Home राजनीति राष्ट्रीय दल जब महंगाई पर विपक्षी दलों ने घेरा तो सीतारमण बोलीं- मैं इतना लहुसन-प्याज नहीं खाती हूं

जब महंगाई पर विपक्षी दलों ने घेरा तो सीतारमण बोलीं- मैं इतना लहुसन-प्याज नहीं खाती हूं

DEC 05 , 2019
जब महंगाई पर विपक्षी दलों ने घेरा तो सीतारमण बोलीं- मैं इतना लहुसन-प्याज नहीं खाती हूं
जब महंगाई पर विपक्षी दलों ने घेरा तो सीतारमण बोलीं- मैं इतना लहुसन-प्याज नहीं खाती हूं

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को कहा कि वह  ज्यादा लहसुन प्याज नहीं खातीं। वह एक ऐसे परिवार से आती हैं जहां ये दोनों सब्जियां बहुत अधिक उपयोग में नहीं हैं। निर्मला सीतारमण के इस जवाब पर सदन में ठहाके लगे।

दरअसल संसद में प्याज खाने को लेकर लोकसभा में कुछ सदस्यों के सवालों पर निर्मला सीतारमण ने कहा, 'मैं इतना लहुसन, प्याज नहीं खाती हूं जी। मैं ऐसे परिवार से आती हूं जहां अनियन से मतलब नहीं रखते।' वित्त मंत्री महाराष्ट्र के बारामती से राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) की सांसद सुप्रिया सुले के सवालों पर जवाब देने के लिए खड़ी हुईं। उसी दौरान कुछ सदस्यों ने सवाल किया कि क्या आप (निर्मला सीतारमण) प्याज खाती हैं। सदस्यों के इसी प्रश्न पर निर्मला सीतारमण ने ये जवाब दिया।

उठा प्याज किसानों का मुद्दा

एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने सदन में एनपीए और प्याज किसानों का मुद्दा उठाया था। सुप्रिया सुले ने कहा, 'मैं सरकार से प्याज के बारे में एक छोटा सा प्रश्न करना चाहती हूं। सरकार मिस्र से प्याज मंगा रही है, प्याज की व्यवस्था कर रही है, मैं सरकार के इस कदम की सराहना करती हूं। मैं महाराष्ट्र से आती हूं और महाराष्ट्र में बड़े पैमाने पर प्याज होता है, मगर मैं पूछना चाहती हूं कि प्याज का उत्पादन क्यों गिरा? हम चावल और दूध समेत बहुत सी चीजों को निर्यात करते हैं। छोटे किसान प्याज का उत्पादन करते हैं और उन्हें बचाए जाने की आवश्यकता है।'

बढ़ती कीमतों को रोकने को कदम उठाए

निर्मला सीतारमण ने जवाब दिया, 'प्याज की कीमतों की निगरानी करने वाले मंत्रियों के कुछ समूहों का मैं 2014 से हिस्सा रही हूं। जब कभी ऐसा होता है कि प्याज का उत्पादन सरप्लस हो जाता है तो सरकार किसानों को उनका उत्पादन निर्यात करने में सहायता करती है। ' वित्त मंत्री ने बताया, 'मैंने प्याज के निर्यात में 5 से 7 प्रतिशत का मदद दिए जाने को लेकर आदेश दिए हैं।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से