Home खेल सामान्य कस्टम डिपार्टमेंट के द्वारा रोके जाने को लेकर हार्दिक पांड्या ने दी सफाई- घड़ी की कीमत को लेकर अफवाह, जब्त नहीं हुई, मैंने खुद सौंपी

कस्टम डिपार्टमेंट के द्वारा रोके जाने को लेकर हार्दिक पांड्या ने दी सफाई- घड़ी की कीमत को लेकर अफवाह, जब्त नहीं हुई, मैंने खुद सौंपी

आउटलुक टीम - NOV 16 , 2021
कस्टम डिपार्टमेंट के द्वारा रोके जाने को लेकर हार्दिक पांड्या ने दी सफाई- घड़ी की कीमत को लेकर अफवाह, जब्त नहीं हुई, मैंने खुद सौंपी
मुंबई एयरपोर्ट पर '5 करोड़ की घड़ियों' की जब्ती पर हार्दिक पांड्या ने दी सफाई- 'मेरे बारे में गलत...'
आउटलुक टीम

मुंबई एयरपोर्ट पर कस्टम विभाग द्वारा जब्त की गई 5 करोड़ की दो घड़ियों के मामले में क्रिकेटर हार्दिक पांड्या ने बयान जारी कर कहा है कि 15 नवंबर की सुबह दुबई से मुंबई पहुंचने पर मैं खुद कस्टम ड्यूटी चुकाने एयरपोर्ट के कस्टम काउंटर पर गया था। मेरे बारे में सोशल मीडिया पर गलत खबरें फैलाई गई हैं।हार्दिक पांड्या ने अपने बयान में दो अहम बातों का जिक्र करते हुए कहा कि उनसे घड़ी जब्त नहीं की गई, दुबई से मुंबई एयरपोर्ट पहुंचने के बाद वह खुद कस्टम डिपार्टमेंट गए और उन्होंने अपनी घड़ी सौंपी। दूसरी बात यह कि घड़ी की कीमत पांच करोड़ रुपये नहीं बल्कि करीब डेढ़ करोड़ रुपये है। हार्दिक पांड्या ने ट्विटर के जरिए अपनी बात रखी है।

बता दें कि सोमवार को खबर आई कि हार्दिक जब मुंबई एयरपोर्ट पहुंचे, तो कस्टम डिपार्टमेंट ने उनके पास से पांच करोड़ से ज्यादा कीमत वाली दो घड़ियां जब्त कर लीं।

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि हार्दिक के पास उन घड़ियों का बिल नहीं था और उन्होंने इसको अपने सामान में डिक्लेयर भी नहीं किया था। सोमवार को खबर मीडिया में आने के बाद मंगलवार सुबह हार्दिक ने ट्विटर के जरिए अपना बयान जारी किया। उन्होंने लिखा, '15 नवंबर की सुबह-सुबह मैं दुबई से जब लौटा तो अपना सामान उठाने के बाद मैं खुद कस्टम काउंटर पर गया, उन चीजों को डिक्लेयर करने, जो मैं वहां से लेकर आया था और जरूरी कस्टम ड्यूटी भरी मैंने। सोशल मीडिया पर गलत खबरें फैलाई जा रही हैं।'

उन्होंने आगे लिखा, 'मैंने अपने साथ लाए सभी सामान को डिक्लेयर किया, जो मैंने लॉफुली दुबई से खरीदा था और जो भी ड्यूटी उन सामान पर लगती, उसको भरने के लिए राजी था। आपको बता दूं कि कस्टम डिपार्टमेंट ने मुझसे सामान खरीदने के डॉक्यूमेंट्स मांगे, और वह जमा कर दिए गए। कस्टम डिपार्टमेंट इन सामान की ड्यूटी का वैल्यूएशन कर रहा है और मैं पहले ही कह चुका हूं कि जो ड्यूटी होगी मैं उसको भरूंगा। घड़ी की कीमत करीब डेढ़ करोड़ रुपये है ना कि 5 करोड़ रुपये, जैसा कि सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है।'

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से