Home » नज़रिया

नज़रिया

अनिल माधव दवे: बिना कुछ कहे गुजर गया 'नर्मदा समग्र' का यात्री

अनिल माधव दवे देश के पर्यावरण मंत्री बनने से पहले पर्यावरण के समर्पित...

अंंतरिक्ष कूटनीति की धूम, लेकिन सफेद हाथी न बन जाए दक्षिण एशिया उपग्रह

दक्षिण एशिया के सात देशों ने भारत की ओर से अपने पड़ोसियों के लिए उपहार के तौर...

हिंदू बांग्लादेशी को नागरिकता: कुछ उलझे सवाल

बांग्लादेश से आए हिंदू शरणार्थियों को नागरिकता देने की राह आसान नहीं है।...

‘बाबरी से जुड़े मौजूदा नेता तो उसके मलबे की पैदाइश हैं’

बाबरी मस्जिद-रामजन्मभूमि के सबसे उम्रदराज मुद्दई हाशिम अंसारी बेहद संजीदा...

कॉमन सिविल कोडः अनुचित तरीके से तलाक पर हो 10 साल की सजा

यह समझना कि कॉमन सिविल कोड आ जाएगा तो क्या मुस्लिम औरतों में सुधार आ जाएगा, यह...

चंद्रास्वामी के बिना अधूरी राव-गाथा

नरसिंह राव भारत के सर्वाधिक विवादास्पद प्रधानमंत्री होने के साथ आजादी के...

नए विधायकों के लिए इंटर्नशिप था संसदीय सचिव पद

1937 में जब पहली बार कांग्रेस-लीग के समझौते के बाद उत्तर प्रदेश में पहली...

लोमहर्षक हैं ‘उड़ता पंजाब’ के दृश्य

घने विवादोँ के बाद रिलीज़ की गई फ़िल्म ‘उड़ता पंजाब’ ड्रग की कुटेव के...

ओरलांडो के बहाने अमेरिका की बंदूक संस्कृति पर सवाल

अकेले अमेरिका में ही घृणा या नफरत फैल रही हो ऐसा नहीं है, बाकी देशों में भी...

अंबेडकर पर कीचड़ उछालना संघ का पुराना खेल

संघ समर्थक रामबहादुर राय के विचार दर्शाते हैं संघ और भाजपा की असली सोच, मोदी...


Copyright © 2016 by Outlook Hindi.