Home खेल क्रिकेट कैप्टन कूल धोनी ने मैदान पर खोया आपा, 50 फीसदी मैच फीस का लगा जुर्माना

कैप्टन कूल धोनी ने मैदान पर खोया आपा, 50 फीसदी मैच फीस का लगा जुर्माना

आउटलुक टीम - APR 12 , 2019
कैप्टन कूल धोनी ने मैदान पर खोया आपा, 50 फीसदी मैच फीस का लगा जुर्माना
कैप्टन कूल धोनी ने मैदान पर खोया आपा, 50 फिसदी मैच फीस का लगा जुर्माना
आउटलुक टीम

मौजूदा आईपीएल के 25वें मैच में चेन्नई सुपर किंग्स ने राजस्थान रॉयल्स पर चार विकेट से जीत दर्ज की, लेकिन साथ ही एक ऐसी घटना भी हुई जो शायद ही पहले कभी देखने को मिली हो। चेन्नै के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को आचार संहिता के उल्लंघन का दोषी पाया गया। जयपुर में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ चेन्नई सुपर किंग्स के मैच के बाद धोनी पर आचार संहिता के उल्लंघन के तहत मैच फीस का 50 फिसदी जुर्माना लगाया गया है। आईपीएल की आचार संहिता के अनुच्छेद 2.20 के तहत धोनी ने लेवल दो का अपराध स्वीकार कर लिया है। अनुच्छेद 2.20 खेल भावना के विपरीत आचरण से जुड़ा है।

सवाई मान सिंह स्टेडियम पर खेले गए इस मैच में चेन्नै ने टॉस जीता और गेंदबाजी का फैसला किया। राजस्थान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर सात विकेट पर 151 रन बनाए। चेन्नै ने 20 ओवर में छह विकेट पर 155 रन बनाकर मैच जीत लिया। चेन्नै की टीम इस सीजन में सात में से छह  मैच जीतकर अंक तालिका में शीर्ष पर है। राजस्थान के सिर्फ दो अंक हैं। वह अंक तालिका में सातवें नंबर पर है।

100 मैच जीतने वाले पहले खिलाड़ी बने धोनी

महेंद्र सिंह धोनी बतौर कप्तान आईपीएल में 100 मैच जीतने वाले पहले खिलाड़ी बने। उन्होंने आईपीएल में 166 मैचों में कप्तानी की है। उन्होंने अपनी कप्तानी में चेन्नई सुपरकिंग्स को 95 और राइंजिंग पुणे सुपरजाएंट्स को पांच मैच में जिताये हैं। इस मैच में रविंद्र जडेजा ने भी एक रिकॉर्ड बनाया। वे आईपीएल में 100 विकेट लेने वाले बाएं हाथ के पहले स्पिनर बन गये हैं।

ये था सारा विवाद

दबाव भरे हालात में भी बर्फ जैसे ठंडे रहने वाले एमएस धोनी को बहुत कम मौकों पर आपा खोते देखा गया होगा। लेकिन, कल परिस्थितियां कुछ ऐसी बनीं जब धोनी को भी मैदान पर आगबबूला होते देखा गया। दरअसल, राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ रोमांचक मैच में अंपायर ने आखिरी ओवरों में ऐसी गलती कर दी, जिसके कारण उन्हें धोनी के गुस्से का शिकार होना पड़ गया।

हुआ यूं कि रॉयल्स ने चेन्नै के सामने 152 रन लक्ष्य रखा, जिसका पीछा करते हुए आखिरी ओवर में चेन्नै को 18 रन चाहिए थे। राजस्थान की ओर से आखिरी ओवर डालने का जिम्मा बेन स्टोक्स को मिला। बेन की पहली गेंद पर रविंद्र जडेजा ने छक्का जड़ दिया। स्टोक्स ने ओवर की तीसरी गेंद पर कप्तान धोनी को आउट कर दिया। ओवर की चौथी गेंद फेंकी तो अंपायर ने पहले नो-बॉल दिया, लेकिन बाद में स्क्वायर लेग अंपायर से बात करने के बाद मना भी कर दिया। अंपायर के इस फैसले पर पहले क्रीज में मौजूद जडेजा भिड़े, फिर डग आउट में बैठे धोनी मैदान में वापस आ गए। फिर आखिर में भी अंपायर ने गेंद को नो-बॉल नहीं दिया।

धोनी की हुई काफी आलोचना

धोनी के इस रवैए पर कई पूर्व खिलाड़ियों ने उनकी आलोचना की जिनमें इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन और पूर्व ऑस्ट्रेलियाई ओपनर मार्क वॉ शामिल हैं।

वॉन ने कहा कि कोई भी कप्तान (धोनी) पिच पर नहीं आ सकता है। मुझे पता है कि यह एमएस धोनी है और वह इस देश में कुछ भी कर सकते हैं लेकिन आपको डगआउट से बाहर जाने और अंपायर पर उंगली उठाने की अनुमति नहीं है। यह पूर्ण रूप से स्वीकार्य नही है, आप एक कप्तान के रूप में उस उदाहरण को स्थापित नहीं कर सकते हैं।

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज मार्क वॉ ने धोनी के साथ अपनी निराशा व्यक्त करने के लिए ट्विटर का सहारा लिया। उन्होंने कहा कि मुझे पता है कि आईपीएल में शामिल खिलाड़ियों पर मालिकों और बड़े पैसे का दबाव है, लेकिन दो घटनाओं से मैं बहुत निराश हूं, जिनमें अश्विन और धोनी दोनो कप्तान शामिल हैं। यह बिल्कुल अच्छा नही हुआ, किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान आर अश्विन और जोस बटलर के बीच मांकडिंग विवाद की घटना का उल्लेख करते हुए उन्होने लिखा।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से