खबर-चक्र

फेसबुक पर माओवादियों की वैकेंसी!
फेसबुक पर माओवादियों की वैकेंसी!

कोरोना के दौर में भले ही बहुराष्ट्रीय कंपनियों में काम करने वालों की नौकरी पर खतरे मंडरा रहे हैं लेकिन झारखंड में अंगूठा छाप लोगों को 12 लाख रुपये के पैकेज का ऑफर मिल रहा है। इस बार नौकरी का ऑफर माओवादियों ने दिया है। बस उनके दस्ते में शामिल हो जाएं, एक लाख रुपये मासिक मिलेगा। पिछले साल के अंत में इसी तरह के मामले को लेकर झारखंड का साहिबगंज चर्चा में आया था। उस समय पकड़े गये मोबाइल चोर गिरोह में शामिल होने के लिए पांच से दस लाख रुपये मासिक का ऑफर मिला था। कम उम्र के बच्चों के लिए यह ऑफर था। अभिभावकों को इसके लिए तीन साल का एग्रीमेंट करना था। मोबाइल चोरों का एक गिरोह पकड़े जाने के बाद पुलिस के सामने यह राज खुला था। अब नक्सली संगठन से जुड़ने के लिए एक लाख रुपये मासिक का ऑफर दिया जा रहा है। फेसबुक पर सुभाष राज नाम के व्यक्ति ने विधिवत यह ऑफर निकाला है। लिखा है कि जो भी लड़की या लड़का संगठन में शामिल होना चाहता है संपर्क करें, एक लाख रुपये महीना कमाएं। खबरों के अनुसार, पलामू जिला के सब जोनल कमांडर सुभाष ने सुभाष राज नामक फेसबुक आइडी से पोस्ट कर युवाओं को संगठन से जुड़ने का आमंत्रण दिया है। संपर्क करने के लिए फेसबुक पोस्ट पर फोन नंबर भी दिया गया है।

 चैरिटी की शुरुआत घर से दूर!

यह जरूरी नहीं कि चैरिटी जैसे नेक काम की शुरुआत हमेशा अपने घर से ही हो। आइपीएल खेल रहे कोलकाता नाइट राइडर्स के क्रिकेटर और ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज पैट कमिंस ने पीएम केयर्स फंड में 50 हजार अमेरिकी डॉलर के डोनेशन का ऐलान कर साथी खिलाड़ियों के लिए मिसाल खड़ी कर दी। उन्होंने स्वेच्छा से यह दान भारत में कोविड-19 की दूसरी लहर से जूझ रहे अस्पतालों में ऑक्सीजन सप्लाई के लिए दिया है। उन्होंने दूसरे शीर्ष खिलाड़ियों से भी अपील की कि वे भी यही करें। उनकी दरियादिली से प्रेरित होकर ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज ब्रेट ली ने भी कोरोना वायरस से लड़ाई में ऑक्सीजन की सप्लाई के लिए भारत को एक बिटकॉइन दान में देने की घोषणा की है, जिसका मूल्य भारतीय मुद्रा में लगभग 41 लाख रुपये है। ली कहते हैं, ‘‘भारत मेरे लिए दूसरे घर जैसा है। मुझे अपने क्रिकेट करिअर के दौरान और मेरे संन्यास के बाद यहां के लोगों से जो प्यार मिला, उसकी मेरे दिल में एक खास जगह है। इस संकट में लोगों को मरते हुए देखना दर्दनाक है। मैं उनकी मदद करने के लिए थोड़ा योगदान करने का अवसर पाकर खुद को सौभाग्यशाली महसूस कर रहा हूं।’’

इस दोनों खिलाड़ियों की नेकदिली उस वक्त दिखी है जब देश में कोरोना महामारी के दौर में आइपीएल के आयोजन पर विवाद चल रहा है और पूर्व ऑस्ट्रेलियाई विकेटकीपर एडम गिलक्रिस्ट सहित कई लोगों ने इस पर सवाल खड़े किये हैं। हालांकि कमिंस ने आइपीएल को जारी रखने के बारे में कहा है कि भारत सरकार का मानना है कि आइपीएल का खेल ऐसे समय में खुशी के कुछ पल और राहत देता है, जब देश के लिए मुश्किल समय है।

