Home खेल क्रिकेट हार्दिक पंड्या और लोकेश राहुल सस्पेंड, जांच होने तक नहीं खेल पाएंगे मैच

हार्दिक पंड्या और लोकेश राहुल सस्पेंड, जांच होने तक नहीं खेल पाएंगे मैच

आउटलुक टीम - JAN 11 , 2019
हार्दिक पंड्या और लोकेश राहुल सस्पेंड, जांच होने तक नहीं खेल पाएंगे मैच
हार्दिक पंड्या और लोकेश राहुल सस्पेंड, जांच होने तक नहीं खेल पाएंगे मैच
आउटलुक टीम

क्रिकेटर हार्दिक पंड्या और केएल राहुल महिलाओं पर विवादास्पद टिप्पणी को लेकर मुसीबत में फंस गए हैं। शुक्रवार को एक टीवी कार्यक्रम के दौरान महिलाओं पर गई टिप्पणियों के लिए जांच लंबित होने तक दोनों को निलंबित कर दिया गया। वे शनिवार से ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे सीरीज में भी नहीं खेल पाएंगे।

सीओए के अध्यक्ष विनोद राय ने पीटीआई से कहा, ‘पंड्या और राहुल दोनों को जांच लंबित होने तक निलंबित किया गया है।’ बीसीसीआई सूत्रों ने कहा कि इन दोनों को औपचारिक जांच शुरू होने से पहले नए सिरे से कारण बताओ नोटिस जारी किया जाएगा। बोर्ड के एक अधिकारी ने कहा, ‘जो जांच करेगा वह बीसीसीआई की अंतरिम समिति होगी या तदर्थ लोकपाल इसका फैसला अभी नहीं किया गया है।’  उन्होंने कहा, ‘भारतीय टीम प्रबंधन यह फैसला करेगा कि वह इन दोनों को टीम में बनाए रखना चाहता है या उन्हें स्वदेश भेजना चाहता है।

शासकों की समिति (सीओए) की सदस्य डायना इडुल्जी ने भारतीय खिलाड़ियों हार्दिक पंड्या और लोकेश राहुल के खिलाफ शुक्रवार को ‘आगे की कार्रवाई तक निलंबन’ की सिफारिश की थी क्योंकि बीसीसीआई की विधि टीम ने महिलाओं पर इनकी विवादास्पद टिप्पणी को आचार संहिता का उल्लंघन घोषित करने से इनकार कर दिया। इडुल्जी ने शुरुआत में इन दोनों को दो मैचों के लिए निलंबित करने का सुझाव दिया था लेकिन बाद में इस मामले को विधि विभाग के पास भेज दिया जबकि सीओए प्रमुख विनोद राय उनसे सहमत हो गए थे और निलंबन की सिफारिश कर दी थी। 

कानूनी टीम से राय लेने के बाद इडुल्जी ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा, ‘‘यह जरूरी है कि दुर्व्यवहार पर कार्रवाई का फैसला लिए जाने तक दोनों खिलाड़ियों को निलंबित रखा जाए जैसा कि (बीसीसीआई) सीईओ (राहुल जौहरी) के मामले में किया गया था जब यौन उत्पीड़न के मामले में उन्हें छुट्टी पर भेजा गया था।’’      

राय ने क्या कहा?

इडुल्जी के नजरिये का समर्थन करते हुए राय ने कहा कि जांच लंबित रहने तक निलंबन होना चाहिए।   उन्होंने कहा, ‘‘यह आचार संहिता का मामला नहीं बल्कि संस्थान की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाना है। जैसे कि आईसीसी ने गेंद से छेड़छाड़ के आरोपों में अपनी आचार संहिता के तहत स्टीव स्मिथ पर अधिकतम एक मैच का प्रतिबंध लगाया था।’’ अधिकारी ने कहा, ‘‘लेकिन खेल की प्रतिष्ठ को नुकसान पहुंचाने के लिए क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने उन्हें एक साल के लिए प्रतिबंधित किया। जब आप उनकी मूर्खतापूर्ण टिप्पणी को देखते हैं तो बड़ी तस्वीर देखिए।’’

क्या था बयान?

हार्दिक ने करण जौहर के टीवी शो 'कॉफी विद करण' में विवादित बयान दिया था। हार्दिक ने शो में कहा था कि उनके कई महिलाओं के साथ संबंध हैं। इस बयान से कप्तान विराट कोहली सहित पूरी टीम ने खुद को अलग कर लिया था। इस बीच, स्टार नेटवर्क ने ‘कॉफी विद करण’ के विवादित शो को भी हटा लिया।

हालांकि विवाद के बाद हार्दिक ने माफी मांगते हुए कहा था, "मैं एक चैट शो पर गया था। मैंने कुछ टिप्पणियां कीं और इस दौरान मैंने इस बात का ध्यान नहीं दिया कि इससे किसी की भावनाएं आहत हो सकती हैं। मैं तहेदिल से इसके लिए माफी मांगता हूं। मैं आपको भरोसा दिलाना चाहता हूं कि यह मैंने दुर्भावना के चलते या समाज के किसी खास वर्ग को बुरा दिखाने के लिए नहीं किया है। ईमानदारी से कहूं तो मैं शो के नेचर के मुताबिक उसमें बह गया था। मेरा मतलब किसी भावनाओं का अपमान करना या उन्हें आहत करना नहीं था।"

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से