Home खेल टूर्नामेंट सिंधु ने सिंगापुर ओपन के सेमीफाइनल में ओकुहारा के सामने किया आत्मसमर्पण

सिंधु ने सिंगापुर ओपन के सेमीफाइनल में ओकुहारा के सामने किया आत्मसमर्पण

आउटलुक टीम - APR 13 , 2019
सिंधु ने सिंगापुर ओपन के सेमीफाइनल में ओकुहारा के सामने किया आत्मसमर्पण
सिंधु ने सिंगापुर ओपन के सेमीफाइनल में ओकुहारा के सामने किया आत्मसमर्पण
आउटलुक टीम

भारतीय शटलर ओलिंपिक सिल्वर मेडलिस्ट विजेता पीवी सिंधु को ओलिंपिक ब्रॉन्ज मेडल विजेता नोजोमी आकुहारा ने शनिवार को हराकर सिंगापुर ओपन से बाहर कर दिया है। विश्व की नंबर-3 जापानी खिलाड़ी ने विश्व रैंकिंग में छठे पायदान पर काबिज सिंधु को सीधे गेमों में 21-7, 21-11 से शिकस्त दी। सिंधु के हारने के साथ ही टूर्नामेंट में भारतीय चुनौती भी खत्म हो गई है।

सिंधु में आत्मविश्वास की कमी दिखी

विश्व नंबर-3 ओकुहारा ने 355,000 अमेरिकी डॉलर वाले इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल की दमदार शुरुआत की और पहले पांच अंक अपने नाम किए। सिंधु ने बीच में एक अंक लिया, लेकिन वे आकुहारा की तेजी के सामने जूझती नजर आईं। कड़े मुकाबलों में अपनी वापसी के लिए प्रसिद्ध सिंधु पहले गेम में ऐसा नहीं कर पाई और कई गलतियां की। इस मैच के शुरूआती 15 मिनट से ही सिंधु लय से बाहर दिख रही थी जबकि ओकुहारा ने शानदार नियंत्रण दिखाया, सिंधु में आत्मविश्वास की कमी दिखी। जिसके चलते देखते-देखते ओकुहारा ने 16-5 की बड़ी बढ़त भी बना ली।

इसके बाद, उन्होंने अपनी प्रतिद्वंद्वी को वापसी का एक भी मौका नहीं दिया और 21-7 के बड़े अंतर से पहला गेम अपने नाम किया। दूसरे गेम में भी आकुहारा ने भारतीय खिलाड़ी पर शुरू से दबाव बनाए रखा। एक समय स्कोर 9-4 से जापानी खिलाड़ी की ओर झुका हुआ था, लेकिन सिंधु ने पहले गेम में की गई गलतियों को फिर दोहराया। फाइनल में ओकुहारा का सामना विश्व की नंबर-1 ताइवान की ताइ जू यिंग के खिलाफ होगा। 

दोनों के बीच 2017 विश्व चैम्पियनशिप में खेला गया था ऐतिहासिक फाइनल

दोनों खिलाड़ियों के बीच यब अब तक का 14वां मुकाबला था, दोनों ने सात-सात मैच जीते हैं। पिछली हुई दो मुकाबलों में से सिंधु ने दोनो जीते थे। दोनों ने 2017 विश्व चैम्पियनशिप में एक ऐतिहासिक फाइनल हुआ था, जो 110 मिनट तक चला था और इसे बैडमिंटन के इतिहास में सर्वश्रेष्ठ महिला एकल मैच में से एक माना जाता है। उस महान विश्व चैम्पियनशिप के फाइनल के बाद से, सिंधु और ओकुहारा ने एक-दूसरे के खिलाफ छह मैच खेसे हैं और सिंधु ने चार बार जीत हासिल की है।

चौथी बार किसी टूर्नामेंट के खिताबी मुकाबलो सा हुई बाहर

इस साल यह चौथी बार है, जब सिंधु किसी टूर्नामेंट के खिताबी मुकाबले में जगह बनाने में असफल रही हैं। 22 से 27 जनवरी तक चले इंडोनेशिया मास्टर्स में वे क्वार्टर फाइनल में स्पेन की कैरोलिना मारिन से 11-21, 12-21 से हार गईं थी।

कोरिया की जी ह्यून से पिछले 2 महीने में 2 बार हारीं सिंधु

सिंधु 6 से 10 मार्च तक चले ऑल इंग्लैंड ओपन बैडमिंटन चैम्पियशिप में वे पहले दौर में ही बाहर हो गईं थीं। तब उन्हें कोरिया की सुंग जी ह्यून के खिलाफ 16-21, 22-20, 18-21 से हार का सामना करना पड़ा था। नई दिल्ली में 26 से 31 मार्च तक चले इंडिया ओपन में उनका सफर सेमीफाइनल में खत्म हो गया था। उन्हें चीन की ही बिंगजियाओ ने 23-21, 21-18 से हराया था। इस महीने मलेशिया ओपन में भी वे दूसरे दौर तक पहुंचने में ही सफल रहीं। उन्हें प्री क्वार्टर फाइनल में वर्ल्ड नंबर-10 सुंग जी ह्यून के खिलाफ 18-21, 7-21 हार का सामना करना पड़ा था।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से