Home राजनीति राष्ट्रीय दल महंगाई पर पीएम मोदी तोड़ें चुप्पी, बुलाएं सर्वदलीय बैठकः कांग्रेस

महंगाई पर पीएम मोदी तोड़ें चुप्पी, बुलाएं सर्वदलीय बैठकः कांग्रेस

आउटलुक टीम - JAN 14 , 2020
महंगाई पर पीएम मोदी तोड़ें चुप्पी, बुलाएं सर्वदलीय बैठकः कांग्रेस
महंगाई पर पीएम मोदी तोड़े चुप्पी, बुलाएं सर्वदलीय बैठकः कांग्रेस
File Photo
आउटलुक टीम

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि देश को केंद्र की मोदी सरकार ने दो बड़े धोखे महंगाई और बेरोजगारी दिए हैं। आज महंगाई चरम पर हैं और आम आदमी का बजट बिगड़ गया है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि पीएम इस मामले पर जवाब दें और सर्वदलीय बैठक बुलाकर महंगाई कम करने का रोडमैप बताएं।

पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फेंस में कहा कि ‘शासन नहीं, विभाजन' भाजपा का नया नारा बन गया है। देश में महंगाई चरम पर पहुंच गई है। आम आदमी का बजट गड़बड़ा गया है। उन्होंने कहा कि सब्जी के दाम इस कदर बढ़ गये हैं कि वह लोगों की पहुंच से बाहर हो गयी है। गरीब आदमी के लिए जिंदगी बहुत मुश्किल हो गयी है। देश की गृहणियों के लिए और भी मुश्किल हो गयी है। कांग्रेस नेता ने कहा कि पिछले एक साल में लाखों लोगों की नौकरियां चली गयी हैं।

सिर्फ भाजपा की आय बढ़ी है 

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि आज पहली बार शायद 2012-13 के बाद महंगाई इतनी चरम सीमा पर पहुंची है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2013-14 में कहते थे 'अबकी बार महंगाई पर वार।' लेकिन वह अब चुप बैठे हैं। डायन महंगाई ने आम आदमी का बजट बिगड़ दिया है। सरकार नाकारा और निकम्मी बनी बैठी है। सरकार को आम आदमी की जिंदगी की कोई चिंता नहीं है। सिर्फ भाजपा की आय में 1400 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

मौन व्रत से जिम्मेदारी से नहीं बच सकते

सुरजेवाला ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री मोदी बताएं सब्जियों के दाम कब कम होंगे। खाद्य पदार्थों के दाम कब कम होंगे। तेलों के दाम कम करने का रोड मैप क्या है। केवल चुप्पी साध कर और मौन व्रत धारण कर प्रधानमंत्री मोदी अपनी जिम्मेदारी से हट नहीं सकते। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री तत्काल विपक्षी दलों की बैठक बुलाएं और देश को विश्वास में लें। वह बताएं कि 30 दिन में महंगाई कम करने का रोड मैप क्या है।

बता दें कि खुदरा महंगाई की दर दिसंबर, 2019 में तेजी के साथ 7.35 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गयी है। यह भारतीय रिजर्व बैंक के संतोषजनक स्तर से कहीं अधिक है।  खाद्य वस्तुओं की कीमतों में तेजी की वजह से खुदरा महंगाई में इजाफा हुआ है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से