Home राजनीति राष्ट्रीय दल येदियुरप्पा ने कहा- ‘मैं सीएम पद छोड़ने को तैयार’; जानें क्या है मामला

येदियुरप्पा ने कहा- ‘मैं सीएम पद छोड़ने को तैयार’; जानें क्या है मामला

आउटलुक टीम - JAN 15 , 2020
येदियुरप्पा ने कहा- ‘मैं सीएम पद छोड़ने को तैयार’; जानें क्या है मामला
येदियुरप्पा ने कहा- ‘मैं सीएम पद छोड़ने को तैयार’; जानें क्या है मामला
आउटलुक टीम

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने कहा कि वह इस्तीफा देने के लिए तैयार हैं, वह सत्ता के आदी नहीं हैं। दरअसल, मंगलवार को लिंगायतों के पंचमाली संप्रदाय से संबंधित एक संत ने मांग की कि भाजपा के विधायक मुरुगेश निरानी को मंत्रिमंडल में शामिल किया जाए, नहीं तो वे समुदाय के क्रोध का सामना करेंगे। इस बात पर मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा भड़क गए।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा लिंगायत समाज के एक कार्यक्रम में शामिल होने आए थे। मंच पर लिंगायत समाज के संत स्वामी वचनानंद भी मौजूद थे। अपने भाषण में स्वामी वचनानंद ने लिंगायत समुदाय से आने वाले भाजपा नेता मुरुगेश निरानी को मंत्री बनाने की मांग कर डाली। स्वामी वचनानंद की बात सुनकर येदियुरप्पा भड़क गए। हालांकि, लोगों और स्वामी जी के समझाने पर येदियुरप्पा मान गए। बाद में अपने भाषण में येदियुरप्पा ने अपनी मजबूरी गिनाई। येदियुरप्पा ने कहा उपचुनाव के बाद नए विधायकों को मंत्रीमंडल में शामिल नहीं करता तो कर्नाटक में बीजेपी की सरकार बननी मुश्किल थी।

पंचमाली लिंगायत आपका नहीं करेगा समर्थन

हरिहर में पंचमाली संप्रदाय के एक कार्यक्रम में, स्वामी वचनानंद ने सीएम के साथ हजारों लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि “मुरुगेश निरानी चट्टान की तरह आपके साथ खड़े हैं। उसे मंत्रिमंडल में शामिल करें, अन्यथा पंचमाली लिंगायत आपको समर्थन नहीं करेगा।”

इस बात पर उत्तेजित येदियुरप्पा तुरंत उठे और स्वामी को कहा कि उन्हें कोई खतरा नहीं है। आप सलाह दे सकते हैं लेकिन धमकी नहीं दे सकते। "स्वामी ने हालांकि जोर देकर कहा कि उनका समुदाय‘ न्याय की मांग कर रहा है।”

मैं सत्ता की आदी नहीं

गृहमंत्री बसवराज बोम्मई सहित समुदाय और भाजपा नेताओं ने सीएम को मनाने की कोशिश की। बाद में, दर्शकों को संबोधित करते हुए, येदियुरप्पा ने कहा, “कुछ मंत्रियों सहित 17 विधायकों ने बलिदान दिया और वनवास में हैं। या तो मेरे कार्यकाल के शेष तीन वर्षों को सफलतापूर्वक पूरा करने में मेरी सहायता करें, अन्यथा मैं इस्तीफा दे दूंगा क्योंकि मैं सत्ता का आदी नहीं हूं।”

हालांकि भाजपा के पास 225 सदस्यीय विधानसभा (एक नामित सदस्य सहित) में 117 सीटों का पूर्ण बहुमत है, लेकिन पार्टी द्वारा उपचुनावों में 15 में से 12 सीटें जीतने के बाद, येदियुरप्पा अपने मंत्रिमंडल का विस्तार करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। बीजेपी हाईकमान को येदियुरप्पा के सभी 11 बागी विधायकों को शामिल करने के चुनावी वादे को पूरा करना बाकी है।

मुरुगेश निरानी ने क्या कहा?

मुरुगेश निरानी ने बाद में पत्रकारों से बात करते हुए कहा, “येदियुरप्पा हमारे लिए पिता के समान हैं। अगर वह कुछ कहते हैं तो भी यह हमारे हित में होगा। '' उन्होंने यह विश्वास भी जताया कि भाजपा सरकार अपना पूरा कार्यकाल पूरा करेगी।

येदियुरप्पा ने पहले कहा था कि वह भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से परामर्श करेंगे जो 18 जनवरी को राज्य में सीएए के पक्ष में रैली को संबोधित करेंगे और फिर मंत्रिमंडल का विस्तार करेंगे।

कांग्रेस ने कसा तंज

कांग्रेस प्रवक्ता वी एस उगरप्पा ने सीएम पर तंज कसते हुए कहा, 'येदियुरप्पा एक बाघ नहीं, बल्कि एक चूहा हैं। जीतने के 24 घंटे के भीतर बागी विधायकों को शामिल करने का वादा करने के बाद, वह कुछ भी करने में सक्षम नहीं था। अगर वह राजनीतिक हताशा और अपने तरीके से असमर्थता के कारण इस्तीफा दे देंगे तो आश्चर्य नहीं होगा।”

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से