Home राजनीति राष्ट्रीय दल आर्थिक संकट और कोरोना महामारी नियंत्रित नहीं हुआ, तो लोग पीएम मोदी का इस्तीफा मांग सकते: संजय राउत

आर्थिक संकट और कोरोना महामारी नियंत्रित नहीं हुआ, तो लोग पीएम मोदी का इस्तीफा मांग सकते: संजय राउत

आउटलुक टीम - AUG 02 , 2020
आर्थिक संकट और कोरोना महामारी नियंत्रित नहीं हुआ, तो लोग पीएम मोदी का इस्तीफा मांग सकते: संजय राउत
आर्थिक संकट और कोरोना महामारी का समाधान नहीं हुआ, तो लोग पीएम मोदी का इस्तीफा मांग सकते: संजय राउत
File Photo
आउटलुक टीम

देश में बढ़ रहे बेरोजगारी और कोरोना संकट को लेकर शिवसेना नेता संजय राउत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है। राउत ने रविवार को कहा है कि यदि नौकरी की समस्या का समाधान नहीं होता है तो देश की जनता पीएम मोदी से इस्तीफा मांग सकती है। 

पार्टी के मुखपत्र 'सामना' के साप्ताहिक कॉलम 'रोकटोक' में संजय राउत ने लिखा है कि कोरोना महामारी की वजह से 10 करोड़ लोगों ने नौकरी गंवाई है। इससे 40 करोड़ परिवारों पर असर पड़ा है। राज्यसभा सांसद राउत ने आगे कहा है कि मीडिल क्लास लोगों की नौकरी चली गई है। जबकि उद्योग जगत लगातार घाटे में चल रहा है, जो करीब 4 लाख करोड़ रूपए का है।

ये भी पढ़ें: सुशांत मर्डर केस को बिहार और महाराष्ट्र के बीच का झगड़ा ना बनाएं: महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरे

राउत ने कहा, लोगों के धैर्य की सीमा होती है। आश्वासन और आशा पर ये लोग नहीं जी सकते हैं। यहां तक कि प्रधान मंत्री इस बात से सहमत होंगे कि भले ही भगवान राम का 'वनवास' समाप्त हो गया हो, लेकिन वर्तमान स्थिति कठिन है। किसी ने भी अपने जीवन के बारे में इतना असुरक्षित महसूस नहीं किया था।

ये भी पढ़ें: महाराष्ट्र में 31 अगस्‍त तक बढ़ाया गया लॉकडाउन, जानें क्या खुलेगा क्या रहेगा बंद

राज्यसभा सांसद राउत ने कहा, "इजराइल में प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहा है। कोरोनो वायरस महामारी और आर्थिक संकट से निपटने में विफलता पर वहां की जनता उनका इस्तीफा मांग रही है। भारत भी, इस बात का गवाह बन सकता है।"

बुधवार को फ्रांस से भारत आए पांच राफेल में किए गए स्वागत को लेकर भी राउत ने तंज कसा है। उन्होंने कहा, पांच राफेल जेट विमानों की सुरक्षा के लिए अंबाला एयरफोर्स स्टेशन के आसपास धारा 144 लागू किया गया था। राफेल से पहले, सुखोई और मिग विमान देश आ चुके हैं, लेकिन ऐसा "उत्सव" कभी नहीं हुआ था।