Advertisement
Home खेल वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में नीरज को सिल्वर, फिर रचा इतिहास

वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में नीरज को सिल्वर, फिर रचा इतिहास

आउटलुक टीम - JUL 24 , 2022
वर्ल्ड एथलेटिक्स चैंपियनशिप में नीरज को सिल्वर, फिर रचा इतिहास
नीरज चोपड़ा
आउटलुक टीम

ओलंपिक विजेता नीरज चोपड़ा विश्व एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में पदक जीतने वाले दूसरे भारतीय और पहले भारतीय पुरूष एथलीट बन गए जिन्होंने भालाफेंक स्पर्धा में 88 . 13 मीटर के थ्रो के साथ रजत पदक जीता । बता दें कि भारत के लिये विश्व चैम्पियनशिप में एकमात्र पदक 2003 में पेरिस में अंजू बॉबी जॉर्ज ने लंबी कूद में कांस्य जीता था ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी नीरज चोपड़ा को विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में रजत पदक जीतने पर बधाई दी है।

फाउल से शुरूआत करने वाले चोपड़ा ने शानदार वापसी करते हुए दूसरी कोशिश में 82 . 39, तीसरे में 86 . 37 और चौथे प्रयास में 88 . 13 मीटर का थ्रो फेंका जो सत्र का उनका चौथा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है । उनका पांचवां और छठा प्रयास फाउल रहा ।

ग्रेनाडा के एंडरसन पीटर्स ने 90 . 54 मीटर के साथ स्वर्ण पदक जीता जबकि चेक गणराज्य के याकूब वालडेश को कांस्य पदक मिला जिन्होंने 88 . 09 मीटर का थ्रो फेंका ।

इसके अलावा भारत के रोहित यादव 78 . 72 मीटर के सर्वश्रेष्ठ थ्रो के साथ दसवें स्थान पर रहे।

नीरज चोपड़ा ने पिछले साल तोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीता था और निशानेबाज अभिनव बिंद्रा के बाद ओलंपिक की व्यक्तिगत स्पर्धा में स्वर्ण जीतने वाले वह पहले भारतीय हैं।

पीटर्स ने 90 . 21 मीटर से शुरूआत की और उनका उसके बाद 90 . 46 , 87 . 21, 88.11, 85 . 83 मीटर के थ्रो फेंके । पांच कोशिशों के बाद ही उनका स्वर्ण सुनिश्चित हो गया था मगर उन्होंने छठा थ्रो 90 . 54 मीटर फेंका जो उनका सर्वश्रेष्ठ थ्रो रहा।

चोपड़ा ने ग्रुप ए क्वालीफिकेशन में शुरूआत की और 88 . 39 मीटर का थ्रो फेंका था जो उनके कैरियर का तीसरा सर्वश्रेष्ठ थ्रो था । गत चैम्पियन पीटर्स ने ग्रुप बी में 89 . 91 मीटर का थ्रो लगाकर पहला स्थान हासिल किया था ।

बता दें कि चोपड़ा का सर्वश्रेष्ठ निजी प्रदर्शन 89 . 94 मीटर का है । उन्होंने लंदन विश्व चैम्पियनशिप 2017 में खेला था लेकिन फाइनल के लिये क्वालीफाई नहीं कर पाये थे । दोहा में 2019 विश्व चैम्पियनशिप में वह कोहनी के आपरेशन की वजह से नहीं खेल सके थे ।

चोपड़ा ने इस सत्र में दो बार पीटर्स को हराया था जबकि पीटर्स जून में डायमंड लीग में विजयी रहे थे । पीटर्स अब सत्र में छह बार 90 मीटर से ज्यादा का थ्रो फेंक चुके हैं जबकि चोपड़ा अभी तक यह बाधा पार नहीं कर पाये हैं ।

रोहित ग्रुप बी में 80 . 42 मीटर का थ्रो फेंककर छठे स्थान पर और कुल 11वें स्थान पर रहे थे । उनका सत्र का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 82 . 54 मीटर है जो उन्होंने राष्ट्रीय अंतर प्रांत चैम्पियनशिप में पिछले महीने हासिल करके रजत पदक जीता था।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से

Advertisement
Advertisement