Home खेल सामान्य अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड का बड़ा फैसला, कोचिंग स्टाफ की सैलरी में होगी कटौती

अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड का बड़ा फैसला, कोचिंग स्टाफ की सैलरी में होगी कटौती

आउटलुक टीम - MAY 12 , 2020
अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड का बड़ा फैसला, कोचिंग स्टाफ की सैलरी में होगी कटौती
कोविड-19 महामारी के कारण, कोचिंग स्टाफ की सैलरी काटेगा अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड
FILE PHOTO
आउटलुक टीम

अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड (एसीबी) ने कोविड-19 महामारी से पैदा हुए वित्तीय संकट से पार पाने के लिये राष्ट्रीय टीम के सहयोगी स्टाफ के वेतन में कटौती करने का फैसला किया है और इसी क्रम में मुख्य कोच लांस क्लूसनर के वेतन में 25 प्रतिशत कटौती की गयी है। अगर अफगानिस्तान का जून में जिम्बाब्वे दौरा नहीं हो पाता है तो वेतन में 50 प्रतिशत तक कटौती की जा सकती है।

जून में कटौती 50 प्रतिशत तक हो सकती है

एसीबी के मुख्य कार्यकारी लुत्फुल्लाह स्टेनिकजई ने ईएसपीएन क्रिकइन्फो से कहा, ‘‘यह हमारी खर्चों में बचत करने की रणनीति का हिस्सा है क्योंकि कोविड-19 संकट का प्रभाव हम पर भी पड़ा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमने कोचों के वेतन में मई में 25 प्रतिशत कटौती करने का फैसला किया है। अगर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की वापसी नहीं होती तो जून में यह कटौती 50 प्रतिशत होगी। जब तक हमारी वित्तीय स्थिति हमें इजाजत देती है तब तक हम उन्हें पद पर बनाए रखेंगे।’’

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व ऑलराउंडर क्लूसनर पर पड़ेगा प्रभाव

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व ऑलराउंडर क्लूसनर के अलावा वेतन में कटौती का प्रभाव बल्लेबाजी कोच एच डी एकेरमैन और सहायक कोच नवरोज मंगल पर भी पड़ेगा। रिपोर्ट के अनुसार एसीबी ने अपने सभी केंद्रीय अनुबंधित खिलाड़ियों को 2020 की पहली तिमाही का भुगतान कर दिया है लेकिन अगर जिम्बाब्वे के खिलाफ पांच टी-20 मैचों की सीरीज नहीं होती है तो उनके वेतन ढांचे की समीक्षा की जा सकती है। अभी बोर्ड ने सीनियर टीम के 32 खिलाड़ियों और 55 घरेलू क्रिकेटरों को अनुबंध दे रखा है।

टी-20 विश्व कप और एशिया कप को लेकर नहीं हैं आश्वस्त

स्टानिकजाई ने कहा, उनके लिए राजस्व का नुकसान हुआ है और अक्टूबर-नवंबर में ऑस्ट्रेलिया में आयोजित होने वाले टी-20 विश्व कप की योजना के अनुसार नहीं होने पर वे नकारात्मक रूप से प्रभावित होंगे। आगे उन्होंने कहा, "हम केवल लागतों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं, जहां कहीं भी राजस्व की हानि हो सकती है, हमारे लिए जो सरकारी अनुदान प्राप्त होता है, वह जोखिम में है क्योंकि सरकार महामारी से निपटने पर खर्च कर रही है।

स्टानिकजाई एशिया कप को लेकर भी ज्यादा सकारात्मक नहीं हैं। उन्होंने कहा कि हमें 100 प्रतिशत यकीन नहीं है कि एशिया कप होगा और हमें वहां से राजस्व मिलेगा भी या नहीं। वहीं अगर टी-20 विश्व कप होने में कोई समस्या है, तो यह हमें अगले साल और उससे आगे जाने के लिए नकारात्मक रूप से प्रभावित करेगा।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से