Home » राजनीति » राष्ट्रीय दल » नोटबंदी से काला धन सफेद हुआः मनमोहन सिंह

नोटबंदी से काला धन सफेद हुआः मनमोहन सिंह

DEC 07 , 2017

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि नोटबंदी से काला धन सफेद हुआ है और बेरोजगारी बढ़ी है। देश की अर्थव्यवस्था में तेजी से गिरावट आई है। नोटबंदी लोकतंत्र और अर्थव्यवस्था के लिए आपदा भरा फैसला था।

गुरूवार को गुजरात के राजकोट में एक प्रेस कांफ्रेस में पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी से गरीब और मध्यमवर्ग की कमर टूट गई है और उद्योग जगह पूरी तरह प्रभावित हुआ। जीएसटी का पूरा फायदा चीन को मिला और आयात बढ़ गया। चीनी वस्तुओं से यहां का उद्योग पूरी तरह प्रभावित हो गया। उन्होंने मोदी सरकार के फैसलों पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि कांग्रेस जीएसटी लाना चाहती थी लेकिन मोदी सरकार से उसका ढांचा अलग था। सरकार जीएसटी को गलत ढंग से लागू किया और नोटबंदी के बाद लोगों की नौकरियां गई। रोजगार गुजरातियों की समस्या बन गया और जीडीपी गिर गया। देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह गिर गई। आज जीडीपी बढ़ने की बात की जा रही है लेकिन किस आधार पर। यूपीए में औसत विकास दर 10.6 फीसदी रही है। 

वहीं भ्रष्टाचार के मुद्दे पर उन्होंने पीएम मोदी पर पलटवार करते हुए कहा, “यूपीए के शासनकाल के दौरान जिस पर भी भ्रष्‍टाचार के आरोप लगे उनके साथ सख्‍ती से कार्रवाई की गयी लेकिन यही बात भाजपा के साथ नहीं कही जा सकती। उन्‍होंने अपनी सत्‍ता के दौरान कभी भ्रष्‍टाचार के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। मोदी सरकार की कथनी और करनी में अंतर है।“

मनमोहन सिंह ने कहा,  पीएम मोदी ने कहा कि उन्‍होंने मेरे साथ नर्मदा मुद्दे पर चर्चा की थी लेकिन मुझे इस बारे में याद नहीं कि उनसे बात भी हुई थी जबकि वे जब भी मुझसे मिलना चाहते थे मैंने कभी इंकार नहीं किया है।  उनसे मिलने को मैं हमेशा तैयार रहता था क्‍योंकि प्रधानमंत्री होने के नाते सभी मुख्‍यमंत्रियों से मिलना मेरी जिम्‍मेदारी थी। यही मेरा उसूल है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सत्ता में आई तो गुजरात के लोगों के लिए काम करेगी और घोषणा पत्र के वादों को पूरा करेगी।

बता दें कि कांग्रेस ने सूबे के विभिन्न जगहों में प्रेस कांफ्रेन्स कर मोदी सरकार को निशाने पर लिया। आरपीएन सिंह ने अहमदाबाद में, आनंद शर्मा ने वडोदरा में, रणदीप सुरजेवाला ने अहमदाबाद में प्रेस कांफ्रेन्स कर सरकार की नीतियों पर जमकर प्रहार किए।


अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.