Advertisement
Home Search

Search Result : "bhawna prakashan"

पुस्तक समीक्षा : छोटी आंखों की पुतलियों में (ताइवान डायरी)

देवेश पथ सारिया की कविताओं और अनुवादों से हिंदी-साहित्य पहले से ही परिचित है। उनकी रचनाओं में जो...

पुस्तक समीक्षा : एक्स वाई का जेड

एक्स वाई का जेड वरिष्ठ गद्यकार एवं अनुवादक प्रभात रंजन के हालिया प्रकाशित कहानी संग्रह का शीर्षक है।...

पुस्तक समीक्षा: लक्खा सिंह

यह युवा लेखक विक्रम सिंह का तीसरा उपन्यास है। इससे पहले उनके चार कहानी संग्रह और दो उपन्यास 'अपना खून'...

पुस्तक समीक्षाः ढलती सांझ का सूरज

यह उपन्यास सार्थकता और सकारात्मकता की अद्भुत खोज करता आख्यान है। तमाम आशाओं, निराशाओं से गुजरते जीवन...

पुस्तक समीक्षाः हौसलों का सफर

सिविल सेवा क्षेत्र में अग्रणी संस्थान ‘दृष्टि आईएएस’ ने अपने नए उपक्रम पंख पब्लिकेशन से पहली...

पुस्तक समीक्षाः कहत कबीरन

कवियत्रियों द्वारा लिखी जा रही समकालीन हिंदी कविता के मुख्य विषय अधिकतर स्त्री-पुरुष संबंधों,...

पुस्तक समीक्षाः चांद गवाह

भारतीय समाज के बदलते परिवेश में पीढ़ी दर पीढ़ी चलने वाला निरंतर तनाव रिश्तों को अलग किस्म से गढ़ता...

पुस्तक समीक्षा : तेरहवां महीना

आज विचारों, विचारों के मतभेदों, वैयक्तिक, सामाजिक दर्शन और इन सब से जूझते कॉमन मैन पर कहानियां लिखी और...

पुस्तक समीक्षाः इंजीकरी

'इंजीकरी' प्रतिभाशाली युवा कवयित्री अनामिका अनु का पहला कविता संग्रह है। इस संग्रह के प्रकाशित होने...

निमित्त नहीं का लोकार्पण

महाभारत की स्त्रियां हमेशा से ही जिज्ञासा का विषय रही हैं। हर स्त्री की अपनी कहानी और पृष्ठभूमि है।...


Advertisement
Advertisement