Home राजनीति राष्ट्रीय दल गिरती अर्थव्यवस्था पर कांग्रेस का केंद्र से सवाल, पूछा- मोदी के 5 ट्रिलियन वाले वादे का क्या होगा

गिरती अर्थव्यवस्था पर कांग्रेस का केंद्र से सवाल, पूछा- मोदी के 5 ट्रिलियन वाले वादे का क्या होगा

आउटलुक टीम - SEP 11 , 2019
गिरती अर्थव्यवस्था पर कांग्रेस का केंद्र से सवाल, पूछा- मोदी के 5 ट्रिलियन वाले वादे का क्या होगा
गिरती अर्थव्यवस्था को लेकर कांग्रेस का केंद्र से सवाल, पूछा- मोदी के 5 ट्रिलियन वाले वादे का क्या होगा
File Photo
आउटलुक टीम

वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार पर गिरती अर्थव्‍यवस्‍था को लेकर केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है। उन्‍होंने केंद्र सरकार से सवाल किया कि इस तरह की अर्थव्‍यवस्‍था के सहारे भारत की अर्थव्‍यवस्‍था 5 ट्रिलियन की कैसे बनेगी, प्रधानमंत्री मोदी के उस वादे का क्‍या होगा?

इकोनॉमी 5 ट्रिलियन डॉलर पार कर पाएगी, लेकिन कैसे?

सिंघवी ने बुधवार को अपने ट्वीट में लिखा, ‘मोदी जी के ट्वीटर फॉलोअर का आंकड़ा 50 मिलियन पार कर गया है। इकोनॉमी 5 ट्रिलियन डॉलर पार कर पाएगी, लेकिन कैसे? युवाओं को नौकरी नहीं मिल रही है। इसके लिए क्‍या आप विपक्ष को जिम्‍मेदार बताएंगे। उबर, ओला ने हर चीज का बंटाधार कर दिया।’ हैशटैग Modinomics व Nirmalanomics के साथ उन्‍होंने लिखा है, ‘जो कुछ अच्‍छा किया वह हमने किया जो बुरा हुआ वो दूसरों ने किया। तब जनता ने आपको क्‍यों चुना?’

निर्मला सीतारमण के बयान पर कांग्रेस का तंज

कांग्रेस की तरफ से ये बयान तब आया जब मंगलवार को यानी एक दिन पहले चेन्‍नई में वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अर्थव्‍यवस्‍था की मंदी पर अपना पक्ष रखते हुए कहा था ऑटो-मोबाइल इंडस्ट्री प्रभावित होने का कारण आज की जनता का माइंडसेट है। उनके अनुसार, लोग गाड़ी खरीदने के बजाए ओला-उबर को तवज्जो दे रहे हैं।

कांग्रेस ने पाकिस्तान को दी नसीहत

कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने एक अन्य ट्वीट में पाकिस्तान को नसीहत देते हुए कहा, 'तुम अपनी आदतों से बाज नहीं आओगे, जल, थल, नभ, यूएन हर जगह हमसे मात खाओगे, अगर अब भी न सुधरे ए नादान पड़ोसी तो, चीन के दान से मिले कश्मीर (पीओके) को भी गंवाओगे।'

पीओके हमारा अगला एजेंडा है- जितेंद्र सिंह

इससे पहले केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा था कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) हमारा अगला एजेंडा है। यह भारत का अभिन्न अंग बनाना है। उन्होंने कहा कि 1994 में ही संसद ने संकल्प पीओके को लेकर संकल्प लिया था। उस वक्त केंद्र में नरसिम्हा राव की अगुवाई वाली कांग्रेस की सरकार थी।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से