूं तो पड़ोसी...

गरीबों की फिक्र करो

मौजूदा संकट से उबरने और समतावादी समाज के लिए महात्मा गांधी की सोच को अपनाने की जरूरत महज कुछ महीनों में...

महामारी से और बढ़ा डिजिटल फासला

शहरी गरीब और ग्रामीण अभी तक डिजिटल क्रांति के आसपास भी नहीं, तिस पर रोजगार गंवाने से इंटरनेट, मोबाइल...