खबर चक्र

आनंद कुमार
आनंद कुमार

सुपर-30 के संस्थापक आनंद जापानी कंपनी के साथ करेंगे काम

स्कूली शिक्षा को दोबारा परिभाषित करने और हर बच्चे के अनुकूल बनाने के लिए विश्वस्तर पर काम कर रही जापानी कंपनी ‘आइ एम बिसाइड यू’ के साथ सुपर-30 के संस्थापक आनंद कुमार जुड़ गए हैं। पिछले साल ही कंपनी की स्थापना हुई थी। यह कंपनी दुनियाभर में अलग-अलग व्यक्तित्व के अनुरूप ऑनलाइन शिक्षा को सक्षम बनाती है। कंपनी का उद्देश्य स्कूलों को सीमाविहीन करना है। यानी दुनिया भर के अध्यापक कहीं भी मौजूद छात्र से जुड़ सकें। यह कंपनी पूरी दुनिया में शिक्षक मुहैया करा रही है।

‘आइ एम बिसाइड यू’ के अध्यक्ष वातरू कामिया ने कहा, “आनंद कुमार सुपर-30 की वजह से जापान में बहुत लोकप्रिय हैं और उनके जीवन पर बनी फिल्म को जापानी टीवी चैनलों पर प्रसारित किया गया है। उन्हें लाखों छात्रों तक पहुंचने की अनूठी पहल के लिए चुना गया है। यह एक ऐसी परियोजना है, जो कोरोना युग में जापान-भारत सहयोग का प्रतीक है, जिसमें दो जापानी स्टार्टअप विश्व प्रसिद्ध शिक्षक आनंद कुमार के साथ सहयोग कर रहे हैं।”

कामिया का कहना है कि हमने भारत को वैश्विक सेवा विकास में सबसे महत्वपूर्ण आधार के रूप में स्थान दिया है। भारत में 1.4 अरब लोगों को सेवाएं प्रदान करना चुनौती भरा है, लेकिन हम इसे करेंगे। आनंद कुमार के साथ हमें सहयोग मिलेगा। इससे पहले, जापानी शिक्षा उद्यम एमेगुमी ने ऑनलाइन शिक्षा के लिए उनके साथ सहयोग करने का फैसला किया था और छात्रों को अध्ययन के लिए कम कीमत वाला स्मार्टफोन ‘सनब्लेज’ दिया था।

‘आइ एम बिसाइड यू’ का उद्देश्य समाज को समग्र स्कूल बनाने का है। इससे पहले, एनएचके चैनल के लिए एसटीबी अनुसंधान संस्थान के मुख्य अर्थशास्त्री योइची इतोह सुपर-30 पर फिल्म बना चुके हैं। ऐसा करने वाले वे पहले व्यक्ति थे। एनएचके के निर्माता एमिको अमागावा 2007 में आनंद और उनके स्कूल पर एक घंटे की डॉक्यूमेंट्री बनाने के लिए भारत आए थे। जापानी टीवी चैनल कंसाई टेलीकास्टिंग कॉर्पोरेशन की डायरेक्टर युता अम्मा ने आनंद को ‘सच्चा रोल मॉडल’ बताया था।

बीआरओ में पहली बार महिला अधिकारी

आईना राणा

यह पहली बार होगा कि सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) किसी महिला अधिकारी को तैनात कर रहा है। वह भी भारत-चीन सीमा पर। बीआरओ सेना की राह आसान बनाने के लिए दूर-दराज इलाकों में सड़क बनाने का काम करता है। इस वजह से अभी तक महिलाओं को इसकी जिम्मेदारी नहीं सौंपी जाती थी। चमोली जिले में बीआरओ नीती और माणा पास को सड़क से जोड़ने का काम कर रहा है और पहली बार महिला अधिकारी मेजर आईना राणा को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है। माणा दर्रे में बन रही सड़क देश की सबसे ऊंची सड़कों में से एक होगी। हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले की निवासी आईना राणा ने पंजाब के पठानकोट से पढ़ाई की है। उन्होंने एसएमडीआरएसडी कालेज पठानकोट से कंप्यूटर साइंस में स्नातक किया है। 2011 में उन्होंने अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी (ओटीए) चेन्नै में प्रवेश लिया था और सितंबर 2012 में वहां से पासआउट हुईं। सेना में कोर ऑफ इंजीनियरिंग का हिस्सा रह चुकी राणा लेह में भी अपनी सेवाएं दे चुकी हैं।

हत्या के एक मामले में राम रहीम दोषी

गुरमीत राम रहीम

रोहतक की सुनारिया जेल में बंद डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सीबीआइ की विशेष अदालत में पेशी हुई। अदालत ने रणजीत सिंह हत्याकांड में राम रहीम सिंह और कृष्ण कुमार को आइपीसी की धारा-302 (हत्या) और 120-बी (आपराधिक षड्यंत्र) के तहत दोषी करार दिया। सजा का फैसला अगली सुनवाई में होगा। पेशी के दौरान राम रहीम ने कोर्ट को कहा कि उसके सामाजिक कार्यों का ध्यान रखा जाए। राम रहीम ने अपने जनहित और सामाजिक कार्यों के आधार पर सजा में राहत देने की अपील भी की। यह मामला 2002 का है। डेरे की प्रबंधन समिति के सदस्य रणजीत सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

जग सुरैया को नाइटहुड अवॉर्ड

जग सुरैया

अगस्त 1987 से टाइम्स ऑफ इंडिया में अपना बहुचर्चित हास्य स्तंभ, जुगलर वेन लिख रहे, स्तंभकार और लेखक जग सुरैया को इटली के राष्ट्रपति ने नाइटहुड अवॉर्ड से सम्मानित किया है। 1994 से 1997 तक संडे टाइम्स ऑफ इंडिया के संपादक रहे और 1996 से 2006 तक इसी अखबार में संपादकीय पेज के संपादक रहे सुरैया सेकंड ओपिनियन नाम से भी एक स्तंभ लिखते हैं, जो 14 साल पहले शुरू हुआ था, और अब तक जारी है। कई साल उन्होंने लोकप्रिय कॉमिक स्ट्रिप दुब्यामन भी लिखी, जिसका नाम बाद में बदलकर देश का नेता रख दिया गया था। सुरैया को यह सम्मान इटली और भारत के बीच मैत्रीपूर्ण संबंध को आगे बढ़ाने के लिए दिया गया है। इटली सरकार इटली और विदेशी नागरिकों को अपने देश के साथ मैत्रीपूर्ण संबंधों को बढ़ावा देने के प्रयास के लिए यह सम्मान देती है। इतालवी राजदूत विन्सेन्ज़ो डी लुका के निवास पर एक समारोह में सुरैया को यह सम्मान प्रदान किया गया।

लालू प्रसाद यादव

जनगणना में सांप-बिच्छू, तोता-मैना, हाथी-घोड़ा, कुत्ता-बिल्ली, सुअर-सियार सहित सभी पशु-पक्षी, पेड़-पौधे गिने जाएंगे लेकिन पिछड़े-अति पिछड़े इनसानों की गिनती नहीं होगी। वाह!

लालू प्रसाद यादव, राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष

 

कदमों के निशां

बीच बहस में

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से