Home » राजनीति » राष्ट्रीय दल » रिश्तेदारों को टिकट के लिए दबाव न बनाएं नेताः मोदी

रिश्तेदारों को टिकट के लिए दबाव न बनाएं नेताः मोदी

JAN 07 , 2017

मोदी ने भाजपा की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अपने समापन संबोधन में कहा कि गरीबों की सेवा भगवान की सेवा करने के बराबर है। उन्होंने यह कहने के लिए संस्कृत के एक श्लोक का इस्तेमाल किया कि उन्हें सत्ता, स्वर्ग या पुनर्जन्म का मोह नहीं है, वह तो केवल लोगों का दुख दर्द मिटाना चाहते हैं।

मोदी ने एक बार फिर चुनाव सुधारों पर जोर दिया और इस मामले में आम सहमति बनाने के लिए राजनीतिक दलों का आह्वान किया। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि भाजपा राजनीतिक चंदे को पारदर्शी बनाने में एक प्रमुख भूमिका निभाएगी और डिजिटल अर्थव्यवस्था ने एक अधिक पारदर्शी युग की शुरुआत की है।

उन्होंने कहा कि  भाजपा राजनीतिक चंदे में पारदर्शिता को आगे बढ़ाने में सबसे आगे रहेगी। जनता को यह जानने का अधिकार है कि हमारा वित्तपोषण कहां से आ रहा है। ऐसे में जब विपक्षी दल नोटबंदी के बाद भाजपा नेतृत्व पर भ्रष्टाचार के आरोप लगा रहे हैं,  मोदी ने पार्टी नेताओं से कहा कि उन्हें आलोचनाओं का स्वागत करना चाहिए लेकिन आरोपों से विचलित नहीं होना चाहिए। मोदी ने इसके साथ ही यह रेखांकित किया कि वह बहुत ही सामान्य पृष्ठभूमि से आए हैं और उन्होंने गरीबी में जीवन व्यतीत किया है। (एजेंसी)

Advertisement

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या
एपल स्टोर से

Copyright © 2016 by Outlook Hindi.