Home खेल क्रिकेट सौरव गांगुली, जय शाह के कार्यकाल पर सुनवाई कर रहा है सुप्रीम कोर्ट, BCCI ने मांगा दो सप्ताह का स्थगन

सौरव गांगुली, जय शाह के कार्यकाल पर सुनवाई कर रहा है सुप्रीम कोर्ट, BCCI ने मांगा दो सप्ताह का स्थगन

आउटलुक टीम - FEB 14 , 2021
सौरव गांगुली, जय शाह के कार्यकाल पर सुनवाई कर रहा है सुप्रीम कोर्ट, BCCI ने मांगा दो सप्ताह का स्थगन
सौरव गांगुली, जय शाह के कार्यकाल पर सुनवाई कर रहा है सुप्रीम कोर्ट, BCCI ने मांगा दो सप्ताह का स्थगन
आउटलुक टीम

देरी तक मामला खींचने की रणनीति के तहत भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की कानूनी टीम ने बोर्ड के अध्यक्ष सौरव गांगुली और सचिव के रूप में बने रहने के लिए सुप्रीम कोर्ट में दो सप्ताह के स्थगन की मांग की है। दोनों का कार्यकाल पिछले साल ही खत्म हो गया था। माना जाता है कि बीसीसीआई के संविधान के अनुसार, उनका कार्यकाल फिलहाल 'कूलिंग ऑफ' है जिसे अगस्त 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने मंजूरी दे दी थी और फिलहाल लागू है।

13 फरवरी, 2021 को मैसर् लॉयर्स निट एंड कंपनी ने सुप्रीम कोर्ट के रजिस्ट्रार को लिखे एक पत्र में कहा गया है कि बीसीसीआई की ओर से पेश वकील मुश्किल में है और इसलिए अपीलकर्ता दो सप्ताह के लिए स्थगन दिया जए।"

बीसीसीआई मामला जस्टिस एल नागेश्वर राव और जस्टिस एस रवींद्र भट की अदालत में 16 फरवरी (मंगलवार) को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध है। जस्टिस राव की अदालत में दो सुनवाई के दौरान कोई नतीजा नहीं निकल पाया।

16 फरवरी को सुनवाई के लिए इससे जुड़े 14 मामले सूचीबद्ध हैं लेकिन सबसे अहम मामला बीसीसीआई का है जिसमें सुप्रीम कोर्ट के विभिन्न निर्देशों और जस्टिस आरएम लोढ़ा समिति की सिफारिशों की मांग की गई है।

तमिलनाडु क्रिकेट एसोसिएशन और हरियाणा क्रिकेट एसोसिएशन, जिनके फंड को बोर्ड ने रोक दिया है, ने ऐसी ही अपील की है। नया बोर्ड संविधान लोढ़ा सुधारों पर बनाया गया था जिसे अगस्त 2018 में कैग के पूर्व विनोद राय के नेतृत्व में सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त प्रशासकों की समिति द्वारा अनुमोदित और पंजीकृत किया गया था।

सुप्रीम कोर्ट को दिए गए अपने आवेदन में, बीसीसीआई ने अपने संविधान में छह बड़े बदलावों की मांग की है। इसके पदाधिकारियों का कार्यकाल उनमें से एक है। बीसीसीआई के वकील के पत्र में "कठिनाई" की प्रकृति की व्याख्या नहीं की गई है, लेकिन अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि यह "देरी करने वाली रणनीति" के अलावा और कुछ नहीं है। यह एकमात्र तरीका है, जिसे गांगुली और शाह जारी रख सकते हैं और हर कानूनी तरीका अपनाकर चुनौती दे रहे हैं।

स्पॉट फिक्सिंग विवाद के बाद सुप्रीम कोर्ट की ओर से बनाई गई जस्टिस लोढ़ा कमेटी ने बीसीसीआई के संविधान में बदलाव करने की सिफारिश की थी। इसमें सबसे अहम मुद्दा कूलिंग ऑफ पीरियड का था।

गांगुली और शाह अक्टूबर 2019 में निर्विरोध बीसीसीआई के अध्यक्ष और सचिव निर्वाचित हुए थे, हालांकि दोनों का कार्यकाल बीते साल जुलाई और अगस्त में ही खत्म हो गया था। इससे पहले ही दोनों ने इसे बढ़ाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। इसके बाद से ही लगातार मामले में सुनवाई जारी है, जिसके चलते बीसीसीआई के दोनों शीर्ष पदाधिकारी अपने-अपने पद पर बने हुए हैं।

पूर्व क्रिकेटर जस्टिस राव, बीसीसीआई के मामले से अच्छी तरह से वाकिफ हैं, जो कि 2013 के आईपीएल सट्टेबाजी और मैच फिक्सिंग कांड के बाद क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बिहार के आदित्य वर्मा द्वारा 2014 में दायर एसएलपी से पैदा हुआ था।

राव, भारत के तत्कालीन अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल, न्यायमूर्ति मुकुल मुद्गल समिति का हिस्सा थे, जिन्होंने आईपीएल में भ्रष्टाचार की जांच की। यह मुद्गल समिति की रिपोर्ट के आधार पर था कि लोढ़ा पैनल का गठन सुप्रीम कोर्ट ने किया था। दो बीसीसीआई अध्यक्षों- एन। श्रीनिवासन और अनुराग ठाकुर को सुप्रीम कोर्ट ने हटा दिया है। क्या सौरव गांगुली तीसरे होंगे?

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से