 ऑस्कर में एशिया का लहराया पताका

फिल्मों की दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित ऑस्कर अवॉर्ड 2021 में बेस्ट पिक्चर का खिताब इस वर्ष नोमैडलैंड को मिला है, जबकि बेस्ट ऐक्टर का अवॉर्ड 83 साल के एंथनी हॉपकिंस ने द फादर के लिए अपने नाम किया है। वे यह अवॉर्ड जीतने वाले सबसे उम्रदराज ऐक्टर बन गए हैं। इससे पहले 2011 में क्रिस्टोफर प्लमर ने 82 साल की उम्र में बिगिनर्स के लिए यह अवॉर्ड अपने नाम किया था। बेस्ट ऐक्ट्रेस का अवॉर्ड फ्रांसिस मैकडोरमैंड को नोमैडलैंड के लिए मिला है, जबकि चीन की क्लोए झाओ नोमैडलैंड के लिए बेस्ट डायरेक्टर चुनी गई हैं। क्लोए यह अवॉर्ड पाने वाली चीनी मूल की पहली महिला, जबकि बेस्ट डायरेक्टर का अवॉर्ड पाने वाली दूसरी महिला बन गई हैं। 73 साल की दक्षिण कोरियाई एक्ट्रेस यूह-जुंग यून ने भी बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का अवॉर्ड जीतकर इतिहास रच दिया। यह अवॉर्ड जीतने वाली वे दक्षिण कोरिया की पहली और एशिया की दूसरी अभिनेत्री हैं। एशिया में पहला सपोर्टिंग एक्ट्रेस का ऑस्कर अवॉर्ड जापानी-अमेरिकी एक्ट्रेस और सिंगर मियोशी उमेकी को 1958 में फिल्म सायोनारा के लिए मिला था। कोविड-19 महामारी के कारण इस बार अवॉर्ड सेरेमनी हॉलिवुड में दो स्थानों- डॉल्बी थिएटर और लॉस एंजिल्स के ऐतिहासिक यूनियन स्टेशन पर आयोजित किया गया। इस अवार्ड में प्रियंका चोपड़ा के हाथ निराशा लगी। उनकी फिल्म द व्हाइट टाइगर बेस्ट अडॉप्टेड स्क्रीनप्ले कैटेगरी में नामांकित हुई थी, लेकिन उसे अवॉर्ड नहीं मिला। भारतीय मूल के अमेरिकी म्यूजिक प्रोड्यूसर सावन कोटेचा यूरोविजन सॉन्ग कॉन्टेस्ट: द स्टोरी ऑफ फायर सागा फिल्म के सॉन्ग ‘हुसाविक’ के लिए ओरिजिनल सॉन्ग कैटेगरी में मनोनीत हुए थे। लेकिन इस कैटेगरी में फिल्म जुडास ऐंड दी ब्लेक मसीह के सॉन्ग ‘फाइट फॉर यू’ को जीत मिली।

 अमेरिकी खरबपतियों में अंतरिक्ष होड़

स्पेसएक्स के मालिक, अरबपति एलन मस्क ने नासा के साथ मून मिशन के लिए 2.89 अरब डॉलर का करार किया है, जिसके तहत मस्क पांच दशक बाद पहली बार नासा के अंतरिक्ष यात्रियों को चंद्रमा की सतह पर ले जाने के लिए अंतरिक्षयान स्टाकरशिप बनाएंगे। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा अपने आर्टेमिस मिशन के लिए बड़े पैमाने पर ठेका मस्क की कंपनी को दे रही है। इस समझौते से अमेजन कंपनी के मालिक जेफ बेजोस को झटका लगा है, जिनकी रॉकेट कंपनी ब्लू ओरिजिन भी इस समझौते के लिए प्रयास में थी। अंतरिक्षयान के जरिए मस्क मंगल ग्रह तक जाने का सपना देख रहे हैं। वे चाहते हैं कि मंगल ग्रह पर शहर बसाया जाए, जहां इनसान रह सकें। नासा का आर्टेमिस मिशन चांद पर न सिर्फ पहली महिला भेजकर इतिहास रचने वाला है, बल्कि पहली बार अश्वेत शख्स को भी भेजने की योजना बना रहा है।

 

 ‘‘कोरोना एक विपदा है। पूरी दुनिया के लिए। हमने इस महामारी का सामना पहले कभी नहीं किया। सरकार की आलोचना जरूरी है। उनपे तोहमत लगाइए। पर इससे जूझना हम सबकी भी जिम्मेदारी है। वैसे घबराइए मत। आएगा तो मोदी ही! जय हो!’’

अनुपम खेर, अभिनेता

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से