Home खेल सामान्य मुक्केबाज विजेंदर सिंह ने कहा, खेल प्रतियोगिताओं को शुरू करने से पहले कोरोनावायरस को नियंत्रित करना जरूरी

मुक्केबाज विजेंदर सिंह ने कहा, खेल प्रतियोगिताओं को शुरू करने से पहले कोरोनावायरस को नियंत्रित करना जरूरी

आउटलुक टीम - JUN 29 , 2020
मुक्केबाज विजेंदर सिंह ने कहा, खेल प्रतियोगिताओं को शुरू करने से पहले कोरोनावायरस को नियंत्रित करना जरूरी
मुक्केबाज विजेंद्र सिंह ने कहा, किसी भी तरह की खेल प्रतियोगिताओं को शुरू करने से पहले कोरोनोवायरस को नियंत्रित करने की आवश्यकता
आउटलुक टीम

भारत में खेल से जुड़े प्रशासक प्रतियोगिताओं को फिर से शुरू करने की योजना पर काम कर रहे हैं, लेकिन कोविड-19 महामारी के बढ़ते मामलों के बीच खिलाड़ी सावधानी से कदम उठाने के पक्ष में हैं। कोरोनावायरस के मामले नियंत्रित नहीं होने के कारण अगस्त में खेलों को फिर से शुरू करने की योजना पर संशय बरकरार है। खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने पिछले सप्ताह विभिन्न राष्ट्रीय खेल महासंघों (एनएसएफ) के प्रतिनिधियों के साथ एक ऑनलाइन मुलाकात में कहा कि प्रतिस्पर्धी खेल की वापसी के लिए अगस्त के महीने को लक्ष्य बनाया जा सकता है।

 

भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) एनएफएस के लिए प्रशिक्षण-सह-प्रतियोगिता कैलेंडर तैयार करने के लिए उत्सुक है। पीटीआई-भाषा ने देश के शीर्ष एथलीटों से बात कर प्रतिस्पर्धा की वापसी के लिए उनकी योजना के बारे में जानने की कोशिश की।

 

भारत में मामले लगातार बढ़ रहे हैं

 

पेशेवर करिर में हाथ आजमा रहे ओलंपिक पदक जीतने वाले भारत के पहले मुक्केबाज विजेंदर सिंह ने कहा, ''हमें इस तरह के बयान देने (प्रतियोगिताओं को फिर से शुरू करने) से पहले वायरस को नियंत्रण में लाना होगा। क्या भारत में मामले घट रहे हैं? नहीं, यहां तक कि कोई इलाज या टीका भी नहीं तैयार हुआ है।'' उन्होंने कहा, ''अगर कोई एथलीट प्रतिस्पर्धा के दौरान संक्रमित हो जाता है, तो इतने सारे लोगों को जोखिम में डालते की कौन जिम्मेदारी लेगा? कोविड-19 ऐसी चीज है जिसके बारे में किसी को पता नहीं चल रहा है।''

 

नोवाक जोकोविच भी कोरोना वायरस की चपेट में

 

हाल में विश्व के नंबर एक टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकोविच के अलावा कई और खिलाड़ी एक टूर्नामेंट के दौरान कोरोना वायरस की चपेट में आ गए। इंग्लैंड दौरे के लिए चुने गए पाकिस्तान के 29 में से 10 क्रिकेटर भी इस वायरस की जांच में पॉजिटिव मिले थे। भारत में भी संक्रमितों का आंकड़ा पांच लाख के पार पहुंच गया है, जबकि इससे मरने वालो लोगों का अंकड़ा 16,000 से अधिक है। 

 

खिलाड़ियों की फिटनेस पर पड़ेगा असर

 

विश्व चैम्पियनशिप के रजत पदक विजेता पहवान बजरंग पूनिया ने कहा कि इससे खिलाड़ियों की फिटनेस पर असर पड़ेगा। उन्होंने कहा, ''लॉकडाउन के बाद से एथलीट अपने घर पर हैं और अगर यह इसी तरह जारी रहा तो यह उनके लिए काफी नुकसानदायक होगा। उनके फिटनेस पर बुरा असर पड़ेगा।''

 

केन्द्र सरकार ने खिलाड़ियों को शर्तों के साथ बाहर अभ्यास करने की मंजूरी दी है, लेकिन कई राज्यों में प्रतिबंध बरकरार हैऐसे में जमीनी स्तर पर इस छूट का ज्यादा असर देखने को नहीं मिल रहा है। टेबल टेनिस महासंघ शिविर को फिर से शुरू करने के लिए बेताब है, लेकिन अब तक दो बार प्रयास करने के बावजूद वे खिलाड़ियों को मनाने में सफल नहीं रहे।

 

खिलाड़ी अभी और प्रतीक्षा करना चाहते है

 

ओलंपिक के लिए 15 भारतीय निशानेबाजों ने कोटा सुनिश्चित किया है और इस खेल के व्यक्तिगत स्वरूप को देखते हुए विशेषज्ञों का मानना है कि इसे शुरू किया जा सकता है, लेकिन खिलाड़ी अभी और प्रतीक्षा करना चाहते है। राष्ट्रमंडल, विश्व कप और एशियाई खेलों के कई बार के पदक विजेता संजीव राजपूत ने कहा, ''मुझे नहीं लगता कि खेल की गतिविधियों को फिर से शुरू करने के लिए यह सही समय है। स्थिति को देखते हुए इसमें जोखिम शामिल हैं। लेकिन अगर मैं निशानेबाजी के बारे में बात करूं, तो हम 5-6 एथलीटों के बैच में अभ्यास शुरू कर सकते है।''

 

अभिषेक वर्मा भी खेल शुरू करने के खिलाफ

 

दो बार के विश्व कप विजेता अभिषेक वर्मा ने भी कहा, ''खेल को फिर से शुरू करने का यह सही समय नहीं है। खासकर दिल्ली जैसी जगहों पर जहां मामलों की संख्या बढ़ रही है। ओलंपिक के लिए क्वॉलिफाई करने वाले 15 निशानेबाज अभ्यास शुरू कर सकते हैं लेकिन यह जरूरी नहीं कि वे दिल्ली में अभ्यास करें।''

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से