Home खेल सामान्य जेटली की प्रतिमा लगाने पर विवाद; पूर्व कप्तान बेदी का इस्तीफा, कहा- गूगल सर्च को भी पता है उस वक्त का भ्रष्टाचार

जेटली की प्रतिमा लगाने पर विवाद; पूर्व कप्तान बेदी का इस्तीफा, कहा- गूगल सर्च को भी पता है उस वक्त का भ्रष्टाचार

आउटलुक टीम - DEC 23 , 2020
जेटली की प्रतिमा लगाने पर विवाद; पूर्व कप्तान बेदी का इस्तीफा, कहा- गूगल सर्च को भी पता है उस वक्त का भ्रष्टाचार
पूर्व कप्तान बेदी
आउटलुक टीम

अपनी खरी बातों और बगावती तेवरों के लिए प्रसिद्ध पूर्व भारतीय कप्तान बिशन सिंह बेदी ने दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) के अध्यक्ष रोहन जेटली को पत्र लिखकर राजधानी के अरुण जेटली स्टेडियम से दर्शक स्टैंड से उनका नाम हटाने की अपील की है और साथ ही उन्होंने डीडीसीए की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है।

बेदी ने रोहन जेटली को पत्र लिखकर ये मांग की है। यह पत्र उस वक्त लिखा गया है जब डीडीसीए के पूर्व अध्यक्ष स्वर्गीय अरुण जेटली की प्रतिमा स्टेडियम में लगाने का फैसला किया गया है। 2017 में ही अरुण जेटली स्टेडियम का एक स्टैंड पूर्व लेफ्ट आर्म स्पिनर बेदी के नाम पर रखा गया था। लेकिन उनके इस पत्र के बाद से एक बार फिर डीडीसीए का अंदरूनी विवाद सामने आ गया है।

पूर्व कैप्टन बेदी ने पत्र में लिखा, “मैं इस पत्र को भारी मन से लिख रहा हूं। हालांकि मैं जनता हूं कि किसी दिवंगत व्यक्ति में कुछ भी कहना अच्छा नहीं होता है। मुझे उम्मीद है कि आपको पता है कि मेरे दिवंगत अरुण जेटली से निजी संबंध किस प्रकार के थे और हमारे बीच मतभेद रहते थे। हमारी जान पहचान क्रिकेटर के रुप में नहीं हुई थी लेकिन वह डीडीसीए के अध्यक्ष थे। मुझे याद है जब उनके आवास पर बैठक के दौरान वह अप्रिय भाषा का उपयोग कर रहे एक व्यक्ति वहां से बाहर निकालने में असमर्थ दिखाई दे रहे थे तब मैं बीच में ही उस बैठक से चला गया था।”

उन्होंने कहा, “मैं आने वाली पीढ़ी के लिए लड़ाई लड़ने आगे नहीं आया हूं लेकिन मुझे यह भी सिखाया गया है कि अगर मैं एक दृष्टिकोण लेने में दृढ़ता से विश्वास करता हूं तो मुझे इसके साथ रहना चाहिए। डीडीसीए में चल रहा भाई-भतीजावाद एक दिन काफी गलत साबित होगा। आप उन सभी निर्णयों के लिए भी दोषी पाए जाते हैं और उनसे भाग नहीं सकते हैं तथा आप अपनी अनुपस्थिति का बहाना भी नहीं दे सकते। मैं अब आपके नेतृत्व में देख रहा हूं कि डीडीसीए में चापलूसी संस्कृति का दौर जारी है।”

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से