Home नज़रिया
नज़रिया

पुरानी पार्टी का क्या है भविष्य?

देश की सबसे पुरानी पार्टी, कांग्रेस के शीर्ष पद से राहुल गांधी का इस्तीफा एक अध्याय की समाप्ति है। उनकी...

मोदी सरकार को विदेशी कर्ज के सहारे ग्रोथ का भरोसा

मोदी 2.0 सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था 2025 तक पांच ट्रिलियन डॉलर (350 लाख करोड़ रुपये) पर पहुंचाने का लक्ष्य...

सस्ते, सुलभ कर्ज में क्षेत्रीय गैर-बराबरी भारी

-डॉ. टी. हक और अंकिता गोयल  “कृषि के लिए उपलब्ध संस्थागत कर्ज में क्षेत्रीय गैर-बराबरी किसानी के संकट...

हंगामा है यूं बरपा

अपने एक अध्ययन में पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार डॉ. अरविंद सुब्रह्मण्यम ने यह कहकर तहलका मचा दिया कि 2011-12...

आंकड़े अधूरे तो बजट कैसे हो पूरा?

आर्थिक विकास में आंकड़ों या सांख्यिकी की अहमियत पर 1965 में भारतीय सांख्यिकीय प्रणाली के जनक प्रोफेसर...

हमारी तरजीह घटने के मायने

अमेरिका ने पांच जून को भारत के 3,600 से अधिक उत्पादों से शुल्क-मुक्त बाजार का दर्जा वापस ले लिया। भारत को...

हिंदी का राजनैतिक महत्व चुक गया है!

लोकसभा के लंबे चुनावों का फल चखा भर था, स्वाद कैसा है, यह सोचने का समय एकाएक खत्म हो गया है और लोग अब...

कांग्रेस को वैचारिक आधार पुनर्जीवित करना होगा

स्वाभाविक ही था कि भोपाल से भाजपा की उम्मीदवार प्रज्ञा ठाकुर जब मतगणना के अंतिम दौर में मतगणना स्थल पर...

ग्रामीण आर्थिकी को मजबूत करना जरूरी

“मोदी सरकार ने पिछले पांच वर्षों के दौरान कृषि अर्थव्यवस्था और किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार...

बेरोजगारों की अनदेखी न हो

तीस मई 2019 को जब नरेंद्र मोदी ने दूसरी बार प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली, उनके लिए उस समय भी बढ़ती...

चरण सिंह ने दिखाई राह

“आधुनिक भारत के चंद नेताओं में शुमार हैं, जिनके आर्थिक मॉडल में संभव है मौजूदा कृषि संकट का हल” भारत...

विकास की रफ्तार झूठी, आंकड़ों की साख लुटी

सरकारी आंकड़े जुटाने वाली एजेंसी एनएसएसओ से उभरे सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के नए आंकड़ों को लेकर...

पेप्सिको केस से कृषि क्षेत्र के एक और संकट की आहट

खुद को स्नैक्स बनाने वाली कंपनी कहने वाली पेप्सिको इंडिया ने गुजरात के चार किसानों के खिलाफ कानूनी...

सुप्रीम कोर्ट की साख पर ऐसा सवाल तो शायद ही कभी उठा

डॉ. भीम राव आंबेडकर ने 24 मई 1949 को कहा था, “मुझे व्यक्तिगत रूप से कोई संदेह नहीं है कि प्रधान न्यायाधीश...