Home राजनीति राष्ट्रीय दल रजनीकांत ने कहा- भाजपा मेरा भगवाकरण करना चाहती है, लेकिन मैं फंसने वाला नहीं

रजनीकांत ने कहा- भाजपा मेरा भगवाकरण करना चाहती है, लेकिन मैं फंसने वाला नहीं

आउटलुक टीम - NOV 08 , 2019
रजनीकांत ने कहा- भाजपा मेरा भगवाकरण करना चाहती है, लेकिन मैं फंसने वाला नहीं
रजनीकांत ने कहा- भाजपा मेरा भगवाकरण करने की कर रही कोशिश, लेकिन मैं फंसने वाला नहीं
twitter
आउटलुक टीम

दक्षिण के फिल्म रजनीकांत ने भाजपा पर निशाना साधा है। रजनीकांत ने आरोप लगाया है कि भाजपा मुझे भगवा रंग में रंगना चाहती है लेकिन मैं उनके जाल में फंसने वाला नहीं हूं। उन्होंने कहा कि तमिल कवि तिरुवल्लुवर के साथ भी ऐसा ही करने की कोशिश की। लेकिन सच्चाई यह है कि न तो तिरुवल्लुवर और न ही मैं उनके जाल में फंसूंगा। साथ ही अयोध्या मामले पर उन्होंने लोगों से कोर्ट के फैसले का सम्मान करने और शांति बनाए रखने की अपील की।

'भगवा चोला पहनाना भारतीय जनता पार्टी का एजेंडा'

रजनीकांत ने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, 'बीजेपी मुझे भगवा रंग में रंगना चाहती है।' उन्होंने कहा कि भगवा चोला पहनाना भारतीय जनता पार्टी का एजेंडा है, लेकिन यह बेकार मुद्दा है। उन्होंने कहा कि इससे बढ़कर भी कई मुद्दे हैं जिनके ऊपर चर्चा होनी चाहिए।

तिरुवल्लुवर को भगवा चोला पहनाना भाजपा का एजेंडा

फिल्म अभिनेता कमल हासन और रजनीकांत ने चेन्नई में शुक्रवार को राज कमल फिल्म्स इंटरनेशनल के नए कार्यालय में दिवंगत फिल्म निर्देशक के. बालाचंदर की प्रतिमा का अनावरण किया। इस दौरान रजनीकांत ने कहा कि तिरुवल्लुवर को भगवा चोला पहनाना भाजपा का एजेंडा है। कुछ लोग और मीडिया यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि मैं भाजपा का आदमी हूं। यह सच नहीं है। साथ देने पर कोई भी राजनीतिक दल खुश होगा, लेकिन फैसला लेना मेरे ऊपर है।

बीजेपी के वरिष्ठ नेता पोन राधाकृष्णन से हाल ही में हुई मुलाकात और पूर्व में बार-बार पूछे जाने पर कि अभिनेता को पार्टी में शामिल होना चाहिए, इस पर रजनीकांत ने कहा कि उनके पास ऐसा कोई निमंत्रण नहीं आया है। 

भाजपा ने किया इनकार

वहीं, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव मुरलीधर राव ने कहा कि हमने कभी नहीं कहा कि रजनीकांत भाजपा में शामिल हुए हैं या नहीं चाहते हैं। भाजपा को इन अटकलों में कोई दिलचस्पी नहीं है। हमारा ध्यान अब स्थानीय निकाय चुनावों की तैयारी पर है।

अब आप हिंदी आउटलुक अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकते हैं। डाउनलोड करें आउटलुक हिंदी एप गूगल प्ले स्टोर या एपल स्टोर से