Advertisement
Home Search

Search Result : "sudhanshu gupt"

पुस्तक समीक्षा : तेरहवां महीना

आज विचारों, विचारों के मतभेदों, वैयक्तिक, सामाजिक दर्शन और इन सब से जूझते कॉमन मैन पर कहानियां लिखी और...

बीजेपी ने विपक्षी दलों पर साधा निशाना, कहा- किसी में सरकार बनाने की न क्षमता है, न ताकत

भाजपा ने गुरुवार को कांग्रेस की ‘‘भारत जोड़ी यात्रा’’ और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की...

काजोल की ये पांच दमदार फिल्में, जिन्हें आपको जरूर देखना चाहिए

काजोल हिंदी सिनेमा के आधुनिक दौर की सफल अभिनेत्री रही हैं। अपने फिल्मी करियर में उन्होंने ऐसी कई...

जन्मदिन विशेष: काजोल हिंदी सिनेमा के आधुनिक दौर की सबसे सादगी पसन्द और सशक्त अभिनेत्री

5 अगस्त को हिंदी सिनेमा की सफल अभिनेत्री काजोल का जन्मदिन होता है। काजोल का जन्म 5 अगस्त 1974 को मुंबई में...

प्याज की कीमतें कम, फरवरी तक सरसों तेल भी हो सकता है सस्ता : सरकार का दावा

प्याज और सरसों के तेल की बढ़ती हुई कीमतों पर केंद्र सरकार ने अहम बयान जारी किया है। खाद्य और सार्वजनिक...

रविवारीय विशेषः सुधांशु गुप्त की कहानी स्माइल प्लीज!

आउटलुक अपने पाठको के लिए अब हर रविवार एक कहानी लेकर आ रहा है। इस कड़ी में आज पढ़िए सुधांशु गुप्त की...

चंदा कोचर की एफआईआर पर साइन करने वाले सीबीआई अफसर का तबादला, जेटली ने दी थी नसीहत

आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व एमडी और सीईओ चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर और वीडियोकॉन समूह के वेणुगोपाल धूत...

नोटबंदी से पेटीएम की बल्ले बल्ले, दैनिक खरीद का आंकड़ा 120 करोड़ रुपये पहुंचा

नोटबंदी के बाद लोगों के गैर-नकदी लेन-देन की ओर रूख करने के चलते डिजिटल मोबाइल भुगतान सेवा मुहैया कराने वाली कंपनी पेटीएम से रोजाना 70 लाख सौदे होने लगे हैं...

कहानी - बेआवाज टूटती हैं कोंपलें

चिरगांव, झांसी, उ.प्र. में जन्म। जवाहर लाल विश्वविद्याल से पीएच.डी। कहीं कुछ और, किशोरी का आसमां, एक न एक दिन और कुल जमा बीस, ये आम रास्ताव नहीं, कितने कठघरे...

कोई है, जो सुन रहा है

‘कितने कठघरे’ रजनी गुप्त की नवीनतम पुस्तक है। यह विचलित कर देने वाली पुस्तक है। वस्तुतः यह पुस्तक है ही नहीं, मार्मिक गुहार है। कोई है, जो सुन रहा है ? इसको...


Advertisement
Advertisement