Home नज़रिया
नज़रिया

न्यायपालिका द्वारा अपनी ड्यूटी की अनदेखी

आजकल देश में न्यायपालिका अपनी सत्ता, अपना अधिकार क्षेत्र, अपना मैदान और यहां तक कि अपना कर्तव्य, सब...

नोबेल पुरस्कार और छात्र राजनीति

पिछले कई वर्षों से देश के विश्वस्तरीय शिक्षा संस्थान जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के खिलाफ...

गांधी प्रासंगिक कैसे नहीं

अब समय आ गया है कि हम खुद से पूछें, “क्या हम गांधी के लायक हैं?” जवाब है नहीं महात्मा गांधी भारत के...

गांधी आर्थिकी से ही बदलेगी दुनिया

  गांधीवादी विचार लोकतंत्र, पर्यावरण सुरक्षा और समता की स्‍थापना के लिए मौजूदा बाजारवादी...

महात्मा और राष्ट्र | इरफान हबीब

"अपने आखिरी दिनों में राष्ट्रवाद में वह नया आयाम जोड़ा, जिसकी आज दुनिया को सबसे ज्यादा जरूरत" राष्ट्र...

गांधी के साथ चलने के खतरे

  गांधी का ‘राष्ट्रवाद’ व्यक्ति की गरिमा और स्वाभिमान से जुड़ता है, उसे भीड़ से नहीं जोड़ता। आज...

इस कानून से नहीं रूकेंगे हादसे

अमेरिका में सड़क यातायात दुर्घटना पर गठित एक समिति ने 1930 में अमेरिकी सरकार को एक रिपोर्ट सौंपी।...

खाद्य पदार्थों में अतिरिक्त विटामिन मिलाकर लोगों की सेहत से खिलवाड़

हर कोई स्वस्थ जीवन और अच्छे भोजन की चाहत रखता है। प्रकृति बहुत ही दयालु है कि वह हमें अच्छे स्वास्थ्य...

एशिया के पहले किसान के जन्मस्थान की जलहत्या

एशियाखंड के पहले किसान का जन्म चिखल्दा में हुआ था, यह शोध रहा है, पुरातत्व शास्त्रों का! इसी शोध के आगे...

सरकार सिस्टम दुरुस्त करे

“ऑटोमोबाइल क्षेत्र की बिक्री में गिरावट को देखते हुए जीडीपी ग्रोथ के आंकड़े कोई आश्चर्यजनक नहीं” 30...

अभी लंबा सफर बाकी

“सुप्रीम कोर्ट के फैसले के एक साल बाद भी एलजीबीटी समुदाय की स्वीकार्यता नहीं” कल्पना कीजिए, आप...

समता ही अभारतीय तो स्वतंत्रता भी संदिग्ध

हमारे गांव में मेरे बचपन में और अब भी एक सामान्य प्रचलन है। एक काम कोई एक समुदाय ही करता है और हर समुदाय...

बैंकों के विलय का फैसला, गलत वक्त पर उठा कदम

बैंकों के मजदूर संघ केंद्र सरकार द्वारा 10 बैंकों को विलय करके 4 बैंक बनाने के निर्णय का विरोध कर रहे...

समता ही अभारतीय तो स्वतंत्रता भी संदिग्ध

“अमीर अगड़ी जाति के लोग हैं, इसलिए गैर-बराबरी बनाए रखना उनकी फितरत” हमारे गांव में मेरे बचपन में और...