Home खेल टूर्नामेंट ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप: साइना और श्रीकांत दूसरे राउंड में पहुंचे, सिंधु पहले राउंड में ही बाहर

ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप: साइना और श्रीकांत दूसरे राउंड में पहुंचे, सिंधु पहले राउंड में ही बाहर

आउटलुक टीम - MAR 07 , 2019
ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप: साइना और श्रीकांत दूसरे राउंड में पहुंचे, सिंधु पहले राउंड में ही बाहर
ऑल इंग्लैंड चैंपियनशिप: साइना और श्रीकांत दूसरे राउंड में पहुंचे, सिंधु पहले राउंड में ही बाहर
आउटलुक टीम

भारतीय टेनिस स्टार साइना नेहवाल और किदांबी श्रीकांत ने ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप के दूसरे राउंड में जगह बना ली है। बुधवार को बर्मिंघम में खेले गए अपने पहले राउंड के मुकाबलों में उन्होंने सीधे गेम्स में जीत दर्ज की। साइना ने स्कॉटलैंड की क्रिस्टी गिलमौर को सिर्फ 35 मिनट में 21-17, 21-18 से हराया। स्कॉटिश खिलाड़ी पर यह साइना की लगातार सातवीं जीत थी। अब दूसरे राउंड में उनका मुकाबला डेनमार्क की लाइन केजर्सफेल्ट से होगा।

 श्रीकांत और प्रणीत जीते

 वहीं श्रीकांत ने 30 मिनट चले मैच में फ्रांस के ब्रिस लेवरडेज को 21-13, 21-11 से हराया। पुरुष एकल में समीर वर्मा का टूर्नामेंट में सफर खत्म हो गया। वे पहले राउंड में दुनिया के छठी रैंकिंग के शटलर विक्टर एक्सेलसेन के हाथों 16-21, 21-18, 21-14 से हार गए और 2017 सिंगापुर ओपन चैंपियन बी साई प्रणीत ने हमवतन भारतीय एचएस प्रणय को करीबी मुकाबले में 21-19 21-19 से हराया।

 सिंधु हुई बाहर

 दूसरी ओर भारत की एक और स्टार शटलर पीवी सिंधु को पहले दौर से ही बाहर होना पड़ा। महिला एकल के एक  कड़े मुकाबले में कोरिया की सुंग जी ह्युन ने उन्हें हराया। सुंग जी के खिलाफ पिछले तीन मुकाबलों में शिकस्त झेलने वाली सिंधु को दूसरे और तीसरे गेम में आठ मैच प्वाइंट बचाने के बावजूद 16-21 22-20 18-21 से हार का सामना करना पड़ा।

सिंधु और सुंग जी के बीच मुकाबला काफी रोमांचक रहा। भारतीय खिलाड़ी ने 6-3 की बढ़त से शुरुआत की लेकिन सिंधु की गलतियों का फायदा उठाकर सुंग जी ने बराबरी हासिल कर ली। सिंधु इस मैच में सुंग जी के खिलाफ आठ जीत और छह हार के रिकार्ड के साथ उतरीं थी लेकिन 81 मिनट चले इस कड़े मुकाबले में कोरिया की खिलाड़ी ने एक बार फिर भारतीय खिलाड़ी को परेशान करते हुए जीत दर्ज की।

सिंधु ने माना शुरू में बढ़त देना था गलत

 सिंधु ने मैच के बाद कहा, 'मुझे लगता है कि मुझे शुरू में उन्हे बढ़त नहीं देनी चाहिए थी। मैने उन्हे काफी अंक दे दिए और बाद में इसकी भरपाई करना मुश्किल था। संभवत: मेरा भाग्य ने भी साथ नहीं दिया क्योंकि मेरे स्मैश नेट पर लग रहे थे। मैं बाहर मार रही थी लेकिन कुल मिलाकर यह अच्छा मैच था और वह अच्छा खेली। मैंने पर्याप्त ट्रेनिंग की थी लेकिन आज का दिन मेरा नहीं था। ऐसे मैच होते रहते हैं और मुझे इस चुनौती के रूप में लेना होगा और मजबूत वापसी करनी होगी।'

 

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